DA Image
6 दिसंबर, 2020|7:03|IST

अगली स्टोरी

योगी सरकार : दूसरे राज्यों से लौटे लोगों को रोजगार देकर यूपी में रोकने की तैयारी

 कोरोना महामारी के कारण जारी लॉक डाउन में अलग-अलग राज्यों से प्रदेश लौटे लोगों को यूपी में ही उनके स्किल के अनुसार रोजगार देकर रोकने की कवायद शुरू हो गई है। तैयारी यही है कि अपने गृह प्रदेश विशेषकर इनके ग्रामीण इलाके में ही इन्हें बुनियादी सुविधाएं मसलन शिक्षा, स्वास्थ्य एवं रोजगार या जरूरत के अनुसार काम देकर इन्हें रोका जाए। सरकार ने इसके लिए प्रदेश के शीर्षस्थ अधिकारियों की बकायदा एक उच्च स्तरीय समिति भी बना दी है जो प्रदेश के ग्रामीण क्षेत्रों से लेकर शहर से लगे ग्रामीण क्षेत्रों में  इस तरह की सम्भावनाओं के अध्ययन में जुट गई है।

कार्ययोजना के एजेण्डे में यूपी के कितने लोग अब तक वापस अपने घर लौट चुके हैं और कितने और वापस लौटने के इच्छुक हैं। इसका पता लगाकर उनके स्किल के अनुसार उन्हें काम उपलब्ध कराने की सम्भावनाओं का पता लगाने को कहा गया है।  प्रदेश से बाहर गए लोगों में से वापस आए अधिक से अधिक लोगों को यूपी में ही रोकने के लिए क्या-क्या कवायद करनी होगी और उस पर कितना धन व्यय करना होगा। इसके बारे में समिति को अपनी रिपोर्ट में उल्लेख करने के निर्देश दिए गए हैं। 

पौने दो करोड़ के आसपास है यूपी से बाहर गए प्रवासियों की संख्या-
सूत्र बताते हैं कि कामकाज और रोजगार की तलाश में यूपी से बाहर जाने वाले प्रदेशवासियों की संख्या पौने दो करोड़ के आसपास है। इनमें सबसे अधिक महानगरों विशेषकर मुम्बई, बंगलुरु, दिल्ली, कोलकाता, चेन्नई, पूणे, अहमदाबाद, बड़ौदरा, हैदराबाद तथा नागपुर समेत राजस्थान, छत्तीसगढ़, झारखण्ड तथा उड़ीसा में है।

 
ग्रामीण क्षेत्र की योजनाओं को सम्मिलित करने पर भी विचार सम्भव
स्थानीय स्तर पर ही रोजगार उपलब्ध हो इसके लिए जिस प्रकार से राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन को मनरेगा के कामों से जोड़ गया है वैसे ही कृषि, पशुपालन तथा डेयरी समेत अन्य विभागों की योजनाओं को जोड़कर एक समन्वित बहुद्देशीय योजना तैयार करने पर भी विचार किया जा रहा है।  

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:UP CM Yogi aditynath Preparation to stop employment by returning people from other states