ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News उत्तर प्रदेशकिसानों ने चंद दिनों में बना दिया बहगुल नदी पर बांध, सिंचाई का सिस्टम किया तैयार

किसानों ने चंद दिनों में बना दिया बहगुल नदी पर बांध, सिंचाई का सिस्टम किया तैयार

बरेली किसानों ने चंद दिनों में बहगुल नदी पर बांध बना दिया। किसानों ने रात-दिन काम करके 14 दिन में ही बंधे का निर्माण कर डाला। इससे किसानों को सुविधा हुई और जमीन की सिंचाई का रास्ता साफ हो गया।

किसानों ने चंद दिनों में बना दिया बहगुल नदी पर बांध, सिंचाई का सिस्टम किया तैयार
Srishti Kunjहिन्दुस्तान टीम,बरेलीSun, 12 Nov 2023 10:54 AM
ऐप पर पढ़ें

बरेली के बहेड़ी के खमरिया गांव में पश्चिमी बहगुल नदी पर किसानों ने 14 दिन में 100 मीटर लंबा कच्चा बांध बना दिया। बरेली की बहेड़ी और मीरगंज तहसील के साथ रामपुर की बिलासपुर तहसील के 80 गांवों की करीब 10 हजार हेक्टेयर जमीन की सिंचाई का रास्ता साफ हो गया। किसानों ने नदी के पानी का रुख नहर की ओर कर दिया। बहेड़ी के खमरयिा गांव में पश्चिमी बहगुल नदी पर 1905 में अंग्रेजों ने पक्का बांध बनाकर सिंचाई का सिस्टम तैयार किया था। 1924 में बांध टूट गया था। 

अंग्रेज नदी पर कच्चा बांध बनाकर किसानों को सिंचाई की सुविधा देते थे। आजादी के बाद भी कच्चे बांध के निर्माण की जिम्मेदारी सरकार निभाती रही। उसके बाद सरकार ने कच्चा बांध बनाना बंद कर दिया। 2016 से किसान श्रमदान और चंदा करके कच्चे बांध का निर्माण करते हैं। पिछले महीने 27 अक्तूबर को किसानों को सिंचाई विभाग ने सशर्त कच्चे बंधे के निर्माण की अनुमति दी थी। किसानों ने रात-दिन काम करके 14 दिन में ही बंधे का निर्माण कर डाला। 

पंचायत के सामने हाथ-पैर जोड़ नाराज पत्नी को लाया घर, 10 दिन बाद हत्या, बोला- गुटखा खाती थी

इतने कम समय में 100 मीटर लंबे बंधे के निर्माण से सिंचाई विभाग के अधिकारी भी भौचक रह गए। किसानों ने पूर्व विधायक जगदीप सिंह बरार की अगुवाई में प्रशासनिक अधिकारियों से मुलाकात कर बांध के कंप्लीट होने की जानकारी दी। जल शक्ति मंत्री ने खमरिया में पक्का बांध बनवाने का ऐलान किया था। हालांकि अभी पक्का बांध प्रोजेक्ट पर काम आगे नहीं बढ़ सका है।

20 के बाद सिंचाई विभाग को हैंडओवर किया जाएगा
किसान 20 नवंबर के बाद सिंचाई विभाग के हवाले कच्चे को बांध को कर देंगे। सिंचाई विभाग नहरों का संचालन खुद करेगा। 15 जून को कच्चा बांध काट दिया जाएगा।