ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News उत्तर प्रदेशशादी के 30 साल बाद पासपोर्ट बनवा रही महिला उत्तर प्रदेश में गिरफ्तार, जानिए क्यों?

शादी के 30 साल बाद पासपोर्ट बनवा रही महिला उत्तर प्रदेश में गिरफ्तार, जानिए क्यों?

यूपी के बरेली में पासपोर्ट के लिए आवेदन करने के बाद देवरनियां के उदयपुर गांव में शादी करके 30 साल से रह रही एक बांग्लादेशी हिंदू महिला का राज खुल गया। पुलिस ने उसे गिरफ्तार करके जेल भेज दिया है।

शादी के 30 साल बाद पासपोर्ट बनवा रही महिला उत्तर प्रदेश में गिरफ्तार, जानिए क्यों?
Srishti Kunjहिन्दुस्तान टीम,बहेड़ीWed, 06 Dec 2023 02:14 PM
ऐप पर पढ़ें

बरेली के बहेड़ी में शादी के 30 साल बाद पासपोर्ट के लिए आवेदन करने पर बांग्लादेश से अवैध तरीके से भारत में आकर बस गई एक 55 साल की हिन्दू महिला को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। देवरनियां के उदयपुर गांव में शादी करके रह रही बांग्लादेशी महिला का राज खुलते ही पुलिस में हड़कंप मच गया। पुलिस ने उसे जेल भेज दिया है। महिला के खिलाफ अवैध रूप से भारत में रहने का मुकदमा दर्ज किया गया है। पुलिस के मुताबिक बांग्लादेश के जिला जेस्सोर थाना सारसा पोस्ट जोधोपुर के ग्राम बेड़ी नारायणपुर नाझरन निवासी केशव दास की पुत्री अनिता दास 30 साल पहले किसी तरह अवैध रूप से भारत आ गई थी। यहां अनिता ने देवरनियां के गांव उदयपुर में रहने वाले मंगल सेन से शादी कर ली और बतौर पत्नी उसके साथ रहने लगी।

बांग्लादेश में बीमार मां-बाप को देखने के लिए जाने के मकसद से कुछ समय पहले अनिता दास ने पासपोर्ट बनाने के लिए आवेदन कर दिया था। इसमें उसने स्थानीय पते के साथ ही अपना बांग्लादेश का पता भी लिख दिया। पासपोर्ट में जन्म स्थान का कॉलम होता है और लगता है कि अनिता ने अपना सही जन्म स्थान बता दिया था। पासपोर्ट आवेदन की जांच पड़ताल में उसके बांग्लादेशी होने की बात सामने आने पर पुलिस में खलबली मच गई। इसके बाद खुफिया इकाइयों और पुलिस टीम ने घर पहुंचकर उसे हिरासत में ले लिया। 

लड़की को बहलाकर शहर से बाहर ले गए युवक, रेप कर धर्मांतरण को किया मजबूर

गहन पूछताछ के बाद उसके खिलाफ भारत में अवैध रूप से रहने का मुकदमा दर्ज कर सोमवार को मजिस्ट्रेट के समक्ष पेश किया गया। गांव के लोगों का कहना है कि अनिता के बांग्लादेशी होने के बारे में पुलिस को कोई भनक नहीं थी। शादी करके करीब 30 साल से वह इसी गांव में रह रही थी। यहां उसे पांच बच्चे भी हुए। गांव वालों को लगता था कि वो पश्चिम बंगाल की है। पुलिस को पासपोर्ट आवेदन से बांग्लादेशी होने की जानकारी हुई तो महिला के खिलाफ कार्रवाई करते हुए उसे गिरफ्तार किया।