ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News उत्तर प्रदेश4 लाख गांव के भक्तों के योगदान से हो रहा अयोध्या राम मंदिर निर्माण, हर महीने आता एक करोड़ का चंदा

4 लाख गांव के भक्तों के योगदान से हो रहा अयोध्या राम मंदिर निर्माण, हर महीने आता एक करोड़ का चंदा

अयोध्या राम मंदिर निर्माण जारी है। इसे राष्ट्रमंदिर बनाने की कवायद चल रही है। इसके निर्माण के लिए 4 लाख गांव के भक्तों का योगदान काम आ रहा। हर महीने मंदिर के दान पात्र में एक करोड़ का चंदा आता है।

4 लाख गांव के भक्तों के योगदान से हो रहा अयोध्या राम मंदिर निर्माण, हर महीने आता एक करोड़ का चंदा
Srishti Kunjस्वरमिल चंद्रा,अयोध्याWed, 15 Nov 2023 07:05 AM
ऐप पर पढ़ें

अयोध्या श्रीरामजन्मभूमि पर बन रहे भव्य मंदिर का वर्तमान स्वरूप देश के चार लाख गांव के रामभक्तों के योगदान से तैयार हो गया है। दिसंबर तक भूतल व प्रथम तल का निर्माण पूरा हो जाएगा। खास ये है कि देश के चार लाख से अधिक गांव से आई छोटी-छोटी धनराशि से ही भूतल व प्रथम तल का अधिकांश भाग बनकर तैयार हो गया है। वहीं दर्जनों रामभक्तों ने भी चार कुंतल सोना चांदी के रूप में अपना योगदान दिया है। इसे अब तक उपयोग में नहीं लाया जा सका है।

बताया जाता है कि सोना चांदी का किस तरह से उपयोग होना है उस पर अभी सहमित नहीं बन पाई है। वहीं पिछले दिनों राममंदिर निर्माण समिति के चेयरमैन नृपेंद्र मिश्र ने भी बताया कि राममंदिर के निर्माण के लिए आई सहयोग राशि छोटी-छोटी धनराशि के रूप में आई है, यह धनराशि चार लाख से अधिक गांव से आम जनमानस ने समर्पण निधि के रूप में दी है।

यूपी के 3600 से अधिक अस्पतालों में अब होगा मुफ्त इलाज, योगी सरकार का निर्देश

अभियान में ही जमा हुए तीन हजार करोड़
विश्व हिन्दू परिषद की ओर से 15 जनवरी से 27 फरवरी 2021 तक राममंदिर निर्माण के लिए एक विशेष वृहद अभियान चलाया था। इस दौरान नौ लाख से अधिक कार्यकर्ताओं ने देशभर में अभियान छेड़कर घर-घर पहुंचने की कोशिश की थी। इस दौरान दस, 100 व एक हजार रुपये के कूपन तीर्थ क्षेत्र ने जारी किए थे। इस अभियान के लिए तत्कालीन राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने 5 लाख रुपये का चेक देकर समर्पण की शुरुआत की थी। अभियान की समाप्ति के बाद श्रीरामजन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र द्वारा यह बताया गया था कि राममंदिर निर्माण को तीन हजार करोड़ से अधिक की धनराशि जमा की गई थी।

राष्ट्रमंदिर बनाने की कवायद
पांच सौ वर्षो के इंतजार के बाद बन रहा यह मंदिर धीरे-धीरे खुद ब खुद राष्ट्रीय स्वरूप लेता जा रहा है। देश दुनिया के 155 देशों का जल इसके लिए पहले ही समर्पित किया जा चुका है। देश के पवित्र नदियों के जल मिट्टी नींव में पूजित हो चुके हैं। गांव-गांव से आए चंदे से निर्माण हो रहा है। देश के पांच लाख गांव में पूजित अक्षत भी भेजा गया है। हर गांव के मंदिरों में प्राण प्रतिष्ठा के दिन उत्सव मनाने का आह्वान किया गया है। वहीं राममंदिर में हर जाति, वर्ग, सम्प्रदाय का योगदान लगे उसे वह उसका मंदिर लगे इसकी कवायद में संघ परिवार जुटा है।

हर महीने दान पात्र में एक करोड़ का चंदा
राममंदिर में कई स्रोतों से पैसा आता है। ऑणलाइन, चेक के माध्यम से, दानपात्र में एवं विदेशी रामभक्तों के द्वारा यह समर्पण आता है। श्रीरामजन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र के कार्यालय प्रभारी प्रकाश गुप्ता कहते हैं कि रामभक्त यहां रामलला के दर्शन के समय दानपात्र व चढ़ावे के रूप में औसतन हर महीने एक करोड़ रुपये की धनराशि एकत्र होती है। इसी तरह से तीर्थ क्षेत्र के खातों में भी किसी महीने पचास लाख तो किसी महीने एक करोड़ रुपये तक की धनराशि एकत्र होती है। इसके अलावा विदेशी भक्तों के लिए दिल्ली में एक अकाउंट खोला गया है।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें