ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News उत्तर प्रदेशराम की चौखट पर पहुंचे सत्ता शीर्ष, हाजिरी ने रचा इतिहास, ये तारीखें बनीं खास

राम की चौखट पर पहुंचे सत्ता शीर्ष, हाजिरी ने रचा इतिहास, ये तारीखें बनीं खास

अयोध्या में राम की चौखट पर सत्ता शीर्ष की हाजिरी ने इतिहास रचा। एक, पांच और 10 मई 2024 की तारीख राम नगरी कभी नहीं भूल पाएगी। राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू, पीएम मोदी और उपराष्ट्रपति रामलला के दर्शन किए।

राम की चौखट पर पहुंचे सत्ता शीर्ष, हाजिरी ने रचा इतिहास, ये तारीखें बनीं खास
Srishti Kunjहिन्दुस्तान टीम,अयोध्याMon, 13 May 2024 08:54 AM
ऐप पर पढ़ें

अयोध्या श्रीराम जन्मभूमि पर करीब 500 साल बाद भव्य, दिव्य और विशाल परिसर में राममंदिर बनकर तैयार हुआ। हालांकि मंदिर का शिखर अभी बन रहा है लेकिन प्राण प्रतिष्ठा के बाद से अब तक जहां लाखों राम भक्त दर्शन कर आह्लादित हो चुके हैं। वहीं राम की चौखट पर देश का सत्ता शीर्ष भी अपना शीर्ष की हाजिरी ने भी एक एतिहास रच दिया है। रामलला के प्राण प्रतिष्ठा के बाद से 22 जनवरी, एक, पांच और 10 मई यह वह तारीखें हैं, जिन्हें अयोध्या के लोग कभी नहीं भूल पाएंगे।

जनवरी 2024 से अब तक राममंदिर में अति विशिष्ट हस्तियों का अयोध्या धाम में आगमन होना कभी भुलाया नहीं जा सकता है। सैकड़ों साल की प्रतीक्षा के बाद जन्मभूमि पर बनकर तैयार हुए राममंदिर में दर्शन का सिलसिला तो जारी है, लेकिन खास बात यह है कि देश की महान शख्सियतों ने भगवान राम के दरबार में शीष नवाकर अपना जीवन धन्य कर चुके हैं लेकिन अयोध्या के लिए एक, पांच और 10 मई की तारीखें वह यादगार हैं, जब देश के प्रधानमंत्री से लेकर उप राष्ट्रपति तक ने रामलला का दर्शन किया। 

अयोध्या राम मंदिर में आठ द्वारों का होगा निर्माण, सप्त मंडप के फाउण्डेशन का काम तेज

एक मई को राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू ने रामलला का दर्शन किया और सरयू की आरती में शामिल हुईं। पांच मई को लोकसभा चुनाव के लिए अयोध्या धाम में रोड शो के पहले रामलला का तीसरी बार दर्शन किया। वहीं 10 मई को भारत के उपराष्ट्रपति जगदीप धनखड़ ने सपरिवार अयोध्या पहुंचकर रामलला का दर्शन पूजन किया।

सुप्रीम कोर्ट के निर्णय के बाद राममंदिर का निर्माण शुरू हुआ। अयोध्या विवाद में अंतिम निर्णय नौ नवंबर 2019 को भारत के सुप्रीम कोर्ट द्वारा घोषित किया गया था। राम मंदिर का शिलान्यास पांच अगस्त 2020 को हुआ था। पांच फरवरी 2020 को, केंद्र सरकार ने श्री रामजन्मभूमि तीर्थक्षेत्र नामक ट्रस्ट का गठन किया, जिसके अध्यक्ष महंत नृत्य गोपाल दास बने। 

22 जनवरी 2024 को प्राण प्रतिष्ठा हुई जिसमें प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी, सीएम योगी आदित्यनाथ, आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत, कई राज्यों के मुख्यमंत्री, राज्यपाल के अलावा देश के सबसे बड़े उद्योगपति मुकेश अंबानी से लेकर महानायक अमिताभ बच्चन, रजनीकांत तक दर्जनों अन्य फिल्मी दुनिया के नामी गिरामी कलाकार रामलला का दर्शन कर चुके हैं।