ट्रेंडिंग न्यूज़

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ उत्तर प्रदेशअपर्णा के भाजपा में जाने की खबरें, अखिलेश यादव ने तोड़ी चुप्पी; जानें क्या बोले

अपर्णा के भाजपा में जाने की खबरें, अखिलेश यादव ने तोड़ी चुप्पी; जानें क्या बोले

मुलायम सिंह यादव की बहू अपर्णा यादव के भाजपा में जाने की अटकलों के बीच सपा प्रमुख अखिलेश यादव का बयान सामने आया है। उन्होंने कहा कि ये उनके परिवार की बात है और सब ठीक है। उन्होंने भाजपा पर भी तंज कसा...

अपर्णा के भाजपा में जाने की खबरें, अखिलेश यादव ने तोड़ी चुप्पी; जानें क्या बोले
Gaurav Kalaलाइव हिन्दुस्तान,लखनऊMon, 17 Jan 2022 04:41 PM

इस खबर को सुनें

0:00
/

मुलायम सिंह यादव की बहू अपर्णा यादव के भाजपा में जाने की अटकलों के बीच सपा प्रमुख अखिलेश यादव का बयान सामने आया है। उन्होंने कहा कि ये उनके परिवार की बात है और सब ठीक है। उन्होंने भाजपा पर भी तंज कसा और कहा कि उन्हें हमारे परिवार की ज्यादा चिंता लगती है, चुनाव में किए जा रहे सारे षड़यंत्र वे सफल नहीं होने देंगे।

उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव के तारीखें जैसे-जैसे नजदीक आ रही है, नेताओं के दल-बदल का दौर भी तेज हो गया है। हाल ही के दिनों में कई नेता और सिटिंग विधायक स्‍वामी प्रसाद मौर्य, डॉ. धर्म सिंह सैनी और दारा सिंह चौहान समेत कई विधायकों ने भाजपा से सपा का रुख किया तो कई दूसरे नेताओं ने अपनी-अपनी महत्वकांक्षा को देखते हुए पार्टी बदली। इसी बीच एक खबर जो सबसे ज्यादा चौंकाने वाली रही अखिलेश के घर से। नेताजी यानि मुलायम सिंह यादव की छोटी बहू और अखिलेश के छोटे भाई प्रतीक की पत्नी अपर्णा यादव के भाजपा में शामिल होने की अटकलें हैं। इन सूचनाओं पर विराम लगाते हुए सपा प्रमुख अखिलेश यादव का कहना है कि ये उनके परिवार का मामला है और सब ठीक है।

अपर्णा यादव के भाजपा में शामिल होने की खबरों को भ्रामक बताते हुए अखिलेश ने कहा कि भाजपा को हमारे परिवार की ज्यादा चिंता है, लेकिन इसकी कोई जरूरत नहीं है। उत्तर प्रदेश चुनाव के लिए बड़े-बड़े षडयंत्र और साजिश की जा रही हैं। लेकिन वे इसमें सफल नहीं होंगे।

इससे पहले रविवार को प्रगतिशील समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष शिवपाल सिंह यादव ने अपर्णा यादव से मुलाकात की थी और सपा से ही चुनाव लड़ने की सलाह दी थी। शिवपाल ने कहा कि वह पहले पार्टी के लिये काम करें, फिर कोई उम्मीद करें। साथ ही कहा था कि उनको समाजवादी पार्टी में ही रहना चाहिए।

epaper