ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News उत्तर प्रदेशदो साल से फरार 25 हजार का ईनामी बदमाश गिरफ्तार, थाने में रुपये मांगने पहुंची भीड़

दो साल से फरार 25 हजार का ईनामी बदमाश गिरफ्तार, थाने में रुपये मांगने पहुंची भीड़

अलीगढ़ में यूपी पुलिस ने दो वर्ष से फरार 25 हजार के ईनामी आरोपी को गिरफ्तार कर लिया। सिविल लाइन थाने में रविवार को पकड़ा गया ठगी करने का आरोपी पहुंचा तो रुपये वापस मांगने वालों की भीड़ लग गई।

दो साल से फरार 25 हजार का ईनामी बदमाश गिरफ्तार, थाने में रुपये मांगने पहुंची भीड़
Srishti Kunjहिन्दुस्तान टीम,अलीगढ़Mon, 27 May 2024 11:40 AM
ऐप पर पढ़ें

अलीगढ़ में दो वर्ष से फरार चल रहे 25 हजार के ईनामी बदमाश को यूपी पुलिस ने रविवार को गिरफ्तार कर लिया। जमीनों की खरीद-फरोख्त में ठगी के तमाम पीड़ित गिरफ्तारी की सूचना मिलते ही थाने पहुंच गए और अपने रुपये वापिसी की मांग करने लगे। पुलिस ने अदालत की मदद लिए जाने की बात समझाते हुए सभी को वापिस भेजा।

पुराने वांछित अपराधियों की गिरफ्तारी को लेकर चल रहे अभियान के क्रम में सर्विलांस की मदद से अलीगढ़ की सिविल लाइंस पुलिस ने 2 साल से फरार 25 हजार के इनामी आमिर खान निवासी ए1,ए2 प्रथम तल अल्लमा इकबाल अपार्टमेन्ट नगला मल्लाह को दबोचा है। यह वर्तमान में श्यामखेत थाना भवाली नैनीताल उत्तराखंड में रह रहा था। उसके खिलाफ अदालत से वारंट जारी थे। उस पर सिविल लाइंस में ही धोखाधड़ी के तीन मुकदमे दर्ज हैं, जिन पर इनाम घोषित किया गया था। 

लिफ्ट लेकर गले पड़ी लड़की, पुलिस के पास पहुंची शादी करवाने, कहा- यही है मेरा...

पुलिस को उसके अलीगढ़ में होने की खबर मिली तो टीम उसे पकड़ने निकल गई। मुठभेड़ के बाद पुलिस ने उसे गिरफ्तार कर लिया। इधर, उसकी गिरफ्तारी की सूचना मिलते ही उससे पीड़ित सभी थाने पहुंच गए। जमीन दिलाने व नौकरी लगवाने के नाम पर ठगी के कई पीड़ित थाने पहुंच गए। उन्होंने अपने रुपये वापसी की मांग रखी। जिन्हें पुलिस ने समझाकर वापस किया। पुलिस का कहना है कि अदालत में सभी को केस दर्ज करवाने होंगे इसके बाद कार्रवाई होगी।

पुलिस ने बताया कि वांछित अपराधी पर इनाम घोषित था। लंबे समय से उसकी तलाश जारी थी। पुलिस उसे खोजने में लगी थी। जानकारी मिलते ही उसे गिरफ्तार किया गया। अब कोर्ट में उसकी पेशी की जाएगी जिसके आधार पर केस और धाराएं दर्ज होंगी। इसके बाद सजा दी जाएगी। पीड़ितों की रकम वापसी के लिए भी कोर्ट में सुनवाई के बाद अदालत ही फैसला लेगी।