ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News उत्तर प्रदेशग्राम पंचायतों में अब किसान पाठशाला, सरकारी योजनाओं के प्रति होंगे जागरूक

ग्राम पंचायतों में अब किसान पाठशाला, सरकारी योजनाओं के प्रति होंगे जागरूक

आज से ग्राम पंचायतों में किसान पाठशाला होगी। किसान प्राकृतिक खेती और मृदा स्वास्थ्य के बारे में भी जानेंगे। इन किसान पाठशाला में किसानों को सरकार की योजनाओं के प्रति जागरूक किया जाएगा।

ग्राम पंचायतों में अब किसान पाठशाला, सरकारी योजनाओं के प्रति होंगे जागरूक
Srishti Kunjहिन्दुस्तान टीम,अलीगढ़Mon, 27 May 2024 11:08 AM
ऐप पर पढ़ें

अलीगढ़ कृषि निदेशालय के आदेश पर आज सोमवार से प्रदेश के सभी जनपदों में किसान पाठशाला का आयोजन किया जाएगा। पाठशाला के माध्यम से कृषकों को खेती-किसानी से जुड़ी विभिन्न नवीन तकनीकी जानकारी के साथ सरकार की योजनाओं से भी अवगत कराया जाएगा। पाठशाला में प्रगतिशील किसान अपने अनुभव साझा करेंगे।

उप कृषि निदेशक यशराज सिंह ने बताया कि प्रथम चरण में इतने जनपदों में कृषि पाठशाला शुरु होने जा रही है। कृषि विभाग के कर्मचारियों की ट्रेनिंग पूरी हो चुकी है। 104 कर्मचारियों को इसकी जिम्मेदारी सौंपी गई है। ग्राप पंचायत स्तर पर कृषि पाठशाला का आयोजन किया जाएगा। कार्यक्रम 27 मई से लेकर 6 जून तक सतत चलाया जाएगा। इस पाठशाला में न सिर्फ फसल उत्पादन बढ़ाने के गुर बताए जायेंगे बल्कि बाजार की मांग के अनुसार फसलों का चुनाव करने तरीका भी बताया जाएगा। 

अयोध्या राम मंदिर से सप्तर्षि मंदिर तक पहुंचने के लिए नया रास्ता बनाने पर मंथन

खेती किसानी के अलावा किसानों को पशुपालन, नैनो यूरिया की उपयोगिता, फसल बीमा योजना, कृषि यंत्र, कृषक उत्पादक संगठन से भी अवगत कराया जाएगा। इसके अलावा मृदा स्वास्थ्य में सुधार के लिए जागरूक किया जाएगा। पाठशाला में प्रगतिशील किसानों को आमंत्रित किया गया है। ये किसान अपने अनुभव साझा कर अन्य किसानों को प्रोत्साहित करेंगे। इसके साथ पराली प्रबंधन, आपदा प्रबंधन, प्राकृतिक खेती के सिद्धांत, दलहन, तिलहन, मक्का उत्पादन तकनीकी, श्री अन्न के महत्व, उपयोगिता, वर्गीकरण, उत्पादन तकनीकी के बारे में बताया जाएगा। इसके साथ किसानों के लिए सरकार द्वारा बनाई गई योजनाओं की जानकारी साझा की जाएगी।

104 गांवों में लगेगी पाठशाला
उप कृषि निदेशक यशराज सिंह ने बताया कि किसानों की पाठशाला दोपहर ढाई बजे से शुरु होगी, जो शाम साढ़े पांच बजे तक चलेगी। सभी ब्लॉक के गांवों में पचायती भवनों में पाठशाला का आयोजन किया जाएगा। कृषि विभाग के प्रशिक्षण पाए हुए कर्मचारी पाठशाला में किसानों को संबोधित कर कार्यक्रम की शुरुआत करेंगे। इस दौरान कृषि अधिकारी भी गांवों में भ्रमण कर पाठशाला की मॉनिटरिंग करेंगे।