ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News उत्तर प्रदेशबसपा नेता को मिला धमकी भरा पत्र, रंगदारी की मांग के साथ हत्या की धमकी

बसपा नेता को मिला धमकी भरा पत्र, रंगदारी की मांग के साथ हत्या की धमकी

अलीगढ़ के बसपा नेता व पूर्व मेयर प्रत्याशी सलमान शाहिद को जान से मारने की धमकी देते हुए रंगदारी मांगने का पत्र मिला है। बात नहीं मानने पर हत्या करवाने की धमकी दी गई है। पुलिस में शिकायत दर्ज करवाई।

बसपा नेता को मिला धमकी भरा पत्र, रंगदारी की मांग के साथ हत्या की धमकी
Srishti Kunjहिन्दुस्तान टीम,अलीगढ़Wed, 01 May 2024 08:03 AM
ऐप पर पढ़ें

अलीगढ़ के बसपा नेता व पूर्व मेयर प्रत्याशी सलमान शाहिद को मैनपुरी के आशु यादव नाम से जान से मारने की धमकी देते हुए रंगदारी मांगने का पत्र मिला है। बात नहीं मानने पर हत्या करवाने की धमकी दी गई है। इस मामले में थाना सिविल लाइन में मुकदमा दर्ज कराया गया है। अहमद नगर दोदपुर सिविल लाइंस निवासी बसपा नेता सलमान शाहिद पूर्व समाजवादी के प्रदेश स्तरीय नेता रहे। निकाय चुनाव में बसपा की टिकट पर मेयर का चुनाव लड़ा था। सोमवार दोपहर उनके आवास पर डाक के जरिये दो पत्र आए। 

एक पत्र अन्य काम से संबंधित था, जबकि दूसरा पत्र मैनपुरी आवास विकास निवासी आशु यादव के नाम से उनको संबोधित था। लिफाफा बंद पत्र को जब खोलकर पढ़ा गया तो उसमें एक टाइप पत्र मिला। जिसमें बसपा नेता से अभद्र भाषा का प्रयोग करते हुए उनके द्वारा किए जाने वो समाजसेवा के कार्यों पर ऊंगली उठाते हुए रंगदारी देने को लिखा गया। वहीं अगर ऐसा नहीं किया तो हत्या की धमकी तक दी गई। पत्र में लिखा है कि आगे जल्द ही जगह बताकर रुपया भेजने की बात उल्लेखित है। यह पत्र पढ़कर सलमान दंग रह गए। 

ये भी पढ़ें: पति-पत्नी में इतना बढ़ा झगड़ा की बच्चों के सामने बीवी को उतारा मौत के घाट, मरने तक पीटता रहा

उन्होंने तत्काल पुलिस के वरिष्ठ अधिकारियों को अवगत कराया और मामले में सिविल लाइंस में तहरीर दी गई। इंस्पेक्टर सिविल लाइंस राजीव कुमार के अनुसार इस मामले में मुकदमा दर्ज कर लिया गया है। पुलिस मामले की जांच में जुट गई है। चुनावी माहौल के बीच धमकी भरे पत्र से हड़कंप मच गया है। प्राप्त हुई डाक के आधार पर आगे जांच की जा रही है। ये पहला वाकया नहीं है। इससे पहले वर्ष 2018 में सलमान पर सहावर कासगंज में हमला हुआ था। उसका मुकदमा वहीं दर्ज हुआ था। इसी तरह एक अन्य धमकी का मामला उन्होंने सिविल लाइंस में ही दर्ज कराया गया था।