ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News उत्तर प्रदेशएएमयू के पूर्व छात्र राशिद अली के साथ पुलिस का एनकाउंटर, पैर में लगी गोली, कई केस में वांटेड

एएमयू के पूर्व छात्र राशिद अली के साथ पुलिस का एनकाउंटर, पैर में लगी गोली, कई केस में वांटेड

अलीगढ़ के एएमयू में मुठभेड़ में 25 हजार का इनामी शातिर गिरफ्तार हुआ। एएमयू का पूर्व छात्र राशिद अली बिहार के पूर्वी चम्पारण का रहने वाला है। सीएए बवाल, एएमयू में फायरिंग सहित कई केस में वांटेड है।

एएमयू के पूर्व छात्र राशिद अली के साथ पुलिस का एनकाउंटर, पैर में लगी गोली, कई केस में वांटेड
Srishti Kunjहिन्दुस्तान टीम,अलीगढ़Mon, 29 Apr 2024 09:52 AM
ऐप पर पढ़ें

अलीगढ़, एएमयू कैंपस में फायरिंग, सीएए-एनआरसी बवाल सहित कई मुकदमों में वांछित 25 हजार के ईनामी बदमाश एएमयू के पूर्व छात्र को पुलिस ने शनिवार देर रात मुठभेड़ में दबोच लिया। मुठभेड़ में दोनों तरफ से हुई फायरिंग में ईनामी बदमाश के पैर में गोली भी लगी। पुलिस को काफी दिनों से इसकी तलाश थी। एएमयू की सेंट्रल कैंटीन पर पिछले वर्ष छात्र गुटों में झगड़े के दौरान फायरिंग, मेडिकल कॉलेज में कैंटीन संचालक पर रंगदारी के लिए फायरिंग करने और पिछले दिनों मेडिकल छात्रा को गोली मारने की घटना में मूलरूप से चंपारण बिहार मिडिल स्कूल के सामने निवासी राशिद फरार चल रहा था। 

जिला पुलिस ने इस पर 25 हजार रुपये का ईनाम भी घोषित किया हुआ था। शनिवार की देर रात मुखबिर की सूचना पर सर्विलांस की मदद से स्वाट-सर्विलांस टीम ने एएमयू वाइल्ड लाइफ साइंस विभाग की बाउंड्री गेट के पास ईनामी बदमाश को घेर लिया गया। इस दौरान मुठभेड़ में दोनों ओर से फायरिंग हुई। जिसमें पैर में गोली लगने से राशिद जख्मी हो गया। आनन-फानन में उसे मेडीकल कॉलेज ले जाया गया। मौके से तमंचा, कारतूस के अलावा एक बाइक बिना नंबर प्लेट की बरामद हुई। मेडिकल उपचार और परीक्षण आदि के बाद दोपहर में उसे रिमांड मजिस्ट्रेट के समक्ष पेश किया गया। जहां से उसे जेल भेज दिया गया। इस गिरफ्तारी टीम में इंस्पेक्टर सिविल लाइंस राजीव कुमार, सर्विलांस प्रभारी इंस्पेक्टर नरेंद्र यादव व स्वाट प्रभारी इंस्पेक्टर बीडी पांडेय व उनकी टीम का सहयोग रहा।

तमंचे पर डिस्को करते हुए झोंका फायर, अपने हाथ में ही चली गोली, दो घायल

इंटर की पढ़ाई करते हुए जरायम की दुनिया में रखा था कदम
गिरफ्तार ईनामी बदमाश राशिद एएमयू का पूर्व छात्र है। जिस समय वह एएमयू से इंटर की पढ़ाई कर रहा था, तभी जरायम की दुनिया में कदम रख दिया था। उस पर पहला मुकदमा वर्ष 2016 में दर्ज हुआ था। वह कभी आरएम हॉल और कभी सुलेमान हाल में शरण लेता रहा था।

2016 से दर्ज हैं मुकदमे
पुलिस के अनुसार राशिद जख्मी पर कुल आठ मुकदमे सिविल लाइंस में दर्ज हैं। सबसे पहले तीन मुकदमे वर्ष 2016 में प्रॉक्टर कार्यालय पर हुए उपद्रव व कैंपस में आगजनी आदि से जुड़े हैं। उन तीन मुकदमों के बाद 2019 में सीएए-एनआरसी विरोधी उपद्रव के मुकदमे में भी उसका नाम शामिल है। फिर लगातार तीन मुकदमे 2022 में सेंट्रल कैंटीन पर छात्र गुट पर फायरिंग, मेडिकल कैंटीन संचालक पर रंगदारी मांगने पर फायरिंग और तीसरा मेडिकल छात्रा को लाइब्रेरी के बाहर गोली लगने की घटना के है।

एएमयू, डिप्टी प्रॉक्टर, अली नवाज जैदी ने कहा कि राशिद एएमयू का पूर्व छात्र रहा है। जिस समय प्रॉक्टर कार्यालय में आगजनी आदि के मुकदमे दर्ज हुए थे, तब वह इंटर की पढ़ाई कर रहा था। वर्तमान में वह छात्र है या नहीं, यह दिखवाया जा रहा है।