ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News उत्तर प्रदेशथैला लेकर चोरी करने गए मिलीं इतनी गड्डियां की गठरी बांधी, फिर भी छूटे लाखों, दोस्तों को बांटने पड़े

थैला लेकर चोरी करने गए मिलीं इतनी गड्डियां की गठरी बांधी, फिर भी छूटे लाखों, दोस्तों को बांटने पड़े

आगरा में हुई चोरी की वारदात का चौंकाने वाला खुलासा हुआ। चोरों को अनुमान से इतनी ज्यादा नोटों की गड्डियां मिलीं कि थैले में नोट न समा सके तो गठरी में बांध ली। परिचितों को बांटीं और सोना भी खरीद लाए।

थैला लेकर चोरी करने गए मिलीं इतनी गड्डियां की गठरी बांधी, फिर भी छूटे लाखों, दोस्तों को बांटने पड़े
Srishti Kunjहिन्दुस्तान टीम,आगराThu, 02 May 2024 09:28 AM
ऐप पर पढ़ें

आगरा शहर में बीते दिनों हुई चोरी की वारदात का बुधवार को चौंकाने वाला खुलासा हुआ है। वारदात अंजाम देने पहुंचे चोरों को अनुमान से इतनी ज्यादा नोटों की गड्डियां मिलीं कि बौरा गए। थैले में नोट न समा सके तो गठरी में बांध लिए। बाद में छुपा न सके तो गड्डियां परिचितों को बांटीं सोना भी खरीद लाए। मगर सीसीटीवी में कैद चोर पुलिस से बच नहीं पाए।

डीसीपी सिटी सूरज कुमार राय ने बताया कि बिजलीघर (रकाबगंज) स्थित शिवाजी मार्केट में कपड़ा कारोबारी सोभराज के रेडीमेड के शोरूम में 26 अप्रैल को 70 लाख की चोरी हुई थी। पुलिस ने सौ घंटे में छह चोरों को पकड़कर वारदात का खुलासा किया तो चौंकाने वाली जानकारी मिली। चोरों ने बताया कि वे थैला लेकर पहुंचे थे। 10-15 लाख कैश मिलने का अंदाजा था। मगर दुकान में नोटों की गड्डियां देखकर होश उड़ गए। बैग भर गया। जेबों में भी नोट भर लिए। इसके बावजूद गड्डियों का ढेर देख उन्होंने कपड़े की गठरी बना ली। उसमें भी ठूंसकर रकम भर ली। फिर भी काफी गड्डियां रह गईं।

पुलिस के मुताबिक, 57 लाख कैश बरामद किया है। 10 लाख का सोना अभी मिला नहीं है। नोटों की गड्डियां देख चोर बौखला गए थे। नकदी छिपाने के लिए परिचितों को रकम बांट रहे थे। पुलिस ने खुलासे के लिए बिजलीघर से बालूगंज के बीच करीब 125 सीसीटीवी कैमरे खंगाले। गैंगस्टर के गैंग ने वारदात को अंजाम दिया था। डीसीपी सिटी सूरज कुमार राय ने बताया कि खुलासे में शामिल टीम को एक लाख रुपये पुरस्कार दिया गया है।

यूपी के इस शहर में 82 महिलाओं की नसबंदी हुई, 81 फिर भी हो गईं गर्भवती

आचार संहिता के कारण रखा था कैश
चुनाव की आचार संहिता लगी हुई है। पिछले दिनों सहालग था। ग्राहक तो नकद खरीदारी कर रहे हैं, लेकिन कारोबारी इन दिनों तगादे से बच रहे हैं। जगह-जगह चेकिंग चल रही है। कैश पकड़ा जा रहा है। इस वजह से शोरूम में बाहर के कारोबारियों का देने वाला कैश रखा था। दिल्ली से कोई तगादे पर नहीं आ रहा।

वीडियो कॉल पर की रेकी
औलिया रोड निवासी बादल दुकान पर नौकर था। नई बस्ती, बालूगंज निवासी विशाल पुत्र बहादुर से उसकी पहचान थी। विशाल गैंगस्टर है। बादल ने विशाल को बताया कि दुकान में लाखों का कैश रहता है। उसने करीब एक माह पहले वीडियो कॉल करके रेकी कराई।

इनकी हुई गिरफ्तारी
नई बस्ती बालूगंज निवासी विशाल, अनुराग, औलिया रोड निवासी शेखर, विशाल, बादल व आशीष (पुष्पांजलि बाग, दयालबाग) को जेल भेजा है।

संभाली न गईं तो गड्डियां दोस्तों को बांट रहे थे
औकात से ज्यादा रकम जिंदगी में पहली बार देखने पर चोरों के दिमाग ने काम करना बंद कर दिया था। आरोपियों ने पूछताछ में पुलिस को बताया कि रकम अधिक थी। पकड़े जाने का डर था, इसलिए उसे ठिकाने लगाने में जुट गए। 10 लाख रुपये का सोना खरीदा। कई परिचितों को गड्डी की गड्डी उधार दे दी। डीसीपी सिटी सूरज कुमार राय ने बताया कि रकाबगंज पुलिस, सिटी एसओजी और सर्विलांस टीम ने महज चार दिन में बड़ी चोरी का खुलासा किया है। 57 लाख रुपये बरामद हुए हैं। छह आरोपित पकड़े गए हैं।

बांटी गई रकम बरामद करने में जुटी है पुलिस
बी-20 आनंदपुरम निवासी सोभराज की दुकान में 26 अप्रैल की रात चोरी हुई थी। चोर दुकान में रखा कैश चोरी करके ले गए थे। उन्होंने पुलिस को बताया कि चोरी के समय उन्हें खुद अंदाजा नहीं था कि कितना कैश है। दूसरे कारोबारियों ने पुलिस को बताया था कि रकम बड़ी है। बाजार में चर्चा है कि एक करोड़ से अधिक की चोरी हुई थी। आयकर की वजह से रकम छिपाई गई थी। पुलिस अब उन लोगों से रकम बरामद कर रही है, जिनको चोरों ने रकम बांटी थी।