ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News उत्तर प्रदेशएनिवर्सरी पार्टी के बाद अब नाले के बीच बैठ हनुमान चालीसा का पाठ, बताया क्या है कारण

एनिवर्सरी पार्टी के बाद अब नाले के बीच बैठ हनुमान चालीसा का पाठ, बताया क्या है कारण

यूपी के आगरा में नाले पर हाल ही में एक एनिवर्सरी पार्टी हुई थी। इसी के बाद अब एक बार फिर नाले पर हनुमान चालीसा का पाठ किया गया है। नाले पर लोगों ने प्रदर्शन किया। नाले के बीच बैठ विरोध किया।

एनिवर्सरी पार्टी के बाद अब नाले के बीच बैठ हनुमान चालीसा का पाठ, बताया क्या है कारण
Srishti Kunjहिन्दुस्तान टीम,आगराMon, 12 Feb 2024 09:19 AM
ऐप पर पढ़ें

आगरा में मलपुरा के ब्लॉक बरौली अहीर की ग्राम पंचायत रजरई और नगला कली के साथ दर्जनों कॉलोनीवासियों ने टूटी हुई सड़क और नालों के बीच बैठकर अनूठा प्रदर्शन किया। उन्होंने क्षेत्र में विकास की मांग को लेकर हनुमान चालीसा का पाठ किया और हवन यज्ञ भी किया। रविवार को दोपहर लगभग एक बजे ग्रामीण और कॉलोनिवासियों ने एकत्र होकर ढोलक मजीरे और हारमोनियम बजाकर भगवान श्रीराम की राम धुन एवं हनुमान चालीसा का प्रतीकात्मक पाठ किया। 

जनप्रतिनिधि एवं अधिकारियों की बुद्धि-शुद्धि के लिए भगवान से प्रार्थना की है। हाथों में ढोल नगाड़े और तख्तियों पर विकास और बोट बहिष्कार करने के नारे लगाए गए। नगला कली, सेमरी, रजरई क्षेत्र की 15 से 20 कॉलोनियां के निवासियों ने पिछले 15 दिनों से चुनाव बहिष्कार की घोषणा कर रखी है। पिछले हफ्ते यहां पर अनूठा प्रदर्शन हुआ था। पुष्पांजलि होम्स निवासी श्री भगवान शर्मा और उमा शर्मा ने अपनी 17वीं सालगिरह रोड पर बहते नाले के बीच मनाई थी। 

बेरोजगारी और कर्ज में डूबे शख्स ने मां-बेटे की हत्या कर खुद लगाई फांसी

उसके बाद कुछ अधिकारियों ने मौके पर पहुंचकर एक अस्थाई तालाब खुदवा कर पानी को डाइवर्ट कर दिया लेकिन उसके बाद कोई भी अधिकारी मौके पर नहीं पहुंचा। क्षेत्रीय लोगों का कहना है कि इस क्षेत्र में न एडीए की तरफ से कोई अधिकारी पहुंचा और न ही कोई जनप्रतिनिधि पहुंचा। क्षेत्रीय निवासियों ने टूटी सड़क पर कूड़े के लगे ढेरों के पास बैठकर सांकेतिक रूप से हनुमान चालीसा पाठ और रामधुन का कार्यक्रम किया। स्थानीय निवासी संध्या शर्मा ने बताया है कि प्रदेश में और देश में राम राज्य आ गया हैलेकिन हम अभी भी जल भराव, कूड़े और बहते हुए सीवर नाले के बीच में रहने को मजबूर हैंस्थानीय निवासी अशोक कुमार गुप्ता ने बताया है कि वह पिछले 15 वर्ष से यहां निवास कर रहे हैं।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें