ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News उत्तर प्रदेशगंगा स्नान के दौरान डूबने का डर, दशहरे पर नाहन के लिए एडवाइजरी जारी

गंगा स्नान के दौरान डूबने का डर, दशहरे पर नाहन के लिए एडवाइजरी जारी

आगरा में डूबने की घटनाएं तेजी से बढ़ रही हैं। गंगा दशहरा 16 जून को है, इस दिन स्नान के लिए भक्तों की भीड़ गंगा में उमड़ेगी। इसके लिए प्रशासन की ओर से एडवाइजरी जारी की गई है। जानें डिटेल।

गंगा स्नान के दौरान डूबने का डर, दशहरे पर नाहन के लिए एडवाइजरी जारी
Srishti Kunjहिन्दुस्तान टीम,आगराThu, 13 Jun 2024 10:57 AM
ऐप पर पढ़ें

अपर जिलाधिकारी (वि/रा) शुभांगी शुक्ला ने बुधवार को बताया कि विगत दिवसों में देखा गया है कि जनपद में डूबने की घटनाएं तेजी से बढ़ रही हैं। गंगा दशहरा 16 जून को है, इस दिन स्नान का महत्व है। वहीं लोग बढ़ती गर्मी से राहत पाने के लिए भी घाटों आदि में स्नान करने के दौरान हादसे का शिकार हो रहे हैं। इन बहुमूल्य जिंदगियों को बचाने के लिए शासन ने एडवायजरी जारी की है।

डूबे हुए व्यक्ति का ऐसे करें उपचार
- सबसे पहले देख लें कि डूबे हुये व्यक्ति के मुंह व नाक में कुछ फंसा तो नहीं है, यदि है तो उसे निकाल दें
- यदि डूबा हुए व्यक्ति को खांस/बोल/सांस ले सकने की स्थिति में है तो उसे ऐसा करने के लिए प्रोत्साहित करें
- मूर्छा, बेहोशी आने पर सांस देने को छाती में दबाव की प्रक्रिया शुरू करें
- नाक व मुंह पर अंगुलियों के स्पर्श से जांच कर लें कि सांस चल रही है या नहीं
- नब्ज की जांच करने के लिए गले के किनारे के हिस्सों को अंगुलियों से छूकर जानकारी प्राप्त करें कि नब्ज चल रही अथवा नहीं
- मुंह से लगाकर दो बार भरपूर सांस दें व 30 बार छाती के बीच में दबाव दें।

ये भी पढ़ें: असम-बंगाल समेत 12 राज्यों में होगी मूसलाधार बारिश, UP-बिहार में लू का रेड अलर्ट; मॉनसून में देरी क्यों?

इन बातों पर करें अमल
- खतरनाक घाटों के किनारे न स्वयं जाएं न बच्चों को भेजें
- बच्चों को घाटों के तेज बहाव में स्नान करने से रोकें
- बच्चों को पुल/पुलिया, ऊंचे टीले/पेड़ से पानी में कूद कर स्नान करने से रोकें
- यदि बहुत ही आवश्यक हो तो नदी के किनारे जाएं, लेकिन नदी में उतरते समय गहराई का ध्यान रखें
- डूबते व्यक्ति को धोती/ साड़ी/ रस्सी/ बांस की सहायता से बचायें
- यदि तैरना नहीं जानते हैं तो पानी में न जाएं, सहायता के लिए किसी को पुकारें
- गांव या गलियों में डूबने की घटना होने पर आस-पास के लोग एकत्रित होकर ऐसी दुखद घटना की चर्चा करें कि किस कारण से घटना हुई।