ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News उत्तर प्रदेशआगरा से लेकर एटा तक गांवों में तेंदुए की दहशत, इन इलाकों में अलर्ट

आगरा से लेकर एटा तक गांवों में तेंदुए की दहशत, इन इलाकों में अलर्ट

आगरा से लेकर एटा जिले तक तेंदुए की दहशत फैली है। आगरा के सैंया और पिनाहट के बाद अब एटा के गांवों में तेंदुआ देखा गया है। एटा के चार गांवों में तेंदुआ के पद चिह्न मिलने से लोग घरों में कैद हो गए।

आगरा से लेकर एटा तक गांवों में तेंदुए की दहशत, इन इलाकों में अलर्ट
Srishti Kunjहिन्दुस्तान टीम,आगराThu, 08 Feb 2024 10:48 AM
ऐप पर पढ़ें

ब्रज में आगरा से लेकर एटा जिले तक तेंदुए की दहशत है। आगरा के सैंया और पिनाहट के बाद अब एटा के गांवों में तेंदुआ देखा गया है। एटा के चार गांवों में तेंदुआ के पद चिह्न मिलने से लोग घरों में कैद होने के मजबूर हैं। आगरा के सैंया क्षेत्र में तेंदुए का आतंक पिछले तीन माह से देखा जा रहा है। तेंदुए के वीडियो भी वायरल हुए हैं। 14 नवंबर 2023 को सैंया में नेशनल हाइवे के पास एक पेट्रोल पम्प की पिछली दीवार पर मादा तेंदुए व उसके शावक का वीडियो वायरल हुआ था। जबकि 15 नवम्बर को रात्रि में ग्राम बिरहरू में आंगन में सो रहे आठ वर्षीय बालक डेविड पुत्र भूरी सिंह को अज्ञात जानवर ने हमला कर घायल कर दिया था।

पूछताछ में बालक डेविड ने जानवर के तेंदुएं जैसे होने की जानकारी दी थी। इधर पांच दिसम्बर को ग्राम कछपुरा में तेंदुए की गुर्राहट ग्रामीणों को सुनाई दी थी। ग्रामीणों की सूचना पर वन दरोगा मुकेश कुमार मौके पर पहुंचे। वन दरोगा ने पद चिह्नों की जांच कर जंगली जानवर के हायना होने की आशंका जतायी थी। वन विभाग ने क्षेत्र में जंगली बिल्ली होने की बात कही थी।

बैंक संग धोखाधड़ी करने वाले की 2.15 करोड़ की संपत्तियां जब्त, ईडी ने दर्ज किया था केस

खेतों पर अकेले नहीं जा रहे ग्रामीण
बाह और पिनाहट के चंबल के बीहड़ में पिछले दो वर्षों से तेंदुए की दहशत है। पिनाहट में कुछ माह पूर्व तेंदुए ने घर के बाहर व बाड़े में बंधे पालतू पशुओं को अपना शिकार बनाया था। यहां अब भी तेंदुए का आतंक इस कदर है कि ग्रामीणों ने अकेले खेतों पर जाना बंद कर दिया है।

परतापुर और नगला गलुआ में आतंक
एटा जिले के गांव परतापुर में तेंदुए के पदचिह्न देखे गए हैंबता दें कि परतापुर से लगा हुआ गांव नगला गलुआ है। वहां मंगलवार को ग्रामीणों ने दो तेंदुआ होने की आशंका जतायी। इससे पहले थाना सकरौली क्षेत्र के गांव लालपुर में तेंदुआ दिखाई दिया था।

चंबल के बीहड़ में मिला था शव
इधर तीन माह पूर्व हरलाल पुरा के पास बाघराज पुरा के बीहड़ में तेंदुए का जोडा मिट्टी के टीले पर धूप सेकते हुए देखा गया था। वन टीम के पहुंचने से पहले ही तेंदुआ वहां से चला गया था। कुछ दिन पूर्व ही चंबल के बीहड़ में एक तेंदुए की मौत हो गई थी। रेजर बाह, उदय सिंह ने कहा कि वन टीम लगातार चंबल सेंक्यचुरी एरिया में गश्त कर रही हैं। ग्रामीणों को भी सजग रहने व चंबल के बीहड़ में न जाने की सलाह दी जाती रही है। 

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें