ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News उत्तर प्रदेशपतंजलि के इन नंबरों से सावधान! भर्ती के नाम पर साइबर ठगी, ऑनलाइन रकम लेकर फोन उठाना बंद

पतंजलि के इन नंबरों से सावधान! भर्ती के नाम पर साइबर ठगी, ऑनलाइन रकम लेकर फोन उठाना बंद

आगरा के एक डॉक्टर से साइबर ठग ने पतंजलि के नाम पर सवा लाख रुपये हड़प लिए। उन्हें गूगल से नंबर मिला जिसपर फोन करने पर उन्होंने रकम ऑनलाइन ट्रांसफर करवाई और फिर फोन उठाना बंद कर दिया।

पतंजलि के इन नंबरों से सावधान! भर्ती के नाम पर साइबर ठगी, ऑनलाइन रकम लेकर फोन उठाना बंद
Srishti Kunjहिन्दुस्तान टीम,आगराTue, 18 Jun 2024 10:49 AM
ऐप पर पढ़ें

गूगल से नंबर खोजकर किसी को फोन मिला रहे हैं तो सावधान हो जाएं। गूगल पर साइबर अपराधियों ने अपने नंबर डाल रखे हैं। आगरा के ट्रांसयमुना कालोनी के एक कपड़ा कारोबारी के साथ 1.28 लाख रुपये की ठगी हुई है। कारोबारी ने गूगल से पतंजलि योग विद्या पीठ, हरिद्वार का नंबर सर्च किया था। घटना के बाद पीड़ित ने शिकायत की है। पुलिस ने जांच शुरू कर दी है। आरोपियों ने अपने नंबर डाले हैं और इनपर कॉल आने के बाद वो रकम वसूलते फिर फोन उठाना बंद कर देते।

डॉ. नरसिंग बंसल ने बताया कि उनकी मां को नसों की बीमारी है। उन्हें किसी ने बताया कि आयुर्वेदिक इलाज कराएं। उन्होंने गूगल से पतंजलि योग विद्या पीठ, हरिद्वार का नंबर सर्च किया। एक नंबर मिला। उस पर फोन मिलाया। फोन पर बात करने वाले ने बीमारी के बारे में पूछा। यह बताया कि माताजी को यहां भर्ती कराना होगा। पूरे इलाज का खर्चा 1.28 लाख रुपये बताया। उन्होंने दोबारा उस नंबर पर फोन किया। उसने एडवांस रुपये जमा करने को कहा गया। दो दिन में उन्होंने 1.28 लाख का भुगतान कर दिया। मां को लेकर कब आना है। यह जानने के लिए इस बार उन्होंने गूगल पर दिख रहे दूसरे नंबर पर फोन मिलाया। 

ये भी पढ़ें: सिपाही भर्ती के साथ आरओ-एआरओ पेपर लीक मामले में भी आरोपी बनेगा रवि अत्री

फोन उठाने वाले ने बताया कि उनके नाम से कोई बुकिंग नहीं है। उनके साथ साइबर फ्रॉड हुआ है। यह सुनकर वह घबरा गए। अपनी बैंक गए। वहां जानकारी करने पर पता चला कि ऑनलाइन रुपये बिहार के एक खाते में ट्रांसफर हुए थे। पीड़ित व्यापारी ने पुलिस आयुक्त कार्यालय में शिकायत की है। मामला साइबर सेल के पास पहुंचा है। पीड़ित ने बताया कि उन्हें मां के इलाज के लिए 10 दिन का खर्चा बताया गया था। गारंटी दी गई थी कि रोग ठीक हो जाएगा। लेकिन पैसे लेकर फोन उठाना बंद कर दिया गया।