ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News उत्तर प्रदेशछेड़छाड़ से परेशान बीए की छात्रा ने लगाई थी फांसी, 13 दिन बाद तोड़ा दम, रिश्तेदार ऐसे बने आरोपी

छेड़छाड़ से परेशान बीए की छात्रा ने लगाई थी फांसी, 13 दिन बाद तोड़ा दम, रिश्तेदार ऐसे बने आरोपी

आगरा में छेड़छाड़ से परेशान एक बीए की छात्रा ने फांसी लगा ली थी। परिजनों ने देखा तो उसे फंदे से उतार कर अस्पताल में भर्ती करवाया। 13 दिन तक लड़की ने अस्पताल में मौत से जंग लड़ी।

छेड़छाड़ से परेशान बीए की छात्रा ने लगाई थी फांसी, 13 दिन बाद तोड़ा दम, रिश्तेदार ऐसे बने आरोपी
Srishti Kunjहिन्दुस्तान टीम,आगराSat, 02 Dec 2023 10:03 AM
ऐप पर पढ़ें

आगरा के रकाबगंज क्षेत्र निवासी बीए की एक छात्रा ने छेड़छाड़ से क्षुब्ध होकर अपनी जान दे दी। फांसी लगाई थी। परिजनों ने फंदे से उतार लिया। 13 दिन वह जिंदगी और मौत से लड़ी, लेकिन हार गई। छात्रा के भाई ने तीन युवकों के खिलाफ आत्महत्या के लिए दुष्प्रेरित करने की धारा का मुकदमा दर्ज कराया है।

एसीपी सदर अर्चना सिंह ने बताया कि छात्रा रकाबगंज क्षेत्र स्थित बैकुंठीदेवी कन्या महाविद्यालय में बीए प्रथम वर्ष की छात्रा थी। मुकदमे में भाई ने रवि चाहर, आशू व उदय को नामजद किया है। रवि चाहर छात्रा का फुफेरा भाई है। कागारौल के गांव गहर्रा कला का निवासी है। छात्रा के भाई ने पुलिस को बताया कि बहन बुआ के घर रहने गई थी। वहां फुफेरे भाई रवि चाहर ने बहन की मुलाकात जैतू की गढ़ी निवासी आशू से कराई। दोनों की दोस्ती कराने का प्रयास किया। बहन पर उससे शादी करने का दबाव बनाया। बहन ने इनकार कर दिया। यह जानकारी बहन ने घर आकर उन्हें दी। 

सपा विधायक इरफान सोलंकी के दोनों शस्त्र लाइसेंस निरस्त, असलहे पहले ही कर चुके सरेंडर

रवि, आशू और उदय बहन को परेशान करने लगे। कॉलेज आते-जाते समय उसका रास्ता रोकते थे। ऑडियो और वीडियो क्लिपिंग वायरल करने की धमकी देते थे। नवरात्र के बाद रवि उनके घर आया। उसकी बहन से छेड़छाड़ की। उसे मानसिक रूप से प्रताड़ित किया, धमकाया। उसकी मां को फोन करके भी बहन के खिलाफ उल्टा सीधा बोला। धमकी से भयभीत और क्षुब्ध होकर 14 नवंबर को बहन ने फांसी लगा ली। उन्होंने उसे फंदे से उतारा। इलाज के लिए नर्सिंग होम लेकर गए। वहां से एसएन मेडिकल कॉलेज रेफर कर दिया गया। बहन की हालत में सुधार नहीं हुआ। 27 नवंबर की रात बहन ने दम तोड़ दिया।

सुसाइड नोट नहीं मिला
एसीपी सदर अर्चना सिंह ने बताया कि पुलिस को मौके से कोई सुसाइड नोट नहीं मिला। जो तहरीर मिली उस पर मुकदमा दर्ज किया गया है। पुलिस के पास आरोपियों के खिलाफ साक्ष्य के रूप में सिर्फ परिजनों के बयान हैं। पुलिस आरोपियों की तलाश कर रही है। उनके खिलाफ कानूनी कार्रवाई की जाएगी। पुलिस आरोपियों के खिलाफ पुख्ता साक्ष्य भी जुटाएगी।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें