unnao district magistrate says police was not serious on the case - उन्नाव के डीएम बोले, वफादारी में पुलिस ने करायी किरकिरी DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

उन्नाव के डीएम बोले, वफादारी में पुलिस ने करायी किरकिरी

unnao rape case

डीएम ने माखी पुलिस को कटघरे में खड़ा करते हुए सख्त लहजे में कहा कि अगर पुलिस ने शुरू से गंभीरता दिखाती तो मामला इतना न बढ़ता। उन्होंने कहा कि पुलिस ने एकतरफा कार्रवाई की, ऐसा नहीं होना चाहिए था। जिन लोगों की शिकायत पीड़ित की ओर से की जा रही थी उन पर भी रिपोर्ट दर्ज की जानी चाहिए थी और दोनों पक्षों को गिरफ्तार कर जेल भेजा जाना चाहिए था। डीएम ने पोस्टमार्टम हाउस में माखी पुलिस को कड़ी फटकार लगाई। सवाल पूछा, जिन लोगों पर आरोप था उन पर रिपोर्ट दर्ज क्यों नहीं की गई। डीएम ने सवाल पूछा कि रिपोर्ट दर्ज करने में दिक्कत क्या थी। इसकी जानकारी उन्हें और एसपी को क्यों नहीं दी गई। पहले रिपोर्ट दर्ज कर ली जानी थी फिर विवेचना में हकीकत साफ हो जाती। डीएम ने कहा कि वफादारी निभाने के चक्कर में सभी की फजीहत करा दी।


जेल प्रशासन ने एसपी को नहीं दी कोई सूचना
एसपी ने कहा कि घायल को जिला अस्पताल में भर्ती कराए जाने की जानकारी जेल प्रशासन की ओर से उन्हें नहीं दी गई। जेल प्रशासन की ओर से इस बात की जानकारी दी गई होती तो उपचार अच्छी तरीके से कराया जा सकता था। जरूरत पड़ती तो उसे कानपुर ले जाया जाता। जेल अफसरों ने इस मामले को गंभीरता से नहीं लिया।


फोरेंसिक एक्सपर्ट टीम भी पोस्टमार्टम में शामिल
लखनऊ से शहर पहुंची फॉरेंसिक एक्सपर्ट की टीम भी पोस्टमार्टम के पैनल में शामिल की गई है। पैनल में डॉ. तन्मय कक्कड़, डॉ. डीपी सरोज, आरके चौरसिया और उन्नाव के फॉरेंसिक एक्सपर्ट आशुतोष बकखड़े शामिल किए गए है। 
 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:unnao district magistrate says police was not serious on the case