ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News उत्तर प्रदेशबिजली विभाग पर भड़के इस यूनिवर्सिटी के छात्र, अफसरों को खदेड़ा; दनादन चलाए पत्‍थर

बिजली विभाग पर भड़के इस यूनिवर्सिटी के छात्र, अफसरों को खदेड़ा; दनादन चलाए पत्‍थर

वाराणसी के संपूर्णानंद संस्कृत विश्वविद्यालय परिसर में प्रस्तावित 220 केवी उपकेंद्र के लिए भूमि पैमाइश करने शुक्रवार को पहुंचे बिजली अफसरों को छात्रों ने खदेड़ दिया। पथराव भी किया।

बिजली विभाग पर भड़के इस यूनिवर्सिटी के छात्र, अफसरों को खदेड़ा; दनादन चलाए पत्‍थर
Ajay Singhवरिष्ठ संवाददाता,वाराणसीSat, 03 Feb 2024 06:39 AM
ऐप पर पढ़ें

वाराणसी के संपूर्णानंद संस्कृत विश्वविद्यालय परिसर में प्रस्तावित 220 केवी उपकेंद्र के लिए भूमि पैमाइश करने शुक्रवार को पहुंचे बिजली अफसरों को छात्रों ने खदेड़ दिया। उनपर पथराव भी किया। हालांकि कोई चोटिल नहीं हुआ। छात्रों ने मजदूरों से टेप और मॉर्किंग रॉड छीन ली। स्थिति को भांपकर अफसर मौके से भाग निकले। छात्रों ने वीसी कार्यालय के सामने विवि प्रशासन व बिजली विभाग के खिलाफ नारेबाजी की।

सुबह करीब 11 बजे बिजली विभाग की टीम ट्रांसमिशन के अधिशासी अभियंता इंद्रभान सिंह के नेतृत्व में विश्वविद्यालय पहुंची। टीम में सिविल विभाग के एसडीओ विजय प्रकाश, एसडीओ मुकेश कुमार, जेई घनश्याम भारती और रामाशीष कुमार थे। इनके साथ लेखपाल, कानूनगो और ठेकेदार भी थे। उपकेंद्र निर्माण में सहयोग के लिए गठित विवि की समिति के न्याय वैशेषिक विभाग के प्रो. राजनाथ आचार्य, गिरीश कुमार श्रीवास्तव और अभियंता रामविजय सिंह वहां पहले से मौजूद थे। नापी के दौरान नायब तहसीलदार को भी उपस्थित रहना था। हालांकि वह नहीं पहुंचे थे।

लेखपाल और कानूनगो ने जमीन की पैमाइश शुरू की। इस दौरान एक छात्र पहुंचा और अधिकारियों से बातचीत कर लौट गया। थोड़ी देर बाद बड़ी संख्या में विद्यार्थी पहुंचे और मजदूरों से टेप और मॉर्किंग रॉड छीन ली। उनसे धक्का-मुक्की की। नारेबाजी करते हुए अधिकारियों को दौड़ा लिया। इस दौरान पथराव भी किया। छात्रों के आक्रोश को देखते हुए अफसर मौके से हट गए। वहां से छात्रों का समूह कुलपति कार्यालय के सामने पहुंचकर उपकेंद्र निर्माण के विरोध में नारेबाजी करने लगा।

क्या है प्रकरण
संपूर्णानंद संस्कृत विवि में 220 केवी के सबस्टेशन का निर्माण कराया जाना है। इसके लिए शासन ने विवि परिसर में पारेषण विभाग को दो एकड़ भूमि उपलब्ध कराई है। उपकेंद्र बनने से वरुणापार इलाके में विद्युत आपूर्ति बेहतर होगी। विवि परिसर में उपकेंद्र बनने की जानकारी पर एक साल पहले भी कर्मचारी और छात्रों ने विरोध किया था। उस वक्त भी जमीन की नापी करने पहुंचे अधिकारियों को दौड़ा लिया था। कई दिनों तक वीसी कार्यालय के सामने धरना-प्रदर्शन किया था। पिछली घटना से सबक न लेते हुए इस बार भी बिजली विभाग के अफसर बिना फोर्स के पहुंचे थे। नतीजतन छात्रों ने उन्हें खदेड़ दिया।

क्‍या बोले कुलपति 
संपूर्णानंद संस्कृत विवि के कुलपति  प्रो.बिहारीलाल शर्मा ने कहा कि  बिजली विभाग से जमीन के सीमांकन के लिए पत्र आया था। आज पैमाइश होने की जानकारी नहीं थी। छात्रों में रोष है। उन्हें समझाया गया है।

क्‍या बोले अफसर 
पारेषण के अधीक्षण अभियंता विनीत रस्‍तोगी ने कहा कि अधिकारी जमीन की नापी करने गए थे। छात्रों ने उन्हें खदेड़ दिया। पुलिस फोर्स के साथ दोबारा जमीन की पैमाइश कराई जाएगी।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें