ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News उत्तर प्रदेशकेंद्रीय मंत्री अजय मिश्रा को सुप्रीम कोर्ट से भी राहत, खीरी के प्रभात गुप्ता हत्याकांड में बरी

केंद्रीय मंत्री अजय मिश्रा को सुप्रीम कोर्ट से भी राहत, खीरी के प्रभात गुप्ता हत्याकांड में बरी

लखीमपुरखीरी में सन 2000 में हुई प्रभात गुप्ता की हत्या के मामले में आरोपी बनाए गए केंद्रीय गृहमंत्री अजय मिश्रा टेनी को सुप्रीम कोर्ट से भी राहत मिल गई है। हाईकोर्ट ने भी उन्हें बरी किया था।

केंद्रीय मंत्री अजय मिश्रा को सुप्रीम कोर्ट से भी राहत, खीरी के प्रभात गुप्ता हत्याकांड में बरी
Yogesh Yadavभाषा,नई दिल्लीWed, 10 Jan 2024 02:53 PM
ऐप पर पढ़ें

केंद्रीीय मंत्री अजय मिश्रा टेनी को सुप्रीम कोर्ट से भी खीरी हत्याकांड के मामले में राहत मिल गई है। सुप्रीम कोर्ट ने इलाहाबाद हाईकोर्ट के उस आदेश को बरकरार रखा है, जिसमें खीरी के प्रभात गुप्ता हत्या में उन्हें बरी कर दिया गया था। कोर्ट ने उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा दायर अपील को खारिज कर दिया था। वर्ष 2000 में उत्तर प्रदेश के लखीमपुर खीरी जिले में प्रभात गुप्ता की हत्या कर दी गई थी। न्यायमूर्ति बेला एम. त्रिवेदी और न्यायमूर्ति पंकज मिथल की शीर्ष अदालत की पीठ ने कहा कि वह उच्च न्यायालय की लखनऊ पीठ और निचली अदालत के निष्कर्षों में हस्तक्षेप करने की इच्छुक नहीं है।

पीठ ने आठ जनवरी को सुनाए गए अपने आदेश में कहा, ''याचिकाकर्ता की ओर से पेश वरिष्ठ वकील कपिल सिब्बल को विस्तार से सुनने और रिकॉर्ड पर रखी गई सामग्री पर गौर करने के बाद हम दोनों अदालतों के निष्कर्षों में हस्तक्षेप करने के इच्छुक नहीं हैं। इसलिए विशेष अनुमति याचिकाएं खारिज की जाती हैं।

 निचली अदालत ने 2004 में मिश्रा को मामले में बरी कर दिया था, जिसके बाद राज्य सरकार ने फैसले को उच्च न्यायालय में चुनौती दी थी। शीर्ष अदालत याचिकाकर्ता राजीव गुप्ता द्वारा दायर अपील पर सुनवाई कर रही थी, जिसमें मई 2023 के उच्च न्यायालय के आदेश को चुनौती दी गई थी। उच्च न्यायालय ने अपने आदेश में कहा था कि निचली अदालत के फैसले में कोई त्रुटि नहीं थी।

इससे पहले, केंद्रीय मंत्री ने अपील को उच्च न्यायालय की लखनऊ पीठ से प्रयागराज की मुख्य पीठ में स्थानांतरित करने का अनुरोध करते हुए शीर्ष अदालत का रुख किया था, जिसे अस्वीकार कर दिया गया था।गुप्ता (24) की हत्या के सिलसिले में लखीमपुर में दर्ज प्राथमिकी में मिश्रा और अन्य का नाम शामिल था। गुप्ता की जिले के तिकुनिया इलाके में गोली मारकर हत्या कर दी गई थी।

लखीमपुर खीरी के अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश ने 2004 में पर्याप्त सबूत के अभाव में मिश्रा और अन्य को मामले में बरी कर दिया था। बरी किए जाने के फैसले से असंतुष्ट राज्य सरकार ने अपील दायर की थी, जबकि मृतक के परिवार ने फैसले को चुनौती देते हुए एक अलग पुनरीक्षण याचिका दायर की थी।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें