ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News उत्तर प्रदेशलोकसभा चुनावों के बीच अखिलेश यादव को लगा झटका, टिकट कटने से नाराज सपा नेता ने थामा भाजपा का दामन

लोकसभा चुनावों के बीच अखिलेश यादव को लगा झटका, टिकट कटने से नाराज सपा नेता ने थामा भाजपा का दामन

Lok Sabha Election: समाजवादी पार्टी को शाहजहांपुर से झटका लगा है। सपा नेता राजेश कश्यप ने शनिवार को भाजपा का दामन पकड़ लिया। इसके अलावा खुटार नगर पंचायत अध्यक्ष मैना देवी भी भाजपा में शामिल हो गईं।

लोकसभा चुनावों के बीच अखिलेश यादव को लगा झटका, टिकट कटने से नाराज सपा नेता ने थामा भाजपा का दामन
Pawan Kumar Sharmaलाइव हिन्दुस्तान,शाहजहांपुरSat, 04 May 2024 04:13 PM
ऐप पर पढ़ें

Lok Sabha Election: लोकसभा चुनावों के बीच समाजवादी पार्टी को शाहजहांपुर से झटका लगा है। सपा नेता राजेश कश्यप ने शनिवार को भाजपा का दामन पकड़ लिया। इसके अलावा खुटार नगर पंचायत अध्यक्ष मैना देवी भी भाजपा में शामिल हो गईं। बता दें कि सपा ने पहले राजेश कश्यप को शाहजहांपुर से अपना उम्मीदवार बनाया था लेकिन उनका पर्चा खारिज हो गया था। लेकिन ऐन मौके पर सपा ने ज्योत्सना गोंड को प्रत्याशी घोषित कर दिया।                     

ज्योतसना गोंड को टिकट मिलने के बाद से राजेश कश्यप नाराज चल रहे थे और भाजपा में शामिल हो गए। वितमंत्री सुरेश कुमार खन्ना ने पार्टी की सदस्यता दिलाई। सभी को माला पहनाते हुए सीएम योगी के मंत्री ने बधाई दी। साथ ही उन्होंने लोकसभा प्रत्याशी अरुण सागर और ददरौला विधानसभा उपचुनाव प्रत्याशी अरविंद सिंह को जिताने की अपील की। उधर, भाजपा में शामिल होने के बाद राजेश कश्यप ने सपा पर आरोप लगाते हुए कहा कि नामांकन के बाद उनका टिकट काटकर अखिलेश यादव ने धोखेबाजी की है।

सूत्रों के मुताबिक राजेश कश्यप का भाजपा में जाना पहले से तय था। वह केवल सपा में खेल करने आए थे। लेकिन अखिलेश यादव उनकी नीयत को पहले ही समझ गए और ऐन मौके पर ज्योत्सना गोंड का नामांकन करवा दिया। दरअसल सपा ने एक ही सिंबल पर पहले राजेश कश्यप और बाद में डमी प्रत्याशी के तौर पर ज्योत्सना गोंड का नामांकन पत्र जमा किया था। चर्चा थी कि राजेश कश्यप मूल रूप से बरेली के रहने वाले हैं लेकिन वह दिल्ली में ही रहे। यहां तक कि उनकी जाति प्रमाण पत्र एससी वर्ग का बना हुआ है जबकि यूपी में कश्यप जाति ओबीसी में आती है। इसे लेकर सपा को पहले से ही नामांकन रद्द होने की आशंका थी। इसलिए ज्योत्सना गोंड का भी नामांकन कर दिया था।