DA Image
हिंदी न्यूज़ › उत्तर प्रदेश › अवैध धर्मांतरण के आरोपियों ने बनाई बेहिसाब संपत्तियां, यूपी एटीएस को चौंकाने लगा ब्योरा
उत्तर प्रदेश

अवैध धर्मांतरण के आरोपियों ने बनाई बेहिसाब संपत्तियां, यूपी एटीएस को चौंकाने लगा ब्योरा

हिन्दुस्तान टीम,लखनऊPublished By: Deep Pandey
Tue, 28 Sep 2021 06:10 AM
अवैध धर्मांतरण के आरोपियों ने बनाई बेहिसाब संपत्तियां, यूपी एटीएस को चौंकाने लगा ब्योरा

अवैध धर्मांतरण कराने वाले गैंग से जुड़े लोगों की निजी संपत्तियों का ब्योरा यूपी एटीएस को चौंकाने लगा है। धर्मांतरण के लिए फंडिंग के नेटवर्क से जुड़े कुछ लोगों ने बेसिसाब संपत्तियां बनाई हैं। दूसरी ओर मौलाना कलीम सिद्दीकी के जरिए गैंग से जुड़े तीनों अभियुक्तों की सात दिनों की पुलिस कस्टडी रिमांड कोर्ट ने मंजूर कर दी है। एटीएस तीनों से फंडिंग नेटवर्क के बारे में विस्तृत पूछताछ करेगी। 

मौलाना कलीम सिद्दीकी के तीनों सहयोगियों मोहम्मद इदरीस कुरैशी, मोहम्मद सलीम और कुणाल अशोक चौधरी उर्फ़ आतिफ को यूपी एटीएस ने 26 सितंबर को गिरफ्तार कर कोर्ट के सामने पेश किया था। एटीएस ने सात दिनों की पुलिस कस्टडी रिमांड के लिए अनुरोध किया था, जो कोर्ट में विचाराधीन था l सोमवार को कोर्ट ने तीनों अभियुक्तों की सात दिनों की पुलिस कस्टडी रिमांड 28 सितंबर की सुबह 10 बजे से मंजूर कर दी। 

अवैध धर्मांतरण गिरोह संचालित करने तथा धर्मांतरण के लिए भारी मात्रा में अवैध विदेशी फंडिंग प्राप्त करने के आरोप में मौलाना कलीम सिद्दीकी को गत 21 सितंबर को गिरफ्तार किया था। पूछताछ में मौलाना कलीम के तीन सहयोगियों के पास करोड़ों की संपत्ति होने के साक्ष्य मिले। आय के स्रोत के विषय में पूछताछ की गई तो वे कोई ब्योरा नहीं दे पाए। रिमांड की अवधि में अब तीनों से एटीएस की टीम द्वारा विस्तृत पूछताछ की जाएगी, जिससे इनके बैंक खातों में भारी मात्रा में आए धन और इनकी अर्जित संपत्ति के विषय में जानकारी मिल सके।

साथ ही इनके अन्य सहयोगियों और अवैध धर्मांतरण में लिप्त अन्य लोगों के संबंध में भी विस्तृत पूछताछ की जाएगी। अवैध धर्मांतरण गिरोह के विरुद्ध एटीएस के लखनऊ थाने में दर्ज मुकदमे में अब तक 14 अभियुक्तों की गिरफ्तारी हो चुकी है। इन अभियुक्तों के खातों में अब तक 20 करोड़ रुपये जमा होने की पुष्टि हुई है, जिसमें विदेशों से हवाला के जरिए भेजी गई धनराशि भी शामिल है। अभियुक्तों ने इस फंडिंग से निजी लाभ भी प्राप्त किया है।

संबंधित खबरें