ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News उत्तर प्रदेशUGC-NET परीक्षा भी रद्द .. अखिलेश यादव बोले, देश के खिलाफ बड़ी साजिश, ऐसे समझाया 

UGC-NET परीक्षा भी रद्द .. अखिलेश यादव बोले, देश के खिलाफ बड़ी साजिश, ऐसे समझाया 

UGC-NET परीक्षा रद्द किए जाने के बाद सपा प्रमुख अखिलेश यादव ने जमकर हमला बोला। उन्होंने एक्स पर पोस्टकर कड़ी जांच की मांग की। साथ ही इसे साजिश बताया ।

UGC-NET परीक्षा भी रद्द .. अखिलेश यादव बोले, देश के खिलाफ बड़ी साजिश, ऐसे समझाया 
Deep Pandeyहिन्दुस्तान,लखनऊThu, 20 Jun 2024 11:33 AM
ऐप पर पढ़ें

यूजीसी-नेट परीक्षा रद्द किए जाने के बाद इस मामले पर राजनीति तेज हो गई है। समाजवादी पार्टी के प्रमुख अखिलेश यादव ने इस फैसले के बाद सरकार पर हमला बोला है। अखिलेश यादव ने परीक्षा रद्द किए जाने के बाद सोशल मीडिया X पर अपने एक पोस्ट में कहा कि और अब गड़बड़ी की ख़बर के बाद UGC- NET की परीक्षा भी रद्द कर दी गई है। भाजपा के राज में पेपर माफ़िया एक के बाद एक, हर एग्ज़ाम में धांधली कर रहा है। ये देश के ख़िलाफ़ किसी की बड़ी साज़िश भी हो सकती है। अखिलेश ने मांग की कि कोर्ट की निगरानी में इसकी कठोर जांच हो और दोषियों को कठोरतम सज़ा दी जाए, और कोई भी अपराधी छोड़ा न जाए, फिर वो चाहे कितना भी बड़ा क्यों न हो या फिर उसके सिर पर सत्ता का हाथ ही क्यों न हो।

अखिलेश यादव ने आगे लिखा कि पुलिस भर्ती की परीक्षा का पेपर लीक होगा तो क़ानून-व्यवस्था नहीं सुधरेगी। जिससे देश-प्रदेश में अशांति और अस्थिरता बनी रहेगी। ⁠NEET की परीक्षा में घपला होगा तो ईमानदार लोग डॉक्टर नहीं बन पाएंगे और देश के लोगों के इलाज के लिए भविष्य में डॉक्टरों की कमी और बढ़ जाएगी और बेईमान लोग, जनता के जीवन के लिए ख़तरा बन जाएंगे। 
उन्होंने कहाकि ⁠UGC-NET परीक्षा न होने से, पहले से शिक्षकों की जो कमी चली आ रही है, उसमें और भी ज़्यादा इज़ाफ़ा होगा। शिक्षकों की कमी से देश के मानसिक विकास में बाधा उत्पन्न होगी, जो कालांतर में देश के लिए बेहद घातक साबित होगी।

अखिलेश ने कहा कि इन सबसे प्रशासन के साथ-साथ स्वास्थ्य और शिक्षा व्यवस्था चौपट हो जाएगी। ये हमारे देश के शासन-प्रशासन व देश के मानव संसाधन के विरूद्ध कोई बहुत बड़ा षड्यंत्र भी हो सकता है, जिसके दूरगामी नकारात्मक परिणाम निकलेंगे। 
लोग कह रहे हैं जो भ्रष्ट लोग कोरोना के वैक्सीन में चुनावी चंदे के नाम पर पीछे से करोड़ों रूपये खा सकते हैं, वो भला परीक्षा-प्रणाली को क्या छोड़ेंगे।