ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News उत्तर प्रदेशलखनऊ के फाइव स्टार होटल में खाना खाने से दो लोगों की बिगड़ी तबीयत, गुस्साए लोगों ने किया हंगामा, एफएसडीए ने दिया नोटिस

लखनऊ के फाइव स्टार होटल में खाना खाने से दो लोगों की बिगड़ी तबीयत, गुस्साए लोगों ने किया हंगामा, एफएसडीए ने दिया नोटिस

यूपी की राजधानी लखनऊ के नामचीन पांच सितारा होटल में खाना खाने के बाद दो लोगों की तबीयत बिगड़ गई। गुस्साए लोगों ने खूब हंगामा किया। साथ ही कॉल कर पुलिस को बुला लिया।

लखनऊ के फाइव स्टार होटल में खाना खाने से दो लोगों की बिगड़ी तबीयत, गुस्साए लोगों ने किया हंगामा, एफएसडीए ने दिया नोटिस
Dinesh Rathourप्रमुख संवाददाता,लखनऊThu, 30 May 2024 06:45 PM
ऐप पर पढ़ें

यूपी की राजधानी लखनऊ के नामचीन पांच सितारा होटल में खाना खाने के बाद दो लोगों की तबीयत बिगड़ गई। गुस्साए लोगों ने खूब हंगामा किया। साथ ही कॉल कर पुलिस को बुला लिया। पुलिस ने मौके पर एफएसडीए को बुलाया। एफएसडीए ने फिलहाल नमूने लेकर जांच के लिए भेजे हैं। साथ ही एक्सपायर प्रोडक्ट मिलने पर होटल को नोटिस दिया है। गोमती नगर स्थित होटल हयात रेजेंसी के रेस्त्रां में बुधवार की रात कुछ अधिवक्ता खाना खा रहे थे। शिकायतकर्ता के अनुसार भोजन करने के बाद उनकी तबीयत बिगड़ गई। होटल की ओर से परोसी गई चटनी खराब हो गई थी। हंगामा बढ़ने के बाद पुलिस को बुलाया गया। पुलिस ने एफएसडीए यानी खाद्य सुरक्षा एवं औषधि प्रशासन को इसकी सूचना दी।

रात 11:45 बजे एफएसडीए की टीम ने मौके पर पहुंच कर होटल के रेस्टोरेंट और किचेन की जांच की। खाद्य सुरक्षा अधिकारी अजय मौर्या, कमलेश कुमार शुक्ला, देवांश चतुर्वेदी और हेमंत कुमार ने खाद्य पदार्थों की स्थिति देखी। साथ ही स्टोर रूम का निरीक्षण किया। मुख्य खाद्य सुरक्षा अधिकारी जेपी सिंह के अनुसार मौके से चटनी, पनीर और दही का नमूना लिया गया है। इन नमूनों को राजकीय खाद्य विश्लेषक प्रयोगशाला जांच के लिए भेजा गया है। 

बेकरी उत्पाद एक्सपायर हो चुके थे

एफएसडीए को जांच के दौरान कई बेकरी उत्पाद ऐसे मिले जो एक्सपायर हो चुके थे। उनके उपयोग की अवधि पहले ही खत्म हो चुकी थी लेकिन उनका रखा गया था। ऐसे में मौके पर ही उनको नष्ट कराया गया। होटल के किचेन में सफाई से कार्य होता नहीं पाया गया। इन सब कमियों को देखते हुए नोटिस दिया गया है। नोटिस की अवधि पूरी होने तक कमियों को दुरुस्त करना होगा। इसके बाद एफएसडीए की टीम किसी भी दिन अचानक जांच करेगी। यदि दोबारा कमियां मिलीं तो कानूनी कार्रवाई की जाएगी।