DA Image
25 अक्तूबर, 2020|6:53|IST

अगली स्टोरी

विकास दुबे के गांव लग्जरी कार से आए दो नकाबपोशों ने किए माता के दर्शन, इलाके में हड़कंप

vikas dubey

बिकरू में लग्जरी कार से आए दो नकाबपोशों ने किए माता के दर्शन

कानपुर के चर्चित बिकरू गांव में शनिवार सुबह उस वक्त हड़कंप मच गया जब दो नकाबपोश लोग दुर्गा मंदिर में दर्शन करके निकल गए। ये कौन थे, मंदिर में दर्शन करने के बाद कहां गए। इन तमाम सवालों के जवाब न पुलिस के पास हैं और न ही गांव के लोगों के पास। वह सिर्फ इतना जानते हैं कि हर नवरात्रों में विकास दुबे का भाई दीपू यहां दर्शन करता था।

ग्रामीणों से मिली जानकारी के मुताबिक सुबह लगभग सात बजे लग्जरी कार आई और विकास की ढहाई गई कोठी के सामने से होते हुए दुर्गा मंदिर पर रुकी। उसमें दो लोग सवार थे जिन्होंने चेहरे पर गमछा बांध रखा था। उसमें से एक शख्स मंदिर के गेट पर खड़ा हो गया जबकि दूसरा अंदर गया। पूजा-अर्चना करने के बाद नारियल फोड़ा और घंटा बजाया। दोनों लगभग दस मिनट तक मंदिर में रुके उसके बाद कार में सवार होकर भीटी गांव की तरफ निकल गए। 

विकास की मां ने भी की थी पूजा
इससे पहले विकास की मां ने भी मंगलवार को मंदिर में पूजा-अर्चना की थी। वहां पर नारियल छोड़कर चली गई थी। उस दौरान ग्रामीणों ने बताया कि मंदिर का रखरखाव और उसको पूर्व में बनवाने का काम भी विकास और उसके परिवार ने कराया था। जानकारी दी थी कि दीपू अगर जेल में नहीं है तो वह किसी भी कीमत पर नवरात्रों में मंदिर में आकर दर्शन करता था। दोनों कार सवारों को लेकर ग्रामीण शनिवार को भी यही कयास लगा रहे थे।

बेपरवाह रही पुलिस
पुलिस गांव की सुरक्षा को लेकर मुस्तैद थी मगर समय के साथ पुलिस व्यवस्था भी लचर हो गई। वर्तमान में दो सिपाही सुबह से रात तक की ड्यूटी पर लगते हैं। ग्रामीणों के अनुसार यह सुबह के पुलिस कर्मी दोपहर में साढ़े 12- 1 बजे तक आते हैं वहीं रात वाले पुलिस कर्मी 10 से 12 के बीच में आते हैं और सुबह 4 बजे चले जाते हैं। चौबेपुर इंस्पेक्टर का कहना है कि दीपू दुबे के बारे में अभी कोई सूचना नहीं है। कार से दो नकाबपोश आए थे। इस तरह की भी कोई जानकारी पुलिस को नहीं मिली है। अगर ऐसा कुछ है तो इसके बारे में जानकारी जुटाई जाएगी।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:two masked men came to vikas dubey village bikru in luxury car and worship in mata temple kanpur encounter