DA Image
हिंदी न्यूज़ › उत्तर प्रदेश › कोरोना की तीसरी लहर से निपटने के लिए उत्तर प्रदेश में दो लाख बेड तैयार
उत्तर प्रदेश

कोरोना की तीसरी लहर से निपटने के लिए उत्तर प्रदेश में दो लाख बेड तैयार

हिन्दुस्तान टीम, अयोध्या सिद्धार्थ नगरPublished By: Shivendra Singh
Mon, 26 Jul 2021 05:54 AM
कोरोना की तीसरी लहर से निपटने के लिए उत्तर प्रदेश में दो लाख बेड तैयार

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने रविवार को अयोध्या और सिद्धार्थनगर का दौरा किया। उन्होंने कोरोना की संभावित तीसरी लहर की तैयारियों पर सरकार की तैयारियों की जानकारी दी। मुख्यमंत्री ने अयोध्या में बताया कि तीसरी लहर से निपटने के लिए प्रदेश में दो लाख बेड तैयार कर लिए गए हैं। प्रतिदिन तीन लाख से अधिक कोरोना जांच करने की क्षमता भी विकसित कर ली गई है। यूपी तीसरी लहर से निपटने के लिए पूरी तरह तैयार है। सीएम योगी राजर्षि दशरथ मेडिकल कॉलेज का निरीक्षण करने के बाद संवाददाताओं से बातचीत कर रहे थे।

मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य के 16 जिलों में निजी क्षेत्र के सहयोग से मेडिकल कॉलेजों की स्थापना की जाएगी। इसके लिए कार्ययोजना तैयार कर ली गई है। जल्द ही मेडिकल काउंसिल में प्रस्ताव भेजकर स्वीकृति प्राप्त कर ली जाएगी। सिद्धार्थनगर समेत नौ नए मेडिकल कॉलेजों में प्रवेश प्रक्रिया इसी सत्र से प्रारंभ हो जाएगी। सरकार का कार्यकाल समाप्त होने तक सभी 75 जिलों में मेडिकल कॉलेज हो जाएंगे। योगी ने कहा कि वर्ष 1947 से 2016 तक 69 वर्षों में उत्तर प्रदेश में सिर्फ 12 मेडिकल कॉलेज बन पाए थे जबकि पिछले चार वर्ष के दौरान 32 नए मेडिकल कॉलेज बन चुके हैं या बन रहे हैं। इस सत्र में 14 नए मेडिकल कॉलेज भारत सरकार के सहयोग से तैयार किए जाएंगे। आने वाले समय में उत्तर प्रदेश देश का ऐसा राज्य होगा, जहां सबसे अधिक संख्या में मेडिकल कॉलेज होंगे। 

इंसेफेलाइटिस न्यूनतम स्तर पर, कोविड प्रबंधन भी शानदार
मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश में बेहतर हेल्थ इंफ्रास्ट्रक्चर और प्रबंधन से इंसेफेलाइटिस बीमारी अब न्यूनतम स्तर पर है। कोरोना से निपटने में भी शानदार प्रबंधन रहा। कोरोना से अमेरिका, इंडोनेशिया जैसे विकसित देशों में जनता त्रस्त है और सरकार परेशान है। वहीं, यूपी में इस पर प्रभावी नियंत्रण सबके सामने है। कोरोना की पहली लहर के शुरुआत के समय सैम्पल को जांच के लिए यूपी से बाहर भेजना पड़ता था। तब और अब की स्थिति में बहुत परिवर्तन आ गया है। 

अयोध्या में उच्च स्तरीय स्वास्थ्य सुविधाएं मिलेंगी
योगी ने कहा कि आने वाले समय में अयोध्या नगरी वैश्विक मानचित्र पर नया स्थान बनाने जा रही है। पर्यटन के साथ अन्य क्षेत्रों में भी जनपद में उच्च स्तरीय सुविधाएं उपलब्ध कराई जाएंगी। अयोध्या उच्च स्तरीय स्वास्थ्य सुविधाओं का भी केन्द्र बनेगी। इस दिशा में मेडिकल कॉलेज मील का पत्थर साबित होगा। मेडिकल कॉलेज का निरीक्षण करने के बाद मुख्यमंत्री ने अयोध्या में रामजन्मभूमि में विराजमान रामलला और हनुमानगढ़ी में हनुमंत लला का दर्शन किया। रामजन्मभूमि में मंदिर के नींव के निर्माण कार्य का भी जायजा लिया। उन्होंने यात्री निवास में रामनगरी के प्रमुख संतों से मुलाकात की। साथ ही मणिराम छावनी में रामजन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र न्यास के अध्यक्ष महंत नृत्यगोपाल दास से मुलाकात कर उनके स्वास्थ्य का हाल जाना।  

पीएम मोदी का 30 जुलाई का सिद्धार्थनगर दौरा स्थगित
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का 30 जुलाई को सिद्धार्थनगर जिले का संभावित दौरा स्थगित हो गया है। प्रधानमंत्री सिद्धार्थनगर से प्रदेश के नौ मेडिकल कॉलेजों का लोकार्पण करने वाले थे। इसके लिए तैयारियां पूरी हो गई थीं। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने रविवार को इसी के मद्देनजर जिले का दौरा किया लेकिन मेडिकल कॉलेजों के लोकार्पण में नेशनल मेडिकल कॉउंसिल (एनएमसी) का पेच फंस गया। एनएमसी की टीम ने अब तक मेडिकल कॉलेजों की जांच-पड़ताल नहीं की है। इस कारण अभी इन मेडिकल कॉलेजों को मान्यता नहीं मिल पाई है। अब अगस्त माह में लोकार्पण की उम्मीद है।

संबंधित खबरें