ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News उत्तर प्रदेशकार पर पलटा लकड़ी लदा ट्रक, पति-पत्नी और मासूम के साथ बुजुर्ग की मौत, जौनपुर के परिवार के साथ हादसा

कार पर पलटा लकड़ी लदा ट्रक, पति-पत्नी और मासूम के साथ बुजुर्ग की मौत, जौनपुर के परिवार के साथ हादसा

जौनपुर के रहने वाले परिवार के साथ गुजरात में भीषण हादसा हो गया। उनकी कार पर लकड़ी लदा ट्रक पलट गया। हादसे में पति-पत्नी और मासूम के साथ ही महिला की नानी की मौत हो गई। एक अन्य महिला घायल है।

कार पर पलटा लकड़ी लदा ट्रक, पति-पत्नी और मासूम के साथ बुजुर्ग की मौत, जौनपुर के परिवार के साथ हादसा
Yogesh Yadavहिन्दुस्तान,जौनपुरFri, 05 Jan 2024 10:22 PM
ऐप पर पढ़ें

शिरडी से दर्शन करके बड़ोदरा (गुजरात) लौटते समय गुरुवार की रात में सापुतारा हिल स्टेशन के समीप कार के ऊपर लकड़ी लदा ट्रक पलट गया। हादसे में जौनपुर निवासी एक परिवार के चार लोगों की मौत हो गई और एक महिला गंभीर रूप से घायल हो गई। घटना की जानकारी मिलते ही परिजनों में कोहराम मच गया। महराजगंज थाना क्षेत्र के उदयभानपुर गांव निवासी रामाश्रय सिंह अपने परिवार के साथ गुजरात के बड़ोदरा में रहते हैं। वहां उनकी बेटी और दामाद भी थे। बुधवार को उनका दामाद अमित सिंह, बेटी प्रियंका सिंह, नातिन अनाया, रामाश्रय की मां रमना देवी व पत्नी मीरा एक कार से शिरडी साईं का दर्शन करने के लिए गए। दर्शन करके गुरुवार की रात में वापस लौट रहे थे। 

बताया जा रहा है कि वापस लौटते समय गुजरात के सापुतारा हिल स्टेशन के समीप कार को एक ट्रक ओवरटेक कर रहा था। इसी बीच लकड़ी लदा ट्रक टायर फटने से कार पर ही पलट गया। इसमें दबकर अमित (32), प्रियंका (20), अनाया (4) और रमना देवी (75) की मौत हो गई। पत्नी मीरा (50) की हालत गंभीर बताईजा रही है। जानकारी जैसे ही उदयभानपुर में पहुंची परिजनों में कोहराम मच गया। 

यहां रामाश्रय के पिता तालुकदार सिंह व परिवार के अन्य लोग रहते हैं। तालुकदार सिंह ने बताया कि बेटा परिवार के साथ गुजरात में ही रहता है। बता दें कि रामाश्रय बड़ोदरा में ही सब्जी बेचने का काम करते हैं, जबिक उनका दामाद बिल्डिंग बनवाने का काम करता था। सभी लोग बीते कुछ वर्षों से वहीं रह रहे थे।  रमना देवी बेटे के यहां अभी करीब एक माह पहले ही गांव उदयभानपुर से गई हैं। 

गोरखपुर में हुई थी बेटी की शादी
रामाश्रय की बेटी प्रियंका की शादी गोरखपुर में हुई थी। परिवार के लोगों ने बताया कि दामाद अमित मूल रूप से कालिका माता मंदिर बलिया गोरखपुर के रहने वाले थे। सभी का अंतिम संस्कार बड़ोदरा में ही किया गया।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें