ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News उत्तर प्रदेशबैंक से लिया 10 लाख का लोन, फिर भी नहीं चुका पाए सूदखोरों का कर्ज, मां-बेटे ने जहर पीकर दी जान

बैंक से लिया 10 लाख का लोन, फिर भी नहीं चुका पाए सूदखोरों का कर्ज, मां-बेटे ने जहर पीकर दी जान

इटावा में सूदखोरों से परेशान मां-बेटे ने जहर पीकर जान दे दी। एक ही बिस्तर पर दोनों के शव मिले। बेटे ने सूदखोरों का कर्ज चुकाने के लिए बैंक से 10 लाख का लोन लिया था, इसके बाद भी पैसा नहीं चुका सके थे।

बैंक से लिया 10 लाख का लोन, फिर भी नहीं चुका पाए सूदखोरों का कर्ज, मां-बेटे ने जहर पीकर दी जान
Pawan Kumar Sharmaहिन्दुस्तान,इटावाSat, 27 Apr 2024 04:28 PM
ऐप पर पढ़ें

यूपी के इटावा से एक सनसनीखेज मामला सामने आया है। जहां सूदखोरों से परेशान मां-बेटे ने जहर पीकर जान दे दी। एक ही बिस्तर पर दोनों के शव मिले। बेटे ने सूदखोरों का कर्ज चुकाने के लिए बैंक से 10 लाख का लोन लिया था, इसके बाद भी पूरा पैसा नहीं चुका सका था।ये घटना इकदिल थानाक्षेत्र के साईं कॉलोनी का है।

55 साल की सुमन देवी और उनका 28 साल का बेटा दीपू सोनी साथ रहते थे। गुरवार को बेटी अंजलि ने मां को फोन किया। न उठने पर गुरुवार रात पड़ोसियों को कॉल की। पड़ोसियों ने छत से जाकर देखा तो दोनों के शव पड़े दिखे। सुमन के पति हरिश्चंद्र की जनवरी में मौत हो गई थी। उन्होंने 2 साल पहले प्लॉट खरीद नया मकान बनवाया था। इसके लिए कुछ लोगों से ब्याज पर रुपये लिए थे। सूदखोरों का कर्ज वापस करने को उन्होंने बैंक से 10 लाख के लोन को आवेदन किया था पर पैसा मिलने से पहले ही उनकी मौत हो गई। बेटे को बैंक से 10 लाख रुपये मिले तो उसने कर्ज चुकाया, फिर भी सूदखोरों का कुछ पैसा देना बच गया था।

सूदखोर कौन थे इसके बारे में पुलिस के पास अभी तक कोई भी पुख्ता जानकारी नही है। मृतकों के रिश्तेदारों ने भी सूदखोरों के बारे में जानकारी से इंकार किया है। लेकिन मोहल्ले के लोगों ने दो दिन से लगातार एक युवक को मृतकों के घर के आसपास टहलते देखा है। माना जा रहा है कि वे सूदखोर से बच रहे थे और सूदखोर उन पर नजर रखे थे। पुलिस को केवल अभी तक इतना पता है कि दीपू ने बैंक से दस लाख का लोन फरवरी में लिया था। तो इससे स्पष्ट है कि बैंक का दबाव दो महीने में तो नहीं ही होगा। ऐसे में उनके ऊपर कर्ज का दबाव होगा तो सूदखोरों का होगा। लेकिन सूदखोर कौन थे, इसके बारे में पुलिस छानबीन कर रही है। 

पुलिस को जानकारी मिली है कि मृतकों के पास एक युवक को आते जाते देखा गया था, दो दिन से लगातार पर उनके घर पर नजर बनाये थे। पुलिस उनकी तलाश कर रही है। दोनों की मौत पोस्टमार्टम में जहर खाने से हुयी दर्शायी गयी है। लेकिन मोहल्ले के लोगों को इसमें कुछ संदिग्ध दिखायी दे रहा है। बताया गया कि उनका मेन गेट अंदर से बंद था, लेकिन छत से नीचे जाने को बना जीना का गेट खुला था, जबकि जीना का गेट इसके पहले कभी खुला नहीं रहता था। पुलिस इस बिंदु पर भी जांच कर रही है। उधर जानकारी के बाद एसपी सिटी अभय नाथ त्रिपाठी और सीओ सिटी अमित कुमार सिंह ने फोरेंसिक टीम के साथ जाकर छानबीन की।