ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News उत्तर प्रदेशकोरियर से नशीली दवाओं की सप्‍लाई, अमेरिका तक ऑनलाइन बिक्री कर रहे तीन गिरफ्तार

कोरियर से नशीली दवाओं की सप्‍लाई, अमेरिका तक ऑनलाइन बिक्री कर रहे तीन गिरफ्तार

यूपी की स्‍पेशल टास्‍क फोर्स (एसटीएफ) ने प्रतिबन्धित नशीली दवाओं की अपने देश लेकर अमेरिका तक ऑनलाइन बिक्री कर करोड़ों रुपये की कमाई कर रहे गिरोह के 3 तस्करों को टेल्को के पास गिरफ्तार किया है।

कोरियर से नशीली दवाओं की सप्‍लाई, अमेरिका तक ऑनलाइन बिक्री कर रहे तीन गिरफ्तार
Ajay Singhप्रमुख संवाददाता,लखनऊSat, 25 May 2024 07:34 AM
ऐप पर पढ़ें

Supply of drugs through courier: एसटीएफ ने प्रतिबन्धित नशीली दवाओं की अपने देश लेकर अमेरिका तक ऑनलाइन बिक्री कर करोड़ों रुपये की कमाई कर रहे गिरोह के तीन तस्करों को टेल्को के पास गिरफ्तार किया है। शुक्रवार को तीनों लोग कोरियर के जरिये प्रतिबन्धित दवाओं को अमेरिका भेजने जा रहे थे, तभी एसटीएफ ने इन्हें पकड़ लिया। ये लोग डार्क वेब के जरिये इन नशीली दवाओं के खरीदारों का मोबाइल नम्बर पता कर लेते थे, फिर उनसे सम्पर्क कर 400 रुपये की दवा 300 डॉलर में बेचते है। नशीली दवाएं अमीनाबाद और दिल्ली की दवा मार्केट में विक्रेताओं की साठगांठ से खरीदी जाती है। तीनों के पास प्रतिबन्धित नशीली 13,500 गोलियां (ट्रामाडॉल) बरामद हुई हैं। गिरोह के सरगना का पता लगाया जा रहा है। 

एसटीएफ के डिप्टी एसपी दीपक कुमार सिंह ने बताया कि गिरफ्तार तस्करों में डालीगंज निवासी साहिल उर्फ हैदर अली उर्फ साहिल मुखौटा, हसनगंज, ब्रह्मनगर निवासी अब्दुला सुहैल उर्फ अंधा और मदेयगंज नई बस्ती निवासी मो.एनफ उर्फ दानिश उर्फ दानिश कालिया हैं। ये लोग अंतराष्ट्रीय स्तर पर नशीली दवाओं की तस्करी कर रहे थे। 

डार्क वेब से पता करते थे नम्बर
डिप्टी एसपी ने बताया कि साहिल व अब्दुला डार्क वेब और व्हाईट वेब के जरिये भारत व अमेरिका समेत कई देशों के ग्राहकों का पूरा डाटा पता कर लेते थे। फिर टेक्सट नॉउ, सेकेण्ड लाइन जैसे ऐप से इनके वर्चुअल नम्बर पता कर इन ग्राहकों से सम्पर्क कर लेते थे। जिन्हें प्रतिबन्धित नशीली दवाओं की जरूरत होती थी, उनसे कैशी, वेनमो, पेयपॉल एप से भुगतान लेने के बाद नशीली दवाएं उन तक पहुंचा देते थे। 

400 रुपये की दवा 300 डॉलर में बेचते 
डिप्टी एसपी दीपक सिंह ने बताया कि गिरोह के लोग 400 रुपये की नशीली दवाओं को साठगांठ कर खरीदते, फिर इन्हें करीब 300 डॉलर (करीब 22 हजार रुपये) में बेचते थे। इन तीनों ने पूछताछ में कई और महत्वपूर्ण जानकारियां दी है। इस आधार पर आगे की पड़ताल की जा रही है। इस मामले में चिनहट कोतवाली में एफआईआर दर्ज करायी गई है। एसटीएफ इस मामले में कई और लोगों की तलाश कर रही है। 

पहले भी पकड़े गये लखनऊ से कई तस्कर
चार साल में प्रतिबन्धित नशीली दवाओं की अतंराष्ट्रीय स्तर पर तस्करी करने वाले गिरोह के कई सदस्यों को पहले भी पकड़ा जा चुका है। एसटीएफ ने अमीनाबाद और इंदिरानगर में इस तरह का बड़ा गिरोह पकड़ा था। इनमें गिरोह में मुख्य भूमिका निभाने वाला शाहबाज पकड़ा गया था। उससे मिली जानकारी पर गिरोह के कई सदस्य पकड़े गये थे। इन लोगों ने कुबूला था कि वह लोग अमीनाबाद की दवा मार्केट व कुछ चिन्हित मेडिकल स्टोर से डॉक्टर के पर्चे के बिना ही नशीली दवाओं की काफी मात्रा में गोलियां खरीद लेते थे। इसके बदले गिरोह के लोग इन दवा विक्रेता को कमीशन देते है।