DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

UP: पुलवामा हमले में शहीद हुए जवान की जमीन पर कब्जे की कोशिश, परिवार को दी धमकी

martyr soldiers pankaj tripathi

पुलवामा आतंकी हमले में शहीद हुए जवान पंकज त्रिपाठी के परिजनों को पट्टे पर मिली एक एकड़ जमीन पर कब्जे की कोशिश हुई है। यही नहीं, विरोध पर शहीद के परिजनों को दबंग जान से मारने की धमकी दे रहे हैं। शहीद के भाई ने मंगलवार को समाधान दिवस में अफसरों के सामने मामला रखा तो हलचल हुई। एसडीएम को मामले की जांच सौंपी गई है। वहीं जमीन पर अभी तक परिजनों को कब्जा न मिलने से व्यवस्था पर भी सवाल है।

मंगलवार को फरेंदा में आयोजित समाधान दिवस में पहुंचे शहीद पंकज के छोटे भाई शुभम त्रिपाठी ने बताया कि उनके भाई पुलवामा आतंकी हमले में शहीद हुए थे। इसके बाद शासन से लेकर जिला प्रशासन ने परिवार की पूरी मदद करने का भरोसा दिया। जिला प्रशासन ने खेती के लिए जमीन पट्टे पर दी, लेकिन उस जमीन पर जब 10 जुलाई को धान की रोपाई करने गए तो गांव के ही कुछ लोगों ने रोक दिया। धमकी दी कि बड़ा भाई तो देश के नाम पर शहीद हो गया, अब तुम अकेले बचे हो। ठीक से रहो नहीं तो अंजाम बुरा होगा। शुभम ने बताया कि दबंगों की जान-माल की धमकी से पूरा परिवार सहमा है। वह कभी भी कोई बड़ी घटना को अंजाम दे सकते हैं। ऐसे में प्रशासन पूरे परिवार की सुरक्षा की जिम्मेदारी लेते हुए पट्टे की जमीन पर कब्जा दिलाए। प्रभारी डीएम पवन अग्रवाल ने तत्काल एसडीएम फरेंदा आरबी सिंह को जांच सौंपी। रिपोर्ट के आधार पर कार्रवाई का निर्देश दिया। 

अभी तक नहीं मिला जमीन पर कब्जा
जम्मू कश्मीर के पुलवामा में 14 फरवरी को हुए आतंकी हमले में फरेंदा क्षेत्र के हरपुर बेलहिया निवासी पंकज त्रिपाठी शहीद हो गए थे। अंतिम संस्कार के समय प्रभारी मंत्री रमापति शास्त्री ने शहीद के नाम पर स्पोर्ट्स स्टेडिएम, सड़क, गांव में शहीद की प्रतिमा और खेती के लिए एक एकड़ जमीन पट्टे पर देने की घोषणा की थी। बाकी सभी घोषणाओं पर तो काम चल रहा है, लेकिन पट्टे की जमीन पर अभी तक कब्जा नहीं मिला। इस बीच परिजनों ने जमीन पर कब्जे का आरोप लगा पूरी व्यवस्था पर सवाल खड़ा कर दिया है।  
 
शहीद के भाई की शिकायत पर एसडीएम फरेंदा को जांच सौंपी गई है। अगर किसी ने भी जमीन पर कब्जा करने की कोशिश की तो उससे सख्ती से निपटा जाएगा।- पवन अग्रवाल, प्रभारी डीएम

विवाद फरवरी का है। प्रधान ने पट्टे का प्रस्ताव नहीं दिया था। दो दिन के अंदर सभी औपचारिकताएं पूरी कर शहीद के परिजनों को कब्जा दिला दिया जाएगा।- आरबी सिंह, एसडीएम, फरेंदा

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Threats given to family and try to capture the land of martyr soldiers Pankaj Tripathi in Pulwama Terror attack