ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News उत्तर प्रदेशदिल्ली-मेरठ रैपिड रेल के की तीसरी सुरंग तैयार, अब चौथी के लिए जल्द शुरू होगा निर्माण

दिल्ली-मेरठ रैपिड रेल के की तीसरी सुरंग तैयार, अब चौथी के लिए जल्द शुरू होगा निर्माण

दिल्ली-मेरठ रैपिड रेल को लेकर मेरठ में तीसरी सुरंग भी बनकर तैयार हो गई है। एनसीआरटीसी के एमडी विनय कुमार सिंह ने मंगलवार को इसका लोकार्पण किया।

दिल्ली-मेरठ रैपिड रेल के की तीसरी सुरंग तैयार, अब चौथी के लिए जल्द शुरू होगा निर्माण
Dinesh Rathourमुख्य संवाददाता,मेरठTue, 07 Feb 2023 07:42 PM

इस खबर को सुनें

0:00
/
ऐप पर पढ़ें

दिल्ली-मेरठ रैपिड रेल को लेकर मेरठ में तीसरी सुरंग भी बनकर तैयार हो गई है। एनसीआरटीसी के एमडी विनय कुमार सिंह ने मंगलवार को इसका लोकार्पण किया। अब जल्द ही भैंसाली से बेगमपुल के बीच चौथी सुरंग का निर्माण शुरू हो जाएगा। मेरठ शहर में करीब सात किमी में सुरंग के भीतर रैपिड रेल का संचालन होगा। 

मंगलवार को दिल्ली-गाजियाबाद-मेरठ रैपिड रेल कॉरिडोर पर तीसरी सुरंग का निर्माण पूर्ण हो गया। इसका निर्माण कर रही सुदर्शन 8.2 (टनल बोरिंग मशीन) ने पहले भैंसाली से मेरठ सेंट्रल स्टेशन के बीच लगभग दो किलोमीटर लंबी सुरंग का सफलतापूर्वक निर्माण पूरा कर लिया था। अब मेरठ सेंट्रल स्टेशन से भैंसाली के बीच काम पूर्ण होने के बाद इसका लोकार्पण किया गया। एनसीआरटीसी के एमडी ने सुरंग निर्माण में लगी टीम को बधाई दी।

मेरठ में रैपिड रेल कॉरिडोर की यह तीसरी सुरंग है, जिसका सफलतापूर्वक निर्माण पूर्ण हुआ है। करीब डेढ़ महीने पहले भैंसाली से मेरठ सेंट्रल स्टेशन तक की दूसरी सुरंग का निर्माण सुदर्शन 8.1 ने पूर्ण किया था। रैपिड रेल के अंडरग्राउंड कॉरिडोर में हाईस्पीड ट्रेनों की आवाजाही के लिए दो समानांतर सुरंग की व्यवस्था है। भैंसाली से मेरठ सेंट्रल और मेरठ सेंट्रल से भैंसाली तक की दूसरी समानांतर सुरंग निर्माण पूर्ण होने इस सेक्शन का अंडरग्राउंड हिस्सा पूरी तरह निर्मित हो चुका है। 

अक्तूबर में बनी थी पहली सुरंग 

मेरठ में पहली सुरंग का निर्माण अक्टूबर 2022 में हुआ। सुदर्शन 8.3 ने गांधीबाग से बेगमपुल तक सुरंग का निर्माण किया था। वर्तमान में यही सुदर्शन 8.3 बेगमपुल से गांधीबाग तक की दूसरी समानांतर सुरंग का निर्माण कर रही है। आने वाले हफ्तों में भैंसाली से मेरठ सेंट्रल तक सुरंग निर्माण कर चुकी दोनों टीबीएम-सुदर्शन 8.1 और सुदर्शन 8.2 को भैंसाली से बेगमपुल के बीच समानांतर दो सुरंग निर्माण के लिए पुन: असेंबल किया जाएगा।  

अब तेजी से होगा सुरंग में ट्रैक निर्माण

भैंसाली से मेरठ सेंट्रल और मेरठ सेंट्रल से भैंसाली तक 2-2 किलोमीटर लंबी दो समानांतर सुरंग के निर्माण के साथ एनसीआरटीसी ने परियोजना का एक और माइलस्टोन हासिल कर लिया है। सुरंग निर्माण होने के बाद सुरंग के अंदर ट्रैक बिछाने का कार्य प्रारंभ होगा। मेरठ के शताब्दीनगर के कास्टिंग यार्ड की ट्रैक स्लैब फैक्ट्री में प्रीकास्ट ट्रैक स्लैब का निर्माण किया जा रहा है। इन ट्रैक स्लैब को ट्रकों-ट्रेलरों के जरिये टनल की साइट पर ले जाया जाएगा और इन्सटॉल किया जाएगा। संपूर्ण कॉरिडोर को 2024 अंत तक जनता के लिए खोलने के लक्ष्य के अनुरूप यह कार्य तीव्र गति से किया जाएगा।

एक नजर 

  • भैंसाली से मेरठ सेंट्रल और मेरठ सेंट्रल से भैंसाली तक लगभग 2 किमी लंबी सुरंग के निर्माण 9000 सेगमेंट का उपयोग किया गया है।
  • सात खंडों को जोड़कर एक रिंग का निर्माण किया जाता है। प्रत्येक सेगमेंट 1.5 मीटर लंबा और 275 मिमी मोटा होता है।
  • 180 किमी. प्रति घंटे की उच्च डिजाइन गति को लेकर बनाई गई है सुरंग।