ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News उत्तर प्रदेशबेटे का शव समझकर परिजनों ने कर दिया अंतिम संस्कार, सात दिन बाद हुआ 'चमत्कार'

बेटे का शव समझकर परिजनों ने कर दिया अंतिम संस्कार, सात दिन बाद हुआ 'चमत्कार'

यूपी के सहारनपुर में एक युवक की मौत की सूचना परिजनों को मिली तो कोहराम मच गया। परिजन मुजफ्फरनगर की मोर्चरी से उसका शव ले आए और आनन-फानन में अंतिम संस्कार कर दिया।

बेटे का शव समझकर परिजनों ने कर दिया अंतिम संस्कार, सात दिन बाद हुआ 'चमत्कार'
Dinesh Rathourहिन्दुस्तान,सहारनपुर, बड़गांवThu, 08 Feb 2024 09:15 PM
ऐप पर पढ़ें

यूपी के सहारनपुर में एक युवक की मौत की सूचना परिजनों को मिली तो कोहराम मच गया। परिजन मुजफ्फरनगर की मोर्चरी से उसका शव ले आए और आनन-फानन में अंतिम संस्कार कर दिया। दो दिन पहले रस्म पगड़ी भी कर दी। लेकिन, बुधवार रात को कुछ ऐसा हुआ, जिसे देखकर लोग चमत्कार कहते नजर आए। जिसे मरा समझकर घर वालों ने अंतिम संस्कार कर दिया था, सात दिन बाद उसे जिंदा देखकर खुशी का ठिकाना नहीं रहा। जिसके बाद पूरे गांव में कोलाहल मच गया। बड़ी संख्या में ग्रामीणों का तांता लग गया। परिजनों ने भी युवक की शिनाख्त कर ली। उधर, गांव में चर्चा है कि जिस शव का अंतिम संस्कार किया था वह किसका था। 

मामला थाना बड़गांव क्षेत्र के गांव चिरांऊ का है। बताया जा रहा है कि गांव निवासी प्रमोद कुमार (24) पुत्र चंद्र प्रजापति करीब 15 दिन पहले गांव से हरिद्वार में एक ढाबे से नौकरी करने की बात कहकर गया था। बीते 31 जनवरी को परिजनों को सोशल मीडिया में मैसेज मिला, जिसमें लिखा था कि अज्ञात युवक का शव मुजफ्फरनगर मोर्चरी में रखा है। मृतक की शक्ल प्रमोद से मिलती जुलती थी। जिस कारण परिजनों में कोहराम मच गया और वह मुजफ्फरनगर मोर्चरी में पहुंचे। जहां पर उन्होंने शव की शिनाख्त प्रमोद कुमार के रूप में की और शव को अपने साथ गांव ले आए।

इसके बाद शव का गमगीन माहौल में अंतिम संस्कार भी कर दिया। यही नहीं पांच फरवरी को रस्म पगड़ी शोकसभा भी कर दी गई। लेकिन, इस मामले में नया मोड़ तब आया जब बुधवार की रात को प्रमोद गांव लौट आया। उसके गांव में लौटने पर ग्रामीणो में कोलाहल मच गया। परिजनों ने भी प्रमोद की मौत होने की बात कही। प्रमोद के जिंदा वापस आने के बाद ग्रामीणों की भीड़ उनके आवास पर लग गई। परिजनों ने भी प्रमोद को गले से लगा लिया। 

बेटे को जिंदा लौटने पर मां की आंखें भर आईं 

बड़गांव। मां बोहती देवी जवान बेटे प्रमोद मौत से गमगीन थी। लेकिन, अब उसे जिंदा देखकर खुशी में दिल भर आया। मां ने बेटे को गले लगाकर काफी देर तक दुलारा। वहीं प्रमोद की बहन भी भाई के जिंदा वापस आने पर खुशी से झूम उठी।

कोल्ड ड्रिक मांगी तो दुकानदार दुकान छोड़कर भागा 

प्रमोद देर रात को गांव में ही एक दुकान पर पहुंचा। उसने कोल्ड ड्रिंक मांगी। प्रमोद को अपने सामने देखकर वह हैरान रह गया। दुकानदार ने प्रमोद से कहा कि तेरी तो मृत्यु हो चुकी है। जिस पर वह नाराज हो और तेजी से दुकानदार पर झपटा। दुकानदार भी डर गया और दुकान को छोड़कर वहां से भाग गया। इसके बाद गांव में अन्य व्यक्तियों को इसकी सूचना दी।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें