ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News उत्तर प्रदेशमेरे साथ फैसला नहीं इंसाफ होगा...कोर्ट जाते समय कानपुर में बोले इरफान सोलंकी

मेरे साथ फैसला नहीं इंसाफ होगा...कोर्ट जाते समय कानपुर में बोले इरफान सोलंकी

विधायक इरफान सोलंकी ने गुरुवार को विधायक इरफान सोलंकी ने एमपी एमएलए लोअर कोर्ट में दर्ज कराए। कर्नलगंज थाने में छह साल पहले मुकदमा दर्ज कराया गया था। चार नवंबर को अंतिम बहस होगी।

मेरे साथ फैसला नहीं इंसाफ होगा...कोर्ट जाते समय कानपुर में बोले इरफान सोलंकी
Dinesh Rathourप्रमुख संवाददाता,कानपुरThu, 26 Oct 2023 11:32 PM
ऐप पर पढ़ें

आचार संहिता के उल्लंघन मामले में मुझे राजनीतिक रंजिश के चलते झूठा फंसाया गया। मेरा इससे कोई लेना-देना नहीं है। यह बयान विधायक इरफान सोलंकी ने गुरुवार को विधायक इरफान सोलंकी ने एमपी एमएलए लोअर कोर्ट में दर्ज कराए। कर्नलगंज थाने में छह साल पहले मुकदमा दर्ज कराया गया था। चार नवंबर को अंतिम बहस होगी। वहीं जाजमऊ आगजनी मामले में अभियोजन की बहस नहीं हो सकी। कोर्ट ने अगली तारीख 30 अक्टूबर नियत की है। जाजमऊ आगजनी मामले में आरोपी सपा विधायक इरफान सोलंकी को लगभग ढाई माह बाद महाराजगंज जेल से गुरुवार को कड़ी सुरक्षा में कानपुर लाया गया। कोर्ट जाते वक्त इरफान ने हाथ हिलाकर समर्थकों का अभिवादन किया और बोले मेरे साथ फैसला नहीं इंसाफ होगा। सुबह लगभग 10:30 बजे कानपुर पहुंचे इरफान को पेशी के बाद लगभग ढाई बजे वापस महाराजगंज के लिए ले जाया गया।

क्या है पूरा मामला

वर्ष 2017 में विधानसभा चुनाव के दौरान ईदगाह कॉलोनी के पास एक हैंडपंप लगे होने की जानकारी पुलिस को मिली थी वहां तत्कालीन सपा विधायक और विधानसभा प्रत्याशी इरफान सोलंकी के अलावा उपाध्यक्ष बंटी सेंगर व सयुस अध्यक्ष रोहित वर्मा उर्फ मोंटी का बैनर भी लगा था। इसके पास ही दो अन्य हैंडपंप भी लगवाए गए थे। इसी मामले में कर्नलगंज थाने में आचार संहिता उल्लंघन का मुकदमा दर्ज किया गया था।

तीनों के खिलाफ चार्जशीट कोर्ट में भेजी गई थी। मुकदमे की गवाही पूरी हो चुकी है। गुरुवार को तीनों आरोपी कोर्ट में पेश हुए। जहां तीनों ने अपने बयान दर्ज कराए। महाराजगंज जेल में बंद इरफान सोलंकी भी कोर्ट पहुंचे। कोर्ट ने इरफान से चार सवाल किए। वहीं जाजमऊ आगजनी मामले में एमपी एमएलए सेशन कोर्ट में सुनवाई चल रही है। अभियोजन की बहस जारी है। गुरुवार को भी आगे की बहस होनी थी लेकिन बहस नहीं हो सकी। विशेष न्यायाधीश सत्येंद्र त्रिपाठी ने बहस के लिए 30 अक्तूबर की तारीख नियत कर दी है। 

महाराजगंज जेल में मेंढक व कीड़े निकलते

कोर्ट में इरफान ने महाराजगंज जेल से दोबारा कानपुर शिफ्ट किए जाने की मांग की। इरफान ने कोर्ट में कहा कि जेल में उनका मेडिकल चेकअप नहीं कराया जा रहा। जेल में कई तरह की समस्याएं हैं। वहां कीड़े मकोड़े तक बैरक में पहुंच जाते हैं। इस पर कोर्ट ने लिखित शिकायत देने की बात कही है।
 

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें