ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News उत्तर प्रदेशलखनऊ में इस चौराहे पर मांस-मछली की दुकानों का सर्वे होगा, हाईकोर्ट ने दिया आदेश; जानें पूरा मामला 

लखनऊ में इस चौराहे पर मांस-मछली की दुकानों का सर्वे होगा, हाईकोर्ट ने दिया आदेश; जानें पूरा मामला 

याचिका में कहा गया है कि चि‍नहट तिराहा किसान मार्केट रोड पर अवैध रूप से चल रही मांस और मछली की दुकानें वहां से हटायीं जाएं। मांस-मछली का कारोबार खुले में बड़े ही गंदे तरीके से किया जा रहा है।

लखनऊ में इस चौराहे पर मांस-मछली की दुकानों का सर्वे होगा, हाईकोर्ट ने दिया आदेश; जानें पूरा मामला 
Ajay Singhविधि संवाददाता,लखनऊWed, 15 May 2024 05:23 AM
ऐप पर पढ़ें

High Court Order: इलाहाबद हाईकोर्ट की लखनऊ खंडपीठ ने चिनहट तिराहा मार्केट के आसपास कथित तौर पर अवैध रूप से संचालित होने वाली मांस और मछली बेचने वालों का सर्वे कर रिपोर्ट देने का आदेश राज्य सरकार, नगर निगम तथा संबंधित विभागों को दिया है। हांलाकि कोर्ट ने साफ किया कि जिन विक्रेताओं के पास वैध लाइसेंस है उन्हें परेशान न किया जाये। मामले की अगली सुनवाई 29 मई को होगी।

यह आदेश न्यायमूर्ति राजन राय और न्यायमूर्ति ओम प्रकाश शुक्ला की पीठ ने राज किशोर की ओर से दाखिल एक जनहित याचिका पर सुनवायी करते हुए पारित किया। कोर्ट ने अफसरों से यह भी पूछा है कि क्या कथित रूप से अवैध ये मांस और मछली की दुकानें सार्वजनिक भूमि पर बनायी गयीं है। याचिका में कहा गया है कि चिनहट तिराहा किसान मार्केट रोड पर अवैध रूप से चल रही मांस और मछली की दुकानें वहां से हटायीं जाएं। मांस और मछली का कारोबार खुले में बड़े ही गंदे तरीके से किया जा रहा है। जिससे लोगों के स्वास्थ्य को खतरा है।

ये दुकानें सार्वजनिक भूमि पर अवैध तरीके से बनायी गयीं हैं। इन दुकानों को चलाने के लिए नगर निगम या अन्य किसी संबधित विभाग से लाइसेंस भी नहीं लिया गया है। याची ने चिनहट तिराहे के आसपास से अतिक्रमण हटाने की भी मांग की है। नगर निगम की ओर कहा गया कि उसने अतिक्रमण हटाया है। जिस पर याची का कहना था कि एक ओर अतिक्रमण हटाया जाता है तो दूसरी ओर वह फिर से कायम हो जाता है।

याची ने आरेाप लगाया है कि अतिक्रमण करवाने में स्थानीय पुलिस और अन्य जिम्मेदार अफसरों की भूमिका है। सुनवायी के बाद कोर्ट ने सरकार और नगर निगम से जवाब तलब किया है। साथ ही याचिका में अपर मुख्य सचिव खाद्य और रसद तथा जिला पूर्ति अधिकारी को भी पक्षकार बनाने का आदेश दिया है।