ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News उत्तर प्रदेशआयुष्मान कार्ड बनवाने में फंसा पेंच, ऑफिसों के चक्कर काट रहे लोग

आयुष्मान कार्ड बनवाने में फंसा पेंच, ऑफिसों के चक्कर काट रहे लोग

आयुष्मान कार्ड बनवाने में एक पेंच फंस गया है। कार्ड बनवाने के लिए लोग ऑफिसों के चक्कर काट रहे हैं। सिर्फ 2019 तक के राशन लाभार्थियों के नाम ही शासन की नई आयुष्मान सूची में है।

आयुष्मान कार्ड बनवाने में फंसा पेंच, ऑफिसों के चक्कर काट रहे लोग
Deep Pandeyहिन्दुस्तान,आगराMon, 20 Nov 2023 07:42 AM
ऐप पर पढ़ें

दरअसल सरकार ने घोषणा की थी कि जिस परिवार के राशन कार्ड में छह या उससे अधिक सदस्य हैं, उनके आयुष्मान कार्ड बनाए जाएंगे। सभी सरकारी अस्पताल, योजना से संबद्ध निजी अस्पतालों में कार्ड बनाए जाने की सुविधा है। यहीं एक पेंच फंस गया। आयुष्मान लाभार्थियों की सूची 2019 तक बन चुके राशन कार्डों पर आधारित है। यानि जिनके कार्ड 2019 तक बन चुके हैं, अपडेट हो चुके हैं, उनके नाम ही सूची में शामिल किए गए हैं। 2020 से लेकर 2023 तक जिनके राशन कार्ड बने हैं, उनके नाम शामिल नहीं हैं। जबकि ऐसे सभी राशन कार्ड धारक अस्पतालों के चक्कर काट रहे हैं। उनके नाम लाभार्थियों की सूची में नहीं हैं। सीएमओ आफिस भी ऐसे तमाम लोग आ रहे हैं। विभाग के अधिकारी-कर्मचारी लोगों को समझाते परेशान हो चुके हैं।

60 साल वालों में भी भ्रम की स्थिति

60 साल या इससे अधिक अधिक उम्र वालों के कार्ड बनने में भ्रम की स्थिति है। हर सीनियर सिटीजन कार्ड बनवाने पहुंच रहा है। जबकि नियमों के मुताबिक एक परिवार में सिर्फ दो लोग होने पर ही कार्ड बनेगा। दोनों की उम्र 60 या इससे अधिक होनी चाहिए। उनके नाम राशन कार्ड भी होना चाहिए। यहां भी गफलत बनी हुई है।

राशन छोड़ने वालों के नाम भी उड़े

एक दिक्कत और है। किन्हीं कारणों से कुछ महीने राशन नहीं ले पाए परिवारों के नाम अब राशन कार्ड की सूची से भी गायब हो गए हैं। जबकि ऐसे तमाम लोग कार्ड बनवाने को चक्कर लगा रहे हैं। कई सालों से राशन नहीं ले रहे परिवारों के नाम भी आयुष्मान की पात्र सूची में नहीं हैं। जबकि वह एपीएल कार्ड धारक रहे हैं।

विशेष वर्ग को मिल रहा लाभ
पूर्व राज्यमंत्री डा. जीएस धर्मेश ने का कहना है कि आयुष्मान योजना का लाभ एक विशेष वर्ग को को ही मिल रहा है। कार्ड बनवाने के लिए सिर्फ उन्हीं लोगों की भीड़ लग रही है। जबकि बहुसंख्यक लोग इससे वंचित हैं। उन्होंने प्रधानमंत्री को पत्र लिखकर छह सदस्य वाले परिवारों की अनिवार्यता खत्म करने का अनुरोध किया है।

सिर्फ 2019 तक के राशन लाभार्थियों के नाम 
नोडल अफसर आयुष्मान डा. नंदन सिंह ने बताया कि  पहले ही बताया जा चुका है कि सिर्फ 2019 तक के राशन लाभार्थियों के नाम ही शासन की नई आयुष्मान सूची में है। इसी तरह 60 साल आयु वर्ग में भी सिर्फ दो लोगों का परिवार होना चाहिए। लोगों को यह फर्क समझ में नहीं आया है।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें