ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News उत्तर प्रदेशअयोध्या के राम मंदिर में उमड़ रहा श्रद्धालुओं का सैलाब, छह दिन में 19 लाख रामभक्तों ने किए रामलला के दर्शन

अयोध्या के राम मंदिर में उमड़ रहा श्रद्धालुओं का सैलाब, छह दिन में 19 लाख रामभक्तों ने किए रामलला के दर्शन

22 जनवरी को राम मंदिर प्राण प्रतिष्ठा के अगले दिन श्रद्धालुओं के लिए रामलला के कपाट खोल दिए गए। तब से लगातार श्रद्धालुओं का अयोध्या पहुंचना जारी है। रामनगरी में दर्शन के लिए आने वाले....

अयोध्या के राम मंदिर में उमड़ रहा श्रद्धालुओं का सैलाब, छह दिन में 19 लाख रामभक्तों ने किए रामलला के दर्शन
Dinesh Rathourहिन्दुस्तान,अयोध्या।Sun, 28 Jan 2024 09:22 PM
ऐप पर पढ़ें

22 जनवरी को राम मंदिर प्राण प्रतिष्ठा के अगले दिन श्रद्धालुओं के लिए रामलला के कपाट खोल दिए गए। तब से लगातार श्रद्धालुओं का अयोध्या पहुंचना जारी है। रामनगरी में दर्शन के लिए आने वाले श्रद्धालुओं का रेला थमने का नाम नहीं ले रहा है। श्रद्धालुओं की भीड़ हर दिन रोज नया कीर्तिमान बना रही है। यहां श्रद्धालुओ का जत्था अनवरत देखा जा सकता है। प्राण प्रतिष्ठा से लेकर अबतक छह दिनों में 18.75 लाख से अधिक रामभक्तों ने नव्य-भव्य मंदिर में दर्शन-पूजन कर किया है। वहीं मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के दिशानिर्देश पर गठित उच्चस्तरीय कमेटी की देखरेख में श्रद्धालुओं को सुगमता के साथ दर्शन-पूजन की व्यवस्था उपलब्ध कराई जा रही है।  

प्राण प्रतिष्ठा के बाद पहले दिन यानी 23 जनवरी को मंदिर के पट भक्तों के लिए खुले तो लाखों की संख्या में श्रद्धालु उमड़ पड़े। जानकारी के अनुसार रोजाना दो लाख से अधिक रामभक्त श्रीरामलला के दरबार में सुगमता पूर्वक पहुंचकर दर्शन-पूजन कर रहे हैं। अयोध्या नगर से लेकर मंदिर परिसर में दिनभर जय श्रीराम का जयघोष गूंज रहा है। देश-विदेश, विभिन्न राज्यों और उत्तर प्रदेश के विभिन्न जिलों से रोजाना बड़ी संख्या में श्रद्धालु श्रीरामलला के दर्शन को पहुंच रहे हैं। वहीं रविवार को भी करीब 3.25 लाख कि संख्या में श्रद्धालुओं ने श्रीरामलला के दर्शन किए।

लगातार बढ़ रही श्रद्धालुओं की संख्या

  • 23 जनवरी - 5 लाख
  • 24 जनवरी - 2.5 लाख
  • 25 जनवरी - 2 लाख
  • 26 जनवरी - 3.5 लाख
  • 27 जनवरी - 2.5 लाख
  • 28 जनवरी - 3.25 लाख 

ओडीसी नृत्यांगना सुजाता महापात्र ने मोहक प्रस्तुति दी

राम मंदिर में चल रहे 45 दिवसीय रागोत्सव के अन्तर्गत राग-सेवा में रविवार को उड़ीसा बालासोर की प्रख्यात नृत्यांगना व ओडीसी नृत्य शैली की शिक्षिका सुजाता महापात्रा ने अपनी प्रस्तुतियों से आराध्य को रिझाया। संगीत नाटक अकादमी पुरस्कार समेत विभिन्न पुरस्कारों से सम्मानित महापात्रा ने अपनी भाव प्रवणता व चपलता से सभी को भावविभोर कर दिया। श्रीरामजन्म भूमि तीर्थ क्षेत्र के तत्वावधान में आयोजित इस रागोत्सव के समन्वयक व युवा साहित्यकार यतीन्द्र मिश्र ने बताया कि ओड़िशी नृत्य मुख्यतः मंदिरों में किए जाने वाले नृत्य की म्हारी परम्परा है जो कि उड़ीसा के मंदिरों में विशेष प्रचलित है।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें