DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

Good News: हार्टअटैक व ब्रेन स्ट्रोक रोकेगी CSA कानपुर की अलसी

alsi seeds csa kanpur

हार्टअटैक व ब्रेन स्ट्रोक की संभावना को अब अलसी के जरिए कम किया जा सकेगा। चन्द्रशेखर आजाद कृषि एवं प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय ने अलसी की एक नई प्रजाति तैयार की है। इसमें ओमेगा-3 फैटी एसिड की मात्रा सबसे अधिक है। अगस्त में यह प्रजाति लांच की जाएगी। वैज्ञानिकों के मुताबिक अलसी को रोजमर्रा भोजन व ड्राई बिस्कुट, बेकरी के उत्पादों में इस्तेमाल कर सकते हैं।

ओमेगा -3 फैटी एसिड का जीवन बचाने में अहम रोल है। अभी तक अलसी की जो भी प्रजाति मिल रही है, उसमें ओमेगा-3 फैटी एसिड की मात्रा काफी कम है। नई प्रजाति में ट्राइग्लिसराइड्स को कम करने की क्षमता, दिल की धमनियों में कोलेस्ट्राल के जमाव को रोकने और असामान्य दिल की धड़कन को संतुलित करने, बारीक नसों खासतौर से ब्रेन के न्यूरान को स्ट्रांग करने की क्षमता होती है। इसमें ब्रेन स्ट्रोक की संभावना घटती है। हाई ब्लड प्रेशर के मरीजों को अतिरिक्त मात्रा में दूसरे स्रोतों से ओमेगा- 3 फैटी एसिड की मात्रा दी जाती है। सीएसए विवि के निदेशक शोध डॉ. एचजी प्रकाश का कहना है कि अलसी की नई प्रजातियों को विकसित करने में सीएसए का रिकॉर्ड है। विकसित नई प्रजाति में ओमेगा-3 फैटी एसिड की मात्रा बढ़ाने में कामयाबी मिली है। जल्द ही किसानों को दी जाएगी। इस प्रजाति का उत्पादन बुन्दलेखंड में बेहतर पाया गया है। 

मछली, अखरोट, बादाम ओमेगा-3 फैटी एसिड का प्रमुख स्रोत
कार्डियोलॉजिस्ट डॉ. उमेश्वर पाण्डेय का कहना है कि सभी लोगों को ओमेगा -3 फैटी एसिड की अधिकता वाली चीजें खानी चाहिए ताकि दिल के गम्भीर रोगों और ब्रेन स्ट्रोक से बच सकें। अखरोट, बादाम भी इसके स्रोत हैं। सोयाबीन तेल में भी इसकी मात्रा मिलती है। अमेरिकन हार्ट एसोसिएशन (एएचए) ने प्रत्येक व्यक्ति को सप्ताह में कम से कम दो बार मछली सैल्मन, मैकेरल, हेरिंग, सार्डिन, लेक ट्राउट और ट्यूना खाने की सिफारिश की है।

ओमेगा-3 फैटी एसिड : है सेहत का रखवाला

युवाओं की डाइट में बेहद जरूरी
 डॉ. उमेश्वर पाण्डेय के मुताबिक युवा दिल के रोगी हो रहे हैं। जंक फूड, चेयर वर्क और मोबाइल, कम्प्यूटर उनकी सेहत बिगाड़ रहे हैं। बायोलॉजिकल क्लॉक बदल रहा है। इसलिए उनकी डाइट में ऐसी चीजें शामिल जानी चाहिए जो दिल के रोगों की टेंडेंसी कम करे।

दिल की बीमारी कुछ चौंकाने वाले तथ्य
20-25 प्रतिशत हार्ट रोगी 35 साल से कम
05 प्रतिशत रोगी 25-30 साल से बीच
03 प्रतिशत रोगी 25 साल से कम
50 प्रतिशत अचानक डेथ कोरोनरी हार्ट डिसीज से 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:the risk of heart attack and brain stroke can be decrease by use of alsi or flaxseeds says CSA kanpur