DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   उत्तर प्रदेश  ›  61 दिन बाद खुला ताजमहल, पहली पर्यटक ब्राजील की मेलीसा बोलीं धन्यवाद इंडिया
उत्तर प्रदेश

61 दिन बाद खुला ताजमहल, पहली पर्यटक ब्राजील की मेलीसा बोलीं धन्यवाद इंडिया

मुख्य संवाददाता, आगराPublished By: Shivendra Singh
Wed, 16 Jun 2021 04:19 PM
61 दिन बाद ताजमहल खुलने के बाद पहली महिला पर्यटक ब्राजील की मेलीसा।
1 / 261 दिन बाद ताजमहल खुलने के बाद पहली महिला पर्यटक ब्राजील की मेलीसा।
Taj Mahal
2 / 2Taj Mahal

दूसरी लहर में लगे लॉकडाउन के 61 दिन बाद ताजमहल खुलने पर पहुंची पहली विदेशी पर्यटक ब्राजील की मेलिसा डालारोजा ने बताया कि वे तीन महीने पहले योग के प्रशिक्षण के लिए भारत आई थीं, लेकिन तब लॉकडाउन लग गया। इससे पहले वे बनारस और लखनऊ घूमने गईं।
उन्हेें पता चला कि बुधवार सुबह से ताजमहल पर्यटकों के लिए खुल रहा है तो वे मंगलवार शाम को आगरा पहुंचीं। उन्होंने ताजमहल देखने के अनुभव पर कहा कि सूर्योदय में ताजमहल देखना बहुत ही आश्चर्यजनक रहा। ताजमहल जैसे स्मारक के लिए मैं भारत को धन्यवाद कहती हूं।
बता दें कि इससे पहले फैसला लिया गया था कि ताजमहल परिसर में एक समय में केवल 650 सैलानी ही दीदार के लिए मौजूद रहेंगे। ये प्रतिबंध अन्य स्मारकों पर लागू नहीं होगा। सैलानी ताजमहल का दीदार करने के लिए ऑनलाइन टिकट ही बुक कर सकेंगे। इधर, मंगलवार को ताजमहल पर सभी स्मारकों में तैनात कर्मचारियों को वैक्सीन लगाई गई। पूरे स्मारक की सफाई कराने के साथ सेनेटाइजेशन भी किया गया। 

निदेशक स्मारक डॉ. एनके पाठक द्वारा 16 जून से ताजमहल सहित अन्य स्मारक खोले जाने के निर्देश दिए गए थे। साथ ही सैलानियों की क्षमता राज्य सरकार की गाइडलाइन के अनुसार तय करने के लिए कहा था। कोरोना काल में तीन बार ताजमहल बंद रहा। पहली लहर में 188 दिन और दूसरी लहर में दो बार 61 दिनों तक स्मारक बंद रहे। इस लिहाज से कोरोना काल में केवल 179 दिन ही स्मारक खुल पाए। अब दूसरी लहर में कोरोना संक्रमण में गिरावट दर्ज की जा रही है। इसे देखते हुए जिलाधिकारी ने फिलहाल ताजमहल में एक बार में 650 पर्यटकों की मौजूदगी रखने के निर्देश अधीक्षण पुरातत्वविद को दिए हैं। उन्होंने कहा कि इससे कोरोना प्रोटोकॉल का पालन सही तरीके से किया जा सकेगा। 

ताज की टिकट तीन घंटे रहती है मान्य
ताजमहल की टिकट तीन घंटे तक मान्य रहती है। यानी कोई भी सैलानी टिकट लेने के बाद तीन घंटे तक ताजमहल परिसर में रह सकता है। अब 650 सैलानियों के एक बार में उपस्थित रहने से संकट पैदा हो सकता है। ताजमहल देखने वाले कुछ लोग तीन घंटे न रहकर बाहर भी जाएंगे। उनकी गिनती करना मुश्किल भरा काम है। ताज में प्रवेश करते समय दोनों गेटों से गिनती पता लग जाएगी, लेकिन कितने लोग निकल गए हैं। इसका पता कर पाना मुश्किल होगा।   

वीकेंड का फैसला जल्द होगा
डीएम ने बताया कि जिले में अभी साप्ताहिक बंदी लागू है। ताजमहल शनिवार और रविवार को खुलेगा कि नहीं इस पर जल्द फैसला ले लेंगे। उन्होंने बताया कि पर्यटकों की एक बार में उपस्थिति का नियम अन्य स्मारकों पर लागू नहीं होगा। 

सभी कर्मचारियों ने लगवाई वैक्सीन
पुरातत्व विभाग के कर्मचारियों को भी कोरोना से सुरक्षित रखने के लिए मंगलवार को ताजमहल में विशेष शिविर लगाया गया। यहां सभी स्मारकों में तैनात कर्मचारियों को वैक्सीन लगवाई गई। बता दें कि सभी स्मारकों में एएसआई के लगभग 250 कर्मचारी हैं। इनमें जिन लोगों ने वैक्सीन पहले नहीं लगवाई थी, उन्हें टीका लगाया गया। 

स्मारक को सेनेटाइजेशन किया गया
ताजमहल समेत अन्य स्मारकों को बुधवार से खोले जाने का निर्णय होने से 61 दिनों से निराशा में डूबे पर्यटन कारोबार से जुड़े लोगों में उम्मीद का संचार हुआ है। मंगलवार को ताजमहल समेत अन्य सभी स्मारकों में सेनेटाइजेशन किया गया। ताजमहल में मुख्य गुंबद के प्लेटफार्म, रेलिंग, बेंच, डायना सीट आदि को सेनेटाइज किया गया। वहीं ताजमहल के आसपास हैंडीक्राफ्ट, डेली नीड्स आदि की दुकानों पर सफाई की गई। दुकानों को खोलकर डस्टिंग की गई।

पहली लहर में 15 हजार तक थी क्षमता
पहली लहर में जब ताजमहल को खोला गया था, तो पहले पांच हजार लोगों के लिए दीदार की अनुमति दी गई थी। उसके बाद 10 हजार और बाद में 15 हजार लोगों को ऑनलाइन टिकट बुक करने की अनुमति दी गई थी। बाद में ऑनलाइन टिकट की क्षमता पूरी होने के बाद टिकट विंडो भी खोली गईं थीं। इस बार केवल ऑनलाइन टिकट बुक करने पर ही ताज का दीदार करने की अनुमति दी गई है। 

ऑनलाइन टिकट ऊंचे दामों में बिकीं थी
पहली लहर में सबसे ज्यादा जेब सैलानियों की कटी थी। लपके पहले से ही ऑनलाइन टिकट बुक करा लेते थे। आगरा आने के बाद जो सैलानी टिकट बुक करते थे। वह इधर-उधर घूमते थे। लपके उन्हें टिकट देकर उनसे मोटी रकम वसूल लेते थे। बाद में एएसआई ने एक टिकट पर पांच लोगों की ही बुकिंग की अनुमति देनी शुरू की। साथ ही जो ताज में प्रवेश करता था, उसकी आईडी भी देखी जाती थी। तब कहीं जाकर लपकों का गोरखधंधा रुक सका था। पुलिस ने भी ऊंचे दामों में टिकट बेचने वालों को गिरफ्तार किया था।

अभी 650 पर्यटकों को एक समय में ताजमहल परिसर के अंदर जाने की अनुमति दी जाएगी, ताकि कोविड-19 प्रोटोकॉल का पालन किया जा सके। शनिवार-रविवार को ताज खुलने के संबंध में जल्द फैसला लिया जाएगा। - प्रभु एन सिंह, जिलाधिकारी

ताजमहल समेत सभी स्मारकों को सेनेटाइज किया गया है। कर्मचारियों को टीका लगवाया गया है। सैलानियों के प्रवेश करते समय उनका तापमान चेक किया जाएगा। गेट पर रखे रजिस्टर में एंट्री भी की जाएगी। ताजमहल की टिकटें ऑनलाइन ही मिलेंगी। गृह व स्वास्थ्य मंत्रालय और राज्य सरकार के दिशा-निर्देशों का स्मारकों में पालन कराया जाएगा। - डॉ. वसंत कुमार स्वर्णकार, अधीक्षण पुरातत्वविद 

संबंधित खबरें