ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News उत्तर प्रदेशचीरहरण को बढ़ावा..., फिर विवादित बोले स्‍वामी प्रसाद मौर्य, रामायण-महाभारत पढ़ाने के प्रस्‍ताव पर की टिप्‍पणी

चीरहरण को बढ़ावा..., फिर विवादित बोले स्‍वामी प्रसाद मौर्य, रामायण-महाभारत पढ़ाने के प्रस्‍ताव पर की टिप्‍पणी

समाजवादी पार्टी के वरिष्‍ठ नेता स्‍वामी प्रसाद मौर्य ने एक बार फिर रामायण और महाभारत पर विवादित टिप्‍पणी की है। उन्‍होंने स्‍कूलों में रामायण-महाभारत पढ़ाने के NCERT के प्रस्‍ताव पर सवाल उठाए।

चीरहरण को बढ़ावा..., फिर विवादित बोले स्‍वामी प्रसाद मौर्य, रामायण-महाभारत पढ़ाने के प्रस्‍ताव पर की टिप्‍पणी
Ajay Singhहिंदुस्‍तान,लखनऊWed, 22 Nov 2023 03:44 PM
ऐप पर पढ़ें

Swami Prasad Maurya Controversial Comment: अपनी विवादित टिप्‍पणियों के जरिए लगातार चर्चा में बने हुए सपा नेता स्‍वामी प्रसाद मौर्य के विवादित बोल फिर सामने आए हैं। अबकी उन्‍होंने  राष्ट्रीय शैक्षिक अनुसंधान और प्रशिक्षण परिषद (NCERT) के उस प्रस्ताव पर टिप्पणी की है जिसमें स्कूलों में रामायण-श्रीमद्भागवत पढ़ाने की बात है।

एक्‍स (X) पर एक पोस्ट में स्वामी प्रसाद मौर्य ने यहां तक कह दिया कि क्या NCERT और सरकार, रामायण और महाभारत को पाठयक्रम में शामिल कर सीता, शूर्पणखा और द्रोपदी जैसी महान देवियों को क्रमशः अग्नि परीक्षा के बाद भी परित्याग, वैवाहिक प्रस्ताव पर नाक-कान काटने की त्रासदी और द्रोपदी जैसी अन्य तमाम देवियों के चीरहरण को बढ़ावा देना चाहती है?

स्‍वामी प्रसाद मौर्य ने एक्‍स पर लिखा, 'यद्यपि कि आज वैसे ही बड़े पैमाने पर जातीय हिंसा व महिला उत्पीड़न की घटनायें हो रही हैं। कहीं दलित, आदिवासी, पिछड़े समाज के लोगों पर पेशाब करना व मल-मूत्र का लेपन करना, समय से फीस न जमा करने पर बच्चों की पिटाई कर मौत की नींद सुला देना, कहीं महिलाओं के साथ सामूहिक दुराचार की घटना के बाद हत्या कर लाश को टुकड़े-टुकड़े कर देना, कालेज व विश्वविद्यालय परिसर में भी यदा-कदा छात्रायें अपमानित होने के फलस्वरूप आत्महत्या करने के लिए मजबूर होने की घटनायें प्रकाश में आती रहती हैं।'

उन्‍होंने आगे लिखा-'क्या NCERT व सरकार, रामायण व महाभारत को पाठयक्रम में शामिल कर सीता, शूर्पणखा व द्रोपदी जैसी महान देवियों को क्रमशः अग्नि परीक्षा के बाद भी परित्याग, वैवाहिक प्रस्ताव पर नाक-कान काटने की त्रासदी और द्रोपदी जैसी अन्य तमाम देवियों के चीरहरण को बढ़ावा देना चाहती है?'

स्‍वामी प्रसाद मौर्य नहीं रुके। उन्‍होंने आगे लिखा, 'एक ने भाई को भाई से लड़ाने का काम तो दूसरे ने भाईयों-भाईयों को आपस में लड़ाया। क्या सरकार पारिवारिक विद्यटन को और भी बढ़ावा देने की पक्षधर है?'

सपा नेता ने लिखा- 'रही बात पाठ्यकम में देश के हीरो को पढ़ाने की, तो वर्तमान राष्ट्र के उन महान वीर सपूतों, राष्ट्रनिर्माताओं और नायकों को NCERT पाठयक्रम में लाये जैसे नेताजी सुभाष चन्द्र बोष, राष्ट्रपिता महात्मा गांधी, सरदार वल्लभ भाई पटेल, बाबा साहब डा० भीमराव अम्बेडकर, रानी लक्ष्मीबाई, झलकारी बाई, वीरांगना ऊदा देवी, चन्द्रशेखर आजाद, सरदार भगत सिंह, अशफाक उल्ला खां, पं० राम प्रसाद विस्मिल, ठाकुर रोशन सिंह, वीर ऊद्यम सिंह जैसे आदि महानायकों को शामिल किया जा सकता है। अब फिर से शम्बूक का सिर व एकलव्य का अंगूठा न काटा जाय इस बात को भी ध्यान में रखने की आवश्यकता है।'

अखिलेश के लिए हो सकती है मुश्किल 
जानकारों का कहना है कि स्‍वामी प्रसाद मौर्य के इस नए विवादित बयान के बाद एक बार फिर समाजवादी पार्टी और उसके मुखिया अखिलेश यादव की मुश्किलें बढ़ सकती हैं। विरोधी दलों के नेता स्‍वामी प्रसाद मौर्य के बयानों के लिए अब सीधे तौर पर अखिलेश यादव को जिम्‍मेदार ठहरा रहे हैं। भाजपा लगातार कह रही है कि स्‍वामी प्रसाद मौर्य से ऐसे विवादित बयान अखिलेश यादव ही दिला रहे हैं। 

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें