ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News उत्तर प्रदेशनौवीं क्लास के छात्र ने एआई तकनीकी की मदद से बनाया टीचर का अश्लील वीडियो, इंस्टाग्राम पर किया वायरल

नौवीं क्लास के छात्र ने एआई तकनीकी की मदद से बनाया टीचर का अश्लील वीडियो, इंस्टाग्राम पर किया वायरल

यूपी के गोरखपुर में एक नौंवी क्लास के छात्र ने एआई टूल की मदद से स्कूल की शिक्षिका का अश्लील वीडियो बना दिया। फिर इंस्टाग्राम पर फेक आईडी बनाकर शेयर कर दिया।

नौवीं क्लास के छात्र ने एआई तकनीकी की मदद से बनाया टीचर का अश्लील वीडियो, इंस्टाग्राम पर किया वायरल
Pawan Kumar Sharmaहिन्दुस्तान,गोरखपुरMon, 11 Dec 2023 05:25 PM
ऐप पर पढ़ें

यूपी के गोरखपुर में एक सनसनीखेज मामला सामने आया है। जहां एक शिक्षिका का आपत्तिजनक वीडियो उसी स्कूल के नौवीं के छात्र ने इंस्टाग्राम पर वायरल किया था। आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस (एआई) की मदद से उसने शिक्षिका का वीडियो बनाया। शिकायत की जांच साइबर सेल के एक्सपर्ट शशि शंकर राय, शशिकांत जायसवाल और नीतू नाविक की टीम ने करके शाहपुर पुलिस को सूचना दी। पुलिस ने आरोपी को पकड़ लिया है।

ये मामला शाहपुर के एक मोहल्ले का है। जहां एक महिला कान्वेंट स्कूल में शिक्षिका है। एसएसपी को दिए प्रार्थना पत्र में पीड़िता ने लिखा है कि गुरुवार की सुबह स्कूल गई तो बच्चों ने बताया उनका फोटो एडिट करके विद्यालय के नाम से इंस्टाग्राम पर आईडी बनाकर कोई अश्लील वीडियो बनाकर भेज रहा है। उसने कई लोगों को फोटो और वीडियो लगाककर फ्रेंड रिक्वेस्ट भी भेजा है। वीडियो में आपत्तिजनक शब्दों का प्रयोग किया गया है। शिक्षिका वीडियो देखने के बाद परेशान हो गई। उन्होंने परिजनों के साथ एसएसपी से मिलकर कार्रवाई की मांग की। एसएसपी के निर्देश पर शुक्रवार को शाहपुर पुलिस ने केस दर्ज कर जांच शुरू कर दी है। जांच के बाद सामने आया कि आरोपी उसी स्कूल में पढ़ने वाला छात्र है। उसने ही एआई तकनीक का इस्तेमाल करके यह हरकत की है।

यह है एआई वीडियो क्लोनिंग टूल

एआई वीडियो क्लोनिंग टूल एक प्रकार से वीडियो में हेराफेरी का एक रूप है, जहां कोई व्यक्ति किसी व्यक्ति की विभिन्न छवियों को फीड करके उसमें बदलाव कर सकता है। इसके अलावा, नए व्यक्ति की लगभग एक या दो मिनट की वॉइस रिकॉर्डिंग सबमिट करके वीडियो में व्यक्ति की आवाज और शब्दों को भी बदल सकता है। वैज्ञानिक भाषा में कहा जाए तो यह सॉफ्टवेयर डीप-लर्निंग एल्गोरिदम पर आधारित होता है। इसका इस्तेमाल किसी व्यक्ति का नकली वीडियो उसके ही आवाज के ऑडियो के साथ तैयार करने के लिए किया जाता है। यह वीडियो में वॉइस ओवर, बैकग्राउंड परिवर्तन सहित ऑडियो संपादन कार्यों को आसानी से करता है। राष्ट्रीय साइबर अपराध रिपोर्टिंग पोर्टल cyber.gov.in बनाया गया। इस पर साइबर अपराध से संबंधित शिकायत 24 घंटे और सातों दिन दर्ज करवा सकते हैं।