ट्रेंडिंग न्यूज़

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ उत्तर प्रदेशयूपी में बिजली कर्मचारियों की हड़ताल खत्म, ऊर्जा मंत्री एके शर्मा से वार्ता के बाद फैसला

यूपी में बिजली कर्मचारियों की हड़ताल खत्म, ऊर्जा मंत्री एके शर्मा से वार्ता के बाद फैसला

यूपी में बिजली कर्मचारियों और अभियंताओं की हड़ताल शनिवार को पांचवें दिन खत्म हो गई। बिजली कर्मचारियों के नेताओ ने ऊर्जा मंत्री एके शर्मा के साथ बैठक के बाद हड़ताल समाप्त करने का निर्णय लिया है।

यूपी में बिजली कर्मचारियों की हड़ताल खत्म, ऊर्जा मंत्री एके शर्मा से वार्ता के बाद फैसला
Yogesh Yadavलाइव हिन्दुस्तान,लखनऊSat, 03 Dec 2022 09:49 PM
ऐप पर पढ़ें

बिजली कर्मियों के कार्य बहिष्कार पर हाईकोर्ट इलाहाबाद द्वारा अपर मुख्य सचिव ऊर्जा को तलब किए जाने के बाद पांचवे दिन आंदोलन समाप्त कराने की पहल तेज हुई। ऊर्जा मंत्री एके शर्मा के साथ विद्युत कर्मचारी संयुक्त संघर्ष समिति की वार्ता में कई मुद्दों पर सहमति बनी। इसके बाद कार्य बहिष्कार स्थगित किए जाने का फैसला लिया गया। वार्ता के बाद ऊर्जा मंत्री एके शर्मा ने मीडिया को अवगत कराया कि संघर्ष समिति ने कार्य बहिष्कार स्थगित करने पर सहमति दे दी है।   

एसीएस ने हाईकोर्ट को बताया कार्य बहिष्कार समाप्त

हाईकोर्ट के आदेश पर अपर मुख्य सचिव ऊर्जा महेश कुमार गुप्ता अपराह्न तीन बजे तक हाईकोर्ट इलाबाद पहुंचे। इस मामले में जनहित याचिका की सुनवाई कर रही खंडपीठ के समक्ष हाजिर हुए। जहां पर उन्होंने कोर्ट को हड़ताल वापस होने की जानकारी दी। अपर मुख्य सचिव ने कोर्ट को बताया गया कि ऊर्जा मंत्री ने हड़ताली कर्मचारियों के संगठन से बातचीत की है। बातचीत सकारात्मक रही। इसमें बिजली कर्मचारियों ने अपनी हड़ताल खत्म करने की घोषणा की। खंडपीठ में मामले में अगली सुनवाई छह दिसंबर को होगी। 

प्रयागराज के कालिंदीपुरम व अन्य मोहल्लों में बिजली एवं पेयजल आपूर्ति तीन दिन से ठप होने की शिकायत पर कायम जनहित याचिका पर शनिवार सुबह सुनवाई के दौरान अपर महाधिवक्ता मनीष गोयल ने कोर्ट को बताया कि प्रयागराज में विद्युत आपूर्ति बहाल कर दी गई है। इस पर वकीलों ने बताया कि प्रयागराज ही नहीं पूरे प्रदेश में हड़ताल से बिजली आपूर्ति बाधित है। अपर महाधिवक्ता ने अपर मुख्य सचिव ऊर्जा व कर्मचारियों के बीच हुआ पत्राचार पेश किया।
 
खंडपीठ ने कहा एक महीने का समय था हल के लिए, शासन ने कोई कदम नहीं उठाया

इस पर खंडपीठ ने कहा एक महीने पहले ही 29 नवंबर से हड़ताल की चेतावनी दी गई थी। इससे साफ है कि शासन के पास हल निकालने के लिए एक महीने का समय था। लेकिन प्रशासन की ओर से कोई कदम नहीं उठाया गया।

दूसरी बात यह कि हड़ताली कर्मचारियों के खिलाफ क्या कार्रवाई की गई? इसका भी कोई उल्लेख नहीं है। जब कोर्ट ने संज्ञान लिया तो सिर्फ प्रयागराज में विद्युत आपूर्ति बहाल हुई बाकी लेकिन यह नहीं पता कि हड़ताल वापस हुई या नहीं। 

रात नौ बजे के बाद समझौता पत्र पर चल रहे थे हस्ताक्षर

दूसरी तरफ मंत्री से वार्ता के दौरान जिन मुद्दों पर सहमति बनी थी उन मुद्दों पर लिखित समझौता पत्र पर रात 9.20 बजे संघर्ष समिति के पदाधिकारी हस्ताक्षर करने में लगे थे। 

कर्मचारियों की मांगों पर शीघ्र विचार किया जाएगा: ऊर्जा मंत्री

संघर्ष समिति से वार्ता समाप्त होने के बाद ऊर्जा मंत्री एके शर्मा ने कार्य बहिष्कार स्थगित कर दिए जाने की जानकारी मीडिया को दी है। उन्होंने बताया है कि संघर्ष समिति के संयोजक शैलेंद्र दुबे के साथ चली लंबी वार्ता के बाद सभी की सहमति से कार्य बहिष्कार स्थगित करने का फैसला लिया गया है। कर्मचारी संघों को आश्वासन दिया गया है कि उनकी मांगों पर शीघ्र विचार किया जाएगा।

कुछ मांगों पर त्वरित रूप से कार्यवाही की जाएगी तथा कुछ मांगों पर द्विपक्षीय व त्रिपक्षीय समिति बनाकर सकारात्मक रूप से विचार किया जाएगा। ऊर्जा मंत्री ने संघर्ष समिति के पदाधिकारियों से कहा है कि कार्य बहिष्कार के दौरान जहां कहीं भी विद्युत आपूर्ति में व्यवधान आया हो उसे जल्द समाप्त किया जाए।

चेयरमैन ने सभी एमडी से कहा शिड्यूल के मुताबिक बिजली दें

बिजली कर्मियों के कार्य बहिष्कार से गड़बड़ाई बिजली आपूर्ति की व्यवस्था के बीच उ.प्र. पावर कारपोरेशन के चेयरमैन एम. देवराज ने शनिवार को वीडियो कांफ्रेसिंग कर सभी वितरण निगमों के एमडी को निर्देश दिया कि सभी क्षेत्रों में तय शिड्यूल के मुताबिक बिजली दें। एमडी हर हाल में इसे सुनिश्चित करें। उन्होंने सभी अधिकारियों को राजस्व वसूली बढ़ाने और विद्युत चोरी रोकने के निर्देश भी दिए।