ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News उत्तर प्रदेशराहत के बीच आफत बनी आंधी-बारिश, खीरी में पेड़ और दीवार गिरने से तीन की मौत, बदायूं में दो की जान गई 

राहत के बीच आफत बनी आंधी-बारिश, खीरी में पेड़ और दीवार गिरने से तीन की मौत, बदायूं में दो की जान गई 

गर्मी से जूझ रहे लोगों के लिए बुधवार रात आई आंधी बारिश कुछ लोगों के लिए तो राहत लेकर आई, लेकिन कुछ लोगों के लिए यही आंधी-बारिश आफत बन गई। आंधी बारिश के चलते अलग-अलग घटनाओं में पांच लोगों की मौत हुई।

राहत के बीच आफत बनी आंधी-बारिश, खीरी में पेड़ और दीवार गिरने से तीन की मौत, बदायूं में दो की जान गई 
weather changed many districts up hail fell along with storm and rain two elderly people died shahja
Dinesh Rathourहिन्दुस्तान टीम,खीरी बदायूंThu, 20 Jun 2024 07:05 PM
ऐप पर पढ़ें

गर्मी से जूझ रहे लोगों के लिए बुधवार रात आई आंधी बारिश कुछ लोगों के लिए तो राहत लेकर आई, लेकिन कुछ लोगों के लिए यही आंधी-बारिश आफत बन गई। आंधी बारिश के चलते अलग-अलग घटनाओं में पांच लोगों की मौत हो गई। खीरी में दीवार गिरने से महिला समेत की तीन की मौत हो गई। हादसे में चार लोग घायल भी हुए हैं। वहीं बदायूं में वजीरगंज थाना क्षेत्र में कार पर पेड़ गिरने से एक और बिल्सी थाना क्षेत्र में दीवार गिरने से एक की जान गई। खीरी के ईसानगर थाना क्षेत्र के गोड़वा गांव के 75 वर्षीय परसादी लाल तालाब में मछलियों की रखवाली के लिए सरकारी ट्यूबवेल के पास मचान बनाकर रहते थे। बुधवार रात 15 वर्षीय पोता अजय परसादी के लिए भोजन लेकर पहुंचा। तभी आंधी-बारिश शुरू हो गई। परसादी और उनका पोता बचने के लिए सरकारी ट्यूबवेल की चहारदीवारी के सहारे बैठ गए। तभी चहारदीवारी उनके ऊपर गिर गई।

अजय की मौके पर मौत हो गई और परसादी लाल गम्भीर रूप से घायल हो गए। उधर, ईसानगर थाना क्षेत्र के मोहनपुरवा मजरा शंकरपुर में आंधी-बारिश के दौरान मौजीलाल के कच्चे घर की दीवार गिर गई। मौजीलाल की 50 पत्नी गायत्री देवी, पुत्र राजेश और पांच साल की पोती अर्चना दब गए। गायत्री की मौत हो गई। उधर, बेहजम के अमघट गांव के प्रधान जितेंद्र ने बताया कि रात को आंधी के बीच पक्की दीवार गिर गई। हादसे में 17 वर्षीय निर्मल उर्फ मटरू की मौत हो गई, जबकि उसकी मां लज्जावती का इलाज चल रहा है। 

बदायूं के वजीरगंज क्षेत्र में मुरादाबाद-फर्रूखाबाद हाईवे पर वनकोटा के पास एक चलती कार पर पेड़ टूट कर गिर पड़ा। बिसौली कोतवाली क्षेत्र के गांव पृथ्वीपुर निवासी 20 वर्षीय कार चालक छोटू की मौत हो गई। वह रामपुर जिले के ढकिया में तैनात एसआई का प्राइवेट फालवर था। वहीं बिल्सी के गांव बेहटा गुसाई में घर के आंगन में सो रही 75 वर्षीय मुस्किम पत्नी रज्जन के ऊपर पक्की दीवार गिर गई। मलबे में दबकर उनकी मौत हो गई।

आंधी-बारिश से मुरादाबाद-लखनऊ रूट पर 60 ट्रेनों का संचालन गड़बड़ाया

मौसम का मिजाज बुधवार की रात बदलने से लोगों को राहत तो मिली, लेकिन आंधी-बारिश से मुरादाबाद रेल मंडल में रेल संचालन बेपटरी हो गया। आंधी-बाहिरश का सबसे ज्यादा असर लखनऊ रूट पर दिखाई दिया। ओएचई पर पेड़ों की टहनियां गिरने से 60 ट्रेनों पर असर पड़ा। कई जगह रेलवे ट्रैक पर पेड़ गिर गए, जिन्हें हटाकर रेल संचालन बहाल किया गया। इसके चलते घंटों लेट हुई ट्रेनों को गुरुवार को री-शेड्यूल करके चलाया जा रहा है। गर्मी से तप रहे यूपी में बुधवार की देर रात आंधी-बारिश शुरू हुई। इससे गर्मी से लोगों को राहत मिली लेकिन रेल संचालन गड़बड़ा गया।

पिताबंरपुर-टिसुआ के बीच तेज आंधी से ओएचई पर पेड़ गिर गया। इसे ठीक करके रेल संचालन शुरू कराया गया कि इसी रूट पर आनंद विहार से गोरखपुर जा रही एक्सप्रेस ट्रेन के पेंटो में पेड़ों की टहनियां फंस गईं, जिससे ट्रेनों को रोकना पड़ा। बरेली-शाहजहांपुर और रोजा में आई बाधा से रामपुर से हरदोई तक रेल संचालन बुरी तरह से प्रभावित रहा। रामपुर, बरेली और शाहजहांपुर स्टेशन के आसपास लखनऊ रूट की ट्रेनों को रोकना पड़ा। इसके चलते अप साइड की 32 ट्रेनें करीब तीन घंटे तक लेट हो गई, जबकि मुरादाबाद से लखनऊ जा रही ट्रेनें पांच घंटे तक प्रभावित रहीं।

आधी के चलते बुधवार की रात साढ़े दस बजे से रेल संचालन पर असर पड़ने लगा था। आनंद विहार जा रही ट्रेन मुरादाबाद में करीब पौने दो घंटे लेट पहुंची। दून एक्सप्रेस हरदोई में पांच घंटे, काशी विश्वनाथ तिलहर, सत्याग्रह एक्सप्रेस रोजा में राइट टाइम थीं, लेकिन आगे करीब दो घंटे की देरी से चलीं। मुरादाबाद से लखनऊ जा रही ट्रेनें सबसे ज्यादा प्रभावित रही। बरेली में सत्याग्रह एक्सप्रेस सवा चार घंटे, जलियावाला बाग सवा तीन घंटे रुकी रहीं। रामपुर से सही समय पर चली अयोध्या कैंट एक्सप्रेस बरेली में घंटों खड़ी रही। गोरखपुर जा रही स्पेशल ट्रेन (15058) के पेंटो में टहनी फंसने से ट्रेन काफी देर रुकी रही। सवा बजे से रुकी ट्रेन को सवा दो घंटे बाद चलाया जा सका। सीनियर डीसीएम आदित्य गुप्ता ने बताया कि आंधी बारिश से टहनियां गिरने से रेल संचालन पर असर पड़ा है। सुरक्षा के चलते ट्रेनों को रोका गया।

आंधी बारिश प्रभावित ट्रेनें

सदभावना एक्सप्रेस, हरिद्वार-इलाहाबाद, पदमावत, नौचंदी, अयोध्या कैंट, सत्याग्रह, जलियावाला बाग, हिमगिरी, शहीद, लखनऊ मेल, श्रमजीवी, जनता एक्सप्रेस, सुल्तानपुर-अमदाबाद, सुहेल देव, मुजफ्फरपुर सप्तक्रांति,जनसाधारण, राप्ती गंगा, बाघ एक्सप्रेस, गरीब रथ, चंडीगढ़-लखनऊ इंटरसिटी, दून एक्सप्रेस, बेगमपुरा, देहरादून-वाराणसी प्रमुख ट्रेनें रहीं।