ट्रेंडिंग न्यूज़

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ उत्तर प्रदेशयूपी में लोन लेकर शुरू करें मुर्गी पालन का व्यवसाय, ब्याज सरकार भरेगी

यूपी में लोन लेकर शुरू करें मुर्गी पालन का व्यवसाय, ब्याज सरकार भरेगी

उत्तर प्रदेश में अगर आप किसी अच्छे रोजगार की तलाश में हैं तो आपके लिए बेहतरीन मौका है। आप पोलेट्री फार्म का बिजनेस शुरू कर सकते है। इसके लिए लोन भी मिलेगा जिसका ब्याज सरकार चुकाएगी।

यूपी में लोन लेकर शुरू करें मुर्गी पालन का व्यवसाय, ब्याज सरकार भरेगी
Atul Guptaलाइव हिंदुस्तान,लखनऊFri, 01 Jul 2022 03:31 PM

इस खबर को सुनें

0:00
/
ऐप पर पढ़ें


कई बार हमें पता ही नहीं होता कि सरकार की कौन सी योजना का लाभ लेकर हम अपना व्यवसाय शुरू कर सकते हैं। इसी तरह जानकारी के अभाव में हम कई ऐसी योजनाओं से वंचित रह जाते हैं जिसका फायदा उठाकर हम तरक्की कर सकते हैं। यूपी में एक ऐसी ही एक योजना है जिसके तहत अगर आपने काम शुरू किया तो उसका ब्याज सरकार भरेगी। ये व्यवसाय है मुर्गी पालन का व्यवसाय। अगर आप लोन लेकर तीस हजार चूजों वाला पोलेट्री फर्म शुरू करते हैं  तो हर महीने उस लोन का ब्याज सरकार भरेगी। मतलब ये कि आपको कर मुक्त पैसा मिलेगा जिससे आप बड़ी आसानी से अपना व्यवसाय ना सिर्फ शुरू कर सकते हैं बल्कि तरक्की भी कर सकते हैं। आपको ये टेंशन हीं होगी कि लोन की किश्त भरनी है। 

इस योजना के तहत आपके पास पांच साल का समय होगा और आपको पांच साल के अंदर किश्त-किश्त में लोन की सिर्फ मूल रकम लौटानी होगी। ब्याज का सारा पैसा सरकार देगी। जैसे-जैसे आप मूलधन लौटाते जाएंगे वैसे-वैसे सरकार भी ब्याज भरती रहेगी। पोलेट्री फर्म से मुर्गी और अंडे दोनों का उत्पादन होगा जिससे संचालक की आर्थिक स्थिति बेहतर होगी इसके अलावा इस व्यवसाय से दूसरे लोगों को भी रोजगार मिलेगा।

इस योजना के तहत क्या है प्रावधान?

इस योजना के तहत आपको तीस हजार चूजों के साथ पोलेट्री फॉर्म चालू करना होगा। इसमें करीब 1.80 करोड़ रुपये का खर्च आएगा। इस लागत का करीब 70 फीसदी अमाउंट आपको लोन के रूप में मिल जाएगा। यानी करीब 1.26 करोड़ रुपये आपको लोन मिल जाएगा। बाकी के 54 लाख रुपये आपको लगाने होंगे। इसी योजना का एक छोटा स्वरूप भी है जिसमें आपको दस हजार चूजों के साथ पोलेट्री फर्म शुरू करना होगा। इसमें 70 लाख रुपये खर्च आएगा जिसमें से 49 लाख रुपये कर्ज मिल जाएगा। 21 लाख रुपये आपको खुद लगाने होंगे। इस पैसे पर ब्याज सरकार भरेगी। इस योजना में एक बात और है और वो ये कि अगर आपने पांच साल में मूलधन नहीं लौटाया तो ब्याज भी आपको ही भरना होगा।

epaper