DA Image
हिंदी न्यूज़ › उत्तर प्रदेश › मुरादाबाद: सोता रहा ओपन शेल्टर होम का स्टाफ, दीवार फांदकर नाबालिग लड़की हुई फरार, मचा हड़कंप
उत्तर प्रदेश

मुरादाबाद: सोता रहा ओपन शेल्टर होम का स्टाफ, दीवार फांदकर नाबालिग लड़की हुई फरार, मचा हड़कंप

वरिष्ठ संवाददाता,मुरादाबादPublished By: Sneha Baluni
Thu, 05 Aug 2021 05:46 AM
मुरादाबाद: सोता रहा ओपन शेल्टर होम का स्टाफ, दीवार फांदकर नाबालिग लड़की हुई फरार, मचा हड़कंप

मुरादाबाद जिले के हरथला स्थित ओपन शेल्टर होम से बुधवार तड़के एक नाबालिग लड़की दीवार कूदकर फरार हो गई। कई घंटे तक शेल्टर होम और रेलवे चाइल्ड लाइन स्टाफ मामले को दबाए रहा। मामले का पता चलते ही जिला प्रोबेशन अधिकारी और सीडब्लूसी की टीम शेल्टर होम पहुंची और मामले में पूछताछ की। 

प्रारंभिक जांच में लड़की की निगरानी को भेजी गई रेलवे चाइल्ड लाइन स्टाफ की लापरवाही सामने आई। जिस पर सीडब्लूसी ने शेल्टर होम के रजिस्टर में इसको अंकित करते हुए जवाब मांगा है। इसके साथ ही टीम ने शेल्टर होम स्टाफ के सोते रहने और सीसीटीवी कैमरे की टाइमिंग में कमी मिलने पर नाराजगी जताते हुए दुरुस्त कराने के निर्देश दिए, वहीं घटना के बाद भी उच्चाधिकारियों को सूचना न देने पर जवाब मांगा है। दूसरी ओर डीपीओ ने भी शेल्टर होम व रेलवे चाइल्ड लाइन से स्पष्टीकरण तलब किया है। 

जीआरपी ने सोमवार को बिहार से आ रही ट्रेन से चौदह साल की लड़की को मुरादाबाद स्टेशन पर संदेह होने पर रोका। पूछताछ में लड़की जीआरपी को इधर-उधर घुमाती रही, बाद में उन्होंने लड़की को रेलवे चाइल्ड लाइन के सुपुर्द कर दिया। परिजनों से बात होने के बाद सीडब्लूसी ने लड़की को एक दिन के लिए शेल्टर होम में रखने के आदेश दिए।

वहीं दूसरी ओर लड़की की निगरानी को रेलवे चाइल्ड लाइन की महिला स्टाफ की ड्यूटी लगाई गई। बुधवार तड़के स्टाफ सो रहा था कि उसका फायदा उठाते हुए बिहार रक्सौल की रहने वाली लड़की मौका पाकर शेल्टर होम की दीवार कूदकर फरार हो गई। लड़की के भागने की जानकारी होने के बाद भी शेल्टर होम व रेलवे चाइल्ड लाइन स्टाफ मामले को दबाए रहा। 

दोपहर बाद डीपीओ और सीडब्लूसी को लड़की भागने की सूचना मिली, जिससे विभाग में हड़कंप मच गया। आनन-फानन में डीपीओ प्रिया पटेल ने शेल्टर होम पहुंचकर केस के बारे में जानकारी ली, उन्होंने केस के बारे में सूचना न देने पर शेल्टर होम का जवाब तलब किया है। 

वहीं दूसरी ओर शाम सीडब्लूसी के सदस्य हरिमोहन गुप्ता, अखिलेश कुमार, संजय चतुर्वेदी और बबीता विश्नोई ने शेल्टर होम पहुंचकर केस के बारे में जानकारी जुटाई। पूछताछ में यह बात सामने आई कि लड़की की निगरानी में लगी रेलवे चाइल्ड लाइन की महिला स्टाफ ने ड्यूटी में ढिलाई बरती, जिसके बारे में टीम ने रजिस्टर में इसको दर्ज किया। 

इसके साथ शेल्टर होम स्टाफ की लापरवाही और केस के सूचना न देने पर नाराजगी जताई। इसके साथ ही सीसीटीवी कैमरे की टाइमिंग ठीक कराने के निर्देश दिए। देर शाम रेलवे चाइल्ड लाइन कोआर्डिनेटर की ओर से थाने में नाबालिग लड़की के भगाने की तहरीर दी गई है। 

संबंधित खबरें