ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News उत्तर प्रदेशलोकसभा चुनाव के लिए सपा की पहली सूची जारी, डिंपल यादव समेत 16 प्रत्याशियों के नाम घोषित

लोकसभा चुनाव के लिए सपा की पहली सूची जारी, डिंपल यादव समेत 16 प्रत्याशियों के नाम घोषित

लोकसभा चुनाव के लिए सपा ने मंगलवार को 16 प्रत्याशियों की सूची जारी कर दी। पहली सूची में डिंपल यादव समेत यादव परिवार के अक्षय यादव और धर्मेंद्र यादव का भी नाम शामिल है। बर्क को भी दोबारा टिकट मिला है।

लोकसभा चुनाव के लिए सपा की पहली सूची जारी, डिंपल यादव समेत 16 प्रत्याशियों के नाम घोषित
Yogesh Yadavलाइव हिन्दुस्तान,लखनऊTue, 30 Jan 2024 11:22 PM
ऐप पर पढ़ें

लोकसभा चुनाव के लिए समाजवादी पार्टी की पहली सूची जारी हो गई है।सपा ने 16 प्रत्याशियों का ऐलान कर दिया है। सूची में यादव परिवार के डिंपल यादव, धर्मेंद्र यादव, अक्षय यादव का भी नाम शामिल है। अभी तक भाजपा समेत किसी ने भी प्रत्याशियों की सूची जारी नहीं की है। संभल से शफीकुर्रहमान बर्क को दोबारा उतारा गया है। फिरोजाबाद से अक्षय यादव, मैनपुरी से डिंपल यादव, एटा से देवेश यादव, बदायूं से धर्मंद्र यादव, खीरी से उत्कर्ष वर्मा, धौरहरा से आनंद भदौरिया, उन्नाव से श्रीमति अन्नू टंडन को उतारा गया है। 

इसके अलावा लखनऊ से रविदास मेहरोत्रा, फर्रुखाबाद से डॉक्टर नवल किशोर शाक्य को टिकट दिया गया है। अकबरपुर से राजाराम पाल, बांदा से शिवशंकर सिंह पटेल, फैजाबाद से अवधेश प्रसाद, अंबेडकरनगर को लालजी वर्मा, बस्ती से रामप्रसाद चौधरी और गोरखपुर से काजल निषाद को मैदान में उतारा गया है।  सपा ने अपने आधिकारिक हैंडल पर सूची जारी करते हुए यह भी लिखा कि  

पीडीए पर ही लगाया दांव, 11 ओबीसी को टिकट

पिछड़ा, दलित व अल्पसंख्यक (पीडीए) को अपनी रणनीति बताने वाली सपा ने टिकट वितरण में इसी फार्मेूले पर फोकस किया है। इसमें सबसे ज्यादा तवज्जो ओबीसी को दी गई है। 16 प्रत्यााशियों की सूची में 11 टिकट ओबीसी वर्ग को दिए गए हैं। इन ओबीसी में 4 कुर्मी, 3 यादव, 2 शाक्य, 1-1 निषाद व पाल बिरादरी के प्रत्याशी हैं। इसके अलावा एक मुस्लिम, एक दलित, एक क्षत्रिय व दो खत्री को भी टिकट दिया गया है। 

खास बात यह कि सामान्य सीट फैजाबाद (अयोध्या) से सपा ने दलित वर्ग के प्रत्याशी अवधेश प्रसाद को टिकट दिया है। अवधेश प्रसाद पुराने व अनुभवी नेता माने जाते हैं। वह 1977 में प्रदेश सरकार में मंत्री रह चुके हैं।  अखिलेश  ने इस बार टिकट वितरण पुराने दस्तूर को बदला है। सपा ने एटा, उन्नाव, गोरखपुर समेत कई जगह इस बार प्रत्याशी बदल दिया। एटा से पार्टी अमुमन यादव वर्ग का प्रत्याशी बनाती आ रही है। पिछली बार सपा ने देवेंद्र सिंह यादव को प्रत्याशी बनाया था। इस बार यहां उसने शाक्य प्रत्याशी उतारा है। 

इसी तरह फर्रुखाबाद में भी शाक्य प्रत्याशी दिया है। उन्नाव में पिछली बार सपा से अरुण शंकर शुक्ला लड़े थे और कांग्रेस से अनु टंडन लड़ी थीं। अब अनु टंडन सपा प्रत्याशी हो गईं। गोरखपुर से राम भुआल निषाद लड़े थे, इस बार काजल निषाद टिकट पा गईं। फैजाबाद में पिछली बार आनंद सेन प्रत्याशी थे। अब यहां अवधेश प्रसाद प्रत्याशी हैं। 

कई विधायकों को मिला मौका
सपा ने पहली सूची में अपने तीन विधायकों रविदास मेहरोत्रा,  अवधेश प्रसाद, लालजी वर्मा को मौका दिया है। यह अगर लोकसभा चुनाव जीतते हैं तो इन्हें सीट रिक्त होने पर चुनाव आयोग को  विधानसभा उपचुनाव कराना होगा। 

रालोद और कांग्रेस के साथ गठबंधन

सपा ने कांग्रेस और रालोद गठबंधन के साथ लोकसभा चुनाव के मैदान में उतरने का फैसला किया है।  यूपी की 80 में से 60 सीटों पर सपा ने लड़ने का फैसला लिया है। सात सीटें जयंत चौधरी की रालोद को दी गई है। 11 सीटें सपा ने कांग्रेस को दी है। हालांकि कांग्रेस की तरफ से इन सीटों को लेकर अभी तक न तो इनकार किया गया है और न ही खुलकर गठबंधन की बात कही गई है। ऐसे में सपा और कांग्रेस के गठबंधन पर असमंजस की स्थिति है।

कुछ लोगों का कहना है कि दोनों दलों में अंदरखाने बात हो गई है। इसी को देखते हुए सपा ने प्रत्याशियों का ऐलान किया है। ऐसे में अब इन प्रत्याशियों को अपना प्रचार शुरू करने में ज्यादा समय मिल जाएगा। जो भी हो, सूची के मामले में सपा ने बाजी मार ली है। सपा प्रवक्ता  सुनील सिंह साजन ने सूची जारी होने के बाद कहा कि इंडिया गठबंधन भाजपा को यूपी में रोकेगा। उनका विजय रथ यूपी से शुरू हुआ है और यहीं पर रुकेगा। 

पिछले लोकसभा चुनाव में सपा ने बसपा के साथ गठबंधन किया था। तब 80 में से भाजपा को 62, बसपा  को 10, सपा को 5 सीटें मिली थीं। अपना दल ने दो सीटों पर जीत हासिल की थी। सपा की हालांकि अब तीन ही लोकसभा सीटें हैं। पांच में से दो सीटें भाजपा ने उपचुनाव में सपा से छीन ली हैं। आजमगढ़ में अखिलेश यादव के इस्तीफे के बाद भाजपा के दिनेश लाल यादव निरहुआ जीते हैं। इसी तरह रामपुर में आजम खान की सीट पर भी भाजपा का कब्जा हो गया है।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें