ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News उत्तर प्रदेशपूर्व मंत्री के नाती की तलाश में जुटी एसओजी, युवती और उसके पिता को की थी कुचलने की कोशिश 

पूर्व मंत्री के नाती की तलाश में जुटी एसओजी, युवती और उसके पिता को की थी कुचलने की कोशिश 

पूर्व मंत्री उदयभान सिंह के नाती दिव्यांश चौधरी की गिरफ्तारी के लिए एसओजी को लगाया गया है। उस पर एक युवती और उसके पिता को गाड़ी से कुचलने के प्रयास का आरोप है। युवती घटना के बाद से अवसाद में है।

पूर्व मंत्री के नाती की तलाश में जुटी एसओजी, युवती और उसके पिता को की थी कुचलने की कोशिश 
Ajay Singhहिन्‍दुस्‍तान,आगराSun, 21 Apr 2024 07:35 AM
ऐप पर पढ़ें

Agra News: पूर्व मंत्री चौधरी उदयभान सिंह के नाती दिव्यांश चौधरी की गिरफ्तारी के लिए एसओजी को लगाया गया है। उस पर एक युवती और उसके पिता को गाड़ी से कुचलने के प्रयास का आरोप है। युवती घटना के बाद से अवसाद में है। नौकरी पर वापस नहीं गई है। दिव्यांश चौधरी तक पहुंचने के लिए सर्विलांस टीम ने उसके एक दर्जन करीबियों को रडार पर लिया है। आरोपित की गिरफ्तारी न होने पर पीड़ित पक्ष आरोप लगा रहा है कि पुलिस के प्रयास में कमी है। आरोपित कोई और होता तो अब तक पकड़ गया होता।

15 अप्रैल की रात ऋषि मार्ग (शाहगंज) निवासी जूता कारोबारी विवेक महाजन और उनकी बेटी की हत्या का प्रयास हुआ था। विवेक अपनी बेटी को स्टेशन से घर लेकर पहुंचे थे। आरोप है कि दिव्यांश चौधरी ने पिता-पुत्री को कार से कुचलने का प्रयास किया था। घटना के बाद युवती के परिजनों ने हंगामा किया था। जाम लगाया था। युवती के पिता की तहरीर पर मुकदमा लिखा गया था।

डीसीपी सिटी सूरज कुमार राय ने बताया कि आरोपित की गिरफ्तारी के लिए एसओजी को लगाया गया है। विवेचक दो बार युवती से बातचीत करने गए हैं। परिजनों का कहना है कि उसकी तबियत ठीक नहीं है। इस कारण युवती के बयान दर्ज नहीं हो सके हैं। युवती के 161 के बयान दर्ज होने के बाद थाने से इनाम की संस्तुति की रिपोर्ट आएगी। विवेचक को निर्देशित किया गया है कि जल्द से जल्द युवती और उसके पिता के बयान दर्ज कर ले। सीसीटीवी फुटेज पैन ड्राइव में ले। आरोपित के खिलाफ युवती के पिता के पास जो भी साक्ष्य हैं उन्हें ले। लखनऊ में हुई घटना का भी केस डायरी में जिक्र करें। दिव्यांश चौधरी के पीछे एसओजी के लगते ही सर्विलांस सेल भी सक्रिय हो गई है। दिव्यांश चौधरी के एक दर्जन करीबी सर्विलांस सेल की रडार पर हैं।

सुरक्षा की गारंटी पर करेगी नौकरी
युवती के पिता ने बताया कि बेटी लखनऊ में नौकरी करती है। आरोपित कोई मामूली व्यक्ति नहीं है। पूर्व मंत्री का नाती है। वह बेखौफ है। पुलिस से उसे डर नहीं लगता है। पुलिसकर्मी तो उसकी सुरक्षा में लगे रहते थे। वह बेटी को तभी लखनऊ भेजेंगे जब पुलिस बेटी की सुरक्षा की गारंटी लेगी। बेटी लखनऊ गई आरोपित वहां पहुंच गया। कोई घटना कर दी तो जिम्मेदार कौन होगा। बेटी घटना के बाद से अवसाद में है। उसे लग रहा है कि उसकी वजह से पूरा परिवार परेशान हो रहा है।