DA Image
हिंदी न्यूज़ › उत्तर प्रदेश › सिख दंगा: पति की मौत की चश्मदीद से बयान लेने एसआईटी कानपुर से चेन्नई रवाना, एक साथ हुई थी दो सगे भाइयों की हत्‍या 
उत्तर प्रदेश

सिख दंगा: पति की मौत की चश्मदीद से बयान लेने एसआईटी कानपुर से चेन्नई रवाना, एक साथ हुई थी दो सगे भाइयों की हत्‍या 

वरिष्‍ठ संवाददाता ,कानपुरPublished By: Ajay Singh
Tue, 26 Jan 2021 09:48 AM
सिख दंगा: पति की मौत की चश्मदीद से बयान लेने एसआईटी कानपुर से चेन्नई रवाना, एक साथ हुई थी दो सगे भाइयों की हत्‍या 

कानपुर के चकेरी में सन 1984 में दो सगे भाइयों को दंगाइयों ने मौत के घाट उतार दिया था। उनकी पत्नियां घटना की चश्मदीद गवाह हैं। इन्हीं में से एक की पत्नी का बयान लेने के लिए एसआईटी चेन्नई रवाना हो गई है। दूसरे भाई की पत्नी लंदन में है। उसे भी खोजने का प्रयास जारी है।

सिख दंगे के दौरान जेके कॉलोनी चकेरी निवासी भाइयों नरेंदर सिंह और सुरेंदर सिंह की ईंट पत्थर से कुचलकर हत्या कर दी गई थी। उनके परिजनों ने बच्चों को लेकर दूसरे की छतों से कूद-फांदकर अपनी जान बचाई थी। इसके बाद दोनों भाइयों के परिजन शहर से पलायन कर गए। नरेंदर की पत्नी मंजीत कौर बच्चों के साथ लंदन चली गईं और सुरेंदर की पत्नी हरविंदर कौर चेन्नई में सेटल हो गईं। एसआईटी ने जब केसों के हिसाब से छानबीन शुरू की तो हरविंदर को खोज निकाला।

उनसे बात करने के बाद एक टीम चेन्नई रवाना हो गई है। एसएसपी एसआईटी के मुताबिक बयान होने के बाद इस मामले में कुछ और आरोपितों के नाम सामने आने की पूरी संभावना है। उन्होंने बताया कि फोन पर बातचीत के दौरान हरविंदर को बयान के लिए बुलाया गया था मगर उन्होंने स्वास्थ्य खराब होने की बात बताई। इसके बाद टीम को वहां भेजा गया है।

वीडियो कॉल से मंजीत के बयान लेने की कोशिश
एसएसपी एसआईटी ने बताया कि हरविंदर कौर के बयान के बाद उनसे मंजीत कौर की भी जानकारी मांगी जाएगी। उनका फोन नम्बर आदि मिलने के बाद उनसे वीडियो कॉल के जरिए बयान लेने का प्रयास किया जाएगा।

संबंधित खबरें