DA Image
5 सितम्बर, 2020|4:17|IST

अगली स्टोरी

ऐसा दिखेगा अयोध्या का भव्य राम मंदिर, प्रस्तावित मॉडल की फोटो जारी

ram janmbhoomi mandir proposed models

अयोध्या में भव्य राम मंदिर के भूमि पूजन के लिए सभी तैयारियां हो चुकी हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 5 अगस्त यानी बुधवार को विशेष मुहूर्त में भूमि पूजन करेंगे। इस बेहद ही खास मौके के लिए अयोध्या को पूरी तरह से सजा दिया गया है और सुरक्षा की चाक-चौबंद व्यवस्था की गई है। भूमि पूजन के साथ ही सबके जहन में एक सवाल उठ रहा है कि आखिर राम मंदिर दिखेगा कैसे? इस सवाल का जवाब देने की कोशिश की है श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट ने।

ट्रस्ट के आधिकारिक ट्विटर हैंडल से भव्य राम जन्मभूमि मंदिर के प्रस्तावित मॉडल के कुछ चित्र साझा किए गए हैं। मंगलवार को ट्रस्ट ने इन तस्वीरों को जारी करते हुए लिखा, 'श्री राम जन्मभूमि मंदिर विश्व में भारतीय स्थापत्य कला का अनुपम उदाहरण होगा। श्री राम जन्मभूमि मंदिर भव्यता और दिव्यता की अद्वितीय कृति के रूप में विश्व पटल पर उभरेगा।' ट्रस्ट ने कुल आठ तस्वीरें जारी की हैं। इसमें मंदिर के मॉडल के साथ ही मंदिर के अंदर और बाहर के स्वरूप की तस्वीरें हैं।

ट्रस्ट द्वारा जारी की गई तस्वीर विश्व हिंदू परिषद द्वारा प्रस्तावित मॉडल से मिलती-जुलती है। हालांकि इसमें काफी बदलाव किया गया है। शुरुआत में ही वीएचपी ने दावा किया था कि हमारे ही मॉडल के अनुसार राम मंदिर का निर्माण होगा। ट्रस्ट ने तस्वीरों को जारी कर बताने की कोशिश की है कि बन जाने के बाद भव्य राम मंदिर किस तरह दिखेगा।

साढ़े तीन साल में बनकर तैयार होगा मंदिर

बता दें कि 18 जुलाई को श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट की बैठक में राम मंदिर के प्रस्तावित मॉडल में बदलाव का फैसला किया गया था। पहले मंदिर की ऊंचाई 128 फीट तय की गई थी, जिसे बढ़ाकर 161 फीट कर दिया गया। इसके अलावा पहले गर्भगृह के पास तीन गुबंद बनाने की बात थी, लेकिन नए मॉडल में पांच गुबंद हैं। राम मंदिर करीब साढ़े तीन साल में बनकर तैयार होगा।

मंदिर परिसर में 45 एकड़ में बनेगा राम कथा कुंज

राम जन्मभूमि मंदिर के चार द्वार होंगे जो चारों दिशाओं में खुलेंगे। मंदिर में कुल तीन तल होगा। राम मंदिर परिसर में रामकथा कुंज 45 एकड़ में बनेगा। साथ ही साथ ही मंदिर परिसर में धर्मशाला और गौशाला बनाने का भी प्रस्ताव है। राम जन्मभूमि मंदिर निर्माण के लिए कई वर्षों से पत्थर इकट्ठा कर अयोध्या में रखा गया है। काफी की तराशी की जा चुकी है। पुराने पत्थरों की सफाई के लिए दिल्ली की एक कंपनी को जिम्मा दिया गया है।

यह भी पढ़ें- अयोध्या राम मंदिर भूमि पूजन : रामजन्म भूमि संघर्ष यात्रा के 70 साल, जानिए पांच अहम पड़ाव

बता दें कि राम जन्मभूमि मंदिर के भूमि पूजन के लिए बुधवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अयोध्या पहुंचेंगे। उनके स्वागत के लिए 5100 कलश तैयार किए गए हैं। आज और कल अयोध्या में उन कलशों में दीप जलाए जाएंगे। मुख्य पूजन प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ही निर्धारित शुभ मुहूर्त में करेंगे। यह मुहूर्त 32 सेंकेड का है, जो मध्याह 12 बजकर 44 मिनट आठ सेकेंड से लेकर 12 बजकर 44 मिनट 40 सेकेंड के बीच है। बताया गया कि षोडश वरदानुसार 15 वरद में ग्रह स्थितियों का संचरण शुभ और अनुकूलता प्रदान करने वाला है।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:shri ram janmabhoomi teerth kshetra trust releases pictures of the proposed ram mandir models in ayodhya ahead of ram mandir bhoomi pujan