ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News उत्तर प्रदेशएनसीआर  की तर्ज पर बनेगा SCR का प्‍लान, CM योगी ने देखा प्रजेंटेशन; ऐसा होगा 2031 का मास्‍टर प्‍लान

एनसीआर  की तर्ज पर बनेगा SCR का प्‍लान, CM योगी ने देखा प्रजेंटेशन; ऐसा होगा 2031 का मास्‍टर प्‍लान

सीएम योगी आदित्‍यनाथ ने अधिकारियों को निर्देश दिया है कि स्टेट कैपिटल रीजन की तर्ज पर वाराणसी को केंद्र में रखते हुए सीमावर्ती जिलों को जोड़कर एक ‘रीजनल डेवलपमेंट प्लान’ तैयार करें।

एनसीआर  की तर्ज पर बनेगा SCR का प्‍लान, CM योगी ने देखा प्रजेंटेशन; ऐसा होगा 2031 का मास्‍टर प्‍लान
Ajay Singhविशेष संवाददाता,लखनऊSun, 25 Feb 2024 09:50 AM
ऐप पर पढ़ें

Master plan of cities of UP: मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने निर्देश दिए हैं कि स्टेट कैपिटल रीजन की तर्ज पर वाराणसी को केंद्र में रखते हुए सीमावर्ती जनपदों को जोड़कर एक ‘रीजनल डेवलपमेंट प्लान’ तैयार किया जाए। इस संबंध में विस्तृत कार्ययोजना तैयार कर यथाशीघ्र प्रस्तुत करें, साथ ही लखनऊ जिले की सीमा तक लखनऊ विकास प्राधिकारण का विस्तार किया जाए। मुख्यमंत्री ने निर्देश दिए हैं कि महायोजना में कई गांव शामिल हुए हैं। ध्यान रखें कि आबादी की भूमि ग्रीन लैंड में नहीं शामिल नहीं होगी।

मुख्यमंत्री ने शनिवार को बैठक में रामनगर (वाराणसी), मुरादाबाद, हापुड़, रायबरेली, बरेली और लखनऊ की महायोजना-2031 का प्रस्तुतीकरण देखा। मुख्यमंत्री ने निर्देश दिए कि महायोजना लागू करने में अब देर न हो, जनप्रतिनिधियों, वरिष्ठ अधिकारियों से संवाद कर यथाशीघ्र इसे लागू किया जाए। बहुत से गांव अब नगरीय महायोजना का हिस्सा बने हैं, यह ध्यान रखें कि इन गांवों को ग्रीन लैंड के रूप में घोषित न किया जाए। आबादी की भूमि ग्रीन लैंड नहीं होगी। मुख्यमंत्री ने निर्देश दिए कि मुरादाबाद के नए मास्टर प्लान में औद्योगिक और व्यावसायिक क्षेत्रों को और विस्तार दें।

लखनऊ जिले तक हो एलडीए की सीमा
मुख्यमंत्री ने निर्देश दिए हैं कि लखनऊ विकास प्राधिकरण की सीमा को पूरे लखनऊ जनपद तक विस्तार दिया जाए। इसके अतिरिक्त, स्टेट कैपिटल रीजन डेवलपमेंट अथॉरिटी का गठन हो रहा है। इन प्रयासों से राज्य राजधानी क्षेत्र में सुनियोजित और सुस्थिर विकास को गति मिलेगी। मुख्यमंत्री ने निर्देश दिए हैं कि भूमि प्रयोग के बारे में जानकारी सार्वजनिक होनी चाहिए।

विकास प्राधिकरण बढ़ाएं अपनी आय के स्रोत
मुख्यमंत्री ने निर्देश दिए कि विकास प्राधिकरणों को नई संभावनाएं तलाशनी होंगी। नगर निगम के बाहर विस्तार लेना होगा। अपना दायरा बढ़ाएं। आय के नए स्रोत सृजित करें। धार्मिक-आध्यत्मिक स्थलों के विकास को महायोजना का हिस्सा बनाएं। इंडस्ट्रियल एरिया में काम करने वाले श्रमिकों को समीप में ही आवासीय सुविधा भी उपलब्ध कराने के प्रयास होने चाहिए ।

रायबरेली एम्स को करें महायोजना में शामिल
मुख्यमंत्री ने निर्देश दिए कि नगरों में यातायात प्रबंधन एक महत्वपूर्ण विषय है। हमें इसके लिए ठोस प्रयास करने की आवश्यकता है। टैक्सी-ऑटो स्टैंड और स्ट्रीट वेंडर ज़ोन तय होने चाहिए। मल्टीलेवल पार्किंग के लिए उपयुक्त स्थान निर्धारित करें। सीएम ने कहा, इसी के साथ रायबरेली में एम्स की सुविधा है। इसे इस बार महायोजना का हिस्सा बनाएं। नगर में नए टाउनशिप का विकास हो।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें