ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News उत्तर प्रदेशभीषण गर्मी में नशा मुक्त और विश्व शांति के लिए धूनी जलाकर तपस्या कर रहे थे संत, मौत

भीषण गर्मी में नशा मुक्त और विश्व शांति के लिए धूनी जलाकर तपस्या कर रहे थे संत, मौत

यूपी के संभल में नशा मुक्त और विश्व शांति के लिए धूनी जलाकर तपस्या कर रहे संत की हालत बिगड़ने के बाद मौत हो गई। भीषण गर्मी में संत की मौत की खबर से जिला प्रशासन में हड़कंप मच गया।

भीषण गर्मी में नशा मुक्त और विश्व शांति के लिए धूनी जलाकर तपस्या कर रहे थे संत, मौत
scorching heat saint was doing penance by burning smoke to become drug-free and for world peace died
Dinesh Rathourहिन्दुस्तान,संभलSun, 26 May 2024 02:36 PM
ऐप पर पढ़ें

यूपी के संभल में नशा मुक्त और विश्व शांति के लिए धूनी जलाकर तपस्या कर रहे संत की हालत बिगड़ने के बाद मौत हो गई। भीषण गर्मी में संत की मौत की खबर से जिला प्रशासन में हड़कंप मच गया। संत की मौत की सूचना पर सीडीओ जिला अस्पताल पहुंचे, पूरे मामले की जानकारी ली। उधर पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है।

अमेठी निवासी संत पागल बाबा ने संभल एसडीएम विनय कुमार मिश्र से 23 से 27 मई तक की अनुमति लेकर बेनीपुर गांव में धूनी जलाकर तपस्या शुरू की थी। संत तपस्या में लीन थे, इसी दौरान रविवार को भयंकर गर्मी होने के चलते सुबह करीब दस बजे संत की अचानक हालत बिगड़ गई। सेवादार गजराज सिंह संत को जिला अस्पताल लेकर पहुंचे। जहां चिकित्सक ने संत को मृत घोषित कर दिया। सूचना पाकर सीडीओ भरत कुमार मिश्र भी जिला अस्पताल पहुंचे और चिकित्सक से जानकारी ली।

संभल में पारा 46 डिग्री पार, गर्मी ने झुलसाया

नौतपा की शुरुआत में गर्मी ने अपना असर दिखा दिया। संभल में इन दिनों दिन का तापमान 46.2 डिग्री सेल्सियस पहुंच गया। शहर से देहात तक मौसम की मार दिखी। लोग पसीना से तर-बतर रहे और दोपहर में सड़कों पर सन्नाटा पसर गया। नौतपा दो जून तक रहेगा। इसमें सूर्य देव शुक्रवार की मध्य रात्रि 3 बजकर 16 मिनट को कृतिका नक्षत्र से निकलकर रोहिणी नक्षत्र में प्रवेश कर गए हैं। यहां 7 जून की मध्य रात्रि 1 बजकर 06 मिनट तक रहेंगे। उसके बाद मृगशिरा नक्षत्र में प्रवेश कर जाएंगे। नौतपा के दौरान सूर्य धरती के काफी नजदीक आ जाते हैं, जिससे झुलसाने वाली गर्मी पड़ती है। ज्योतिर्विद पंडित शोभित शास्त्री ने बताया कि इस दौरान सूर्य का ताप इतना बढ़ जाता है कि शरीर को झुलसाने लगता है। भीषण गर्मी पड़ने का मतलब अच्छी बारिश के संकेत हैं। शनिवार को जिलेभर में झुलसाने वाली गर्मी पड़ी। जिससे लोग ही नहीं बल्कि पशु पक्षी भी बेहाल हो उठे। शनिवार को पारा 46.2 डिग्री सेल्सियस पहुंच गया। दोपहर के समय सड़कों पर सन्नाटा पसरा रहा। लोग जरूरी कामों से ही घरों से निकले।