DA Image
हिंदी न्यूज़ › उत्तर प्रदेश › सीएम योगी का आदेश: यूपी में पांच अगस्त से डिग्री कॉलेज में शुरू होगा एडमिशन,एक सितंबर से चलेंगी क्लास
उत्तर प्रदेश

सीएम योगी का आदेश: यूपी में पांच अगस्त से डिग्री कॉलेज में शुरू होगा एडमिशन,एक सितंबर से चलेंगी क्लास

लाइव हिन्दुस्तान टीम ,लखनऊPublished By: Amit Gupta
Mon, 02 Aug 2021 02:50 PM
सीएम योगी का आदेश: यूपी में पांच अगस्त से डिग्री कॉलेज में शुरू होगा एडमिशन,एक सितंबर से चलेंगी क्लास

यूपी में 16 अगस्त से आधी क्षमता के साथ स्कूल खुल जाएंगे। सीएम योगी ने लखनऊ में टीम-9 के साथ बैठक में यह आदेश दिया है। स्कूलों के लिए जल्द  ही गाइडलाइन्स जारी होंगी। उच्च शिक्षण संस्थानों में एक सितंबर से कक्षाएं शुरू होंगी। 5 अगस्त से कॉलेज में दाखिले की प्रक्रिया शुरू करने के लिए सीएम योगी ने निर्देश दिए हैं।  

तैयारी शुरू करने के आदेश:

सीएम योगी ने कहा कि  कोरोना संक्रमण की नियंत्रित स्थिति को दृष्टिगत रखते हुए सभी शिक्षण संस्थानों में नवीन सत्र प्रारंभ करने की तैयारी की जाए। सभी बोर्डों के हाईस्कूल और इंटरमीडिएट के परिणाम घोषित हो चुके हैं। ऐसे में स्नातक स्तर पर दाखिले की प्रक्रिया 05 अगस्त से प्रारंभ कर दी जानी चाहिए। माध्यमिक शिक्षण संस्थानों में भी जिन विद्यार्थियों को अगली कक्षा में प्रोन्नत किया गया है, उनके दाखिले की प्रक्रिया भी शुरू कर दी जाए। इन विद्यार्थियों की कक्षाएं स्वाधीनता दिवस की तिथि से शुरू हों। स्वाधीनता दिवस के दिन "स्वतंत्रता के अमृत महोत्सव" से जोड़ कर आयोजन हों। 16 अगस्त से आधी क्षमता के साथ पठन-पाठन प्रारम्भ हों। उच्च शिक्षण संस्थानों में पठन-पाठन प्रत्येक दशा में एक सितंबर से प्रारम्भ करने की तैयारी की जाए।

सैनिटाइजर, इंफ्रारेड थरमामीटर, मास्क जरूरी: 

 शिक्षण संस्थानों में अध्ययन/अध्यापन प्रारंभ होने के दृष्टिगत सैनिटाइजर, इंफ्रारेड थरमामीटर, मास्क आदि की समुचित व्यवस्था सुनिश्चित कर ली जाए। दो गज की दूरी की अनिवार्यता के अनुरूप व्यवस्था की जाए। प्रत्येक संस्थान में कोविड प्रोटोकॉल का कड़ाई से अनुपालन हो। शिक्षण संस्थानों के प्रारंभ होने के साथ 18 वर्ष से अधिक आयु के विद्यार्थियों के टीकाकरण के विशेष शिविर लगाया जाना उचित होगा। स्वास्थ्य विभाग द्वारा इस संबंध में पहले से ही सभी जरूरी तैयारी कर ली जाए। सभी परिषदीय विद्यालयों में स्वच्छता/सैनीटाइजेशन कराई जाए। शौचालयों की साफ-सफाई हो। कक्षाएं भी स्वच्छ रहें। बेसिक शिक्षा विभाग से समन्वय बनाकर  ग्राम्य विकास एवं पंचायती राज विभाग द्वारा इस संबंध में आवश्यक कार्यवाही की जाए।

संबंधित खबरें